साड़ियों के लिए भारतीय महिलाओं का प्यार विश्व प्रसिद्ध है। महिला कितनी भी आधुनिक या युवा क्यों न हो, उनकी अलमारी में कम से कम एक साड़ी तो हमेशा आपको देखने को मिल ही जाएगी। साड़ियों से महिलाओं का बहुत लगाव होता है, खासकर त्योहार या पारंपरिक अवसर के दौरान वह साड़ी पहनना बहुत पसंद करती हैं। 

साड़ी में महिला इतनी सुंदर लगती है कि हर किसी का ध्यान उनकी ओर जाता है। साउथ इंडियन साड़ियां भारतीय महिलाओं के बीच बेहद लोकप्रिय है। साउथ के खजाने को दुनिया भर में हर भारतीय महिला अपनी अद्वितीय सुंदरता के लिए पसंद करती है। उत्सव की शुभता का प्रतीक, साउथ इंडियन सिल्‍क साड़ि‍यों को महत्वपूर्ण अवसरों के लिए संरक्षित किया जाता है। इसलिए आज हम आपको 5 साउथ इंडियन साड़ियों के बारे में बता रहे हैं जिन्‍हें पहनकर आप दिवाली के मौके पर बेहद सुंदर दिख सकती हैं।

कांजीवरम सिल्क साड़ी

Kanjeevaram Silk Saree rekha

ट्रेडिशनल दिखने वाली सिल्‍क की साड़ियां शानदार ज़री के काम के साथ शुद्ध सिल्‍क से बनी होती हैं जो बेहद जटिल और समृद्ध होती हैं। हालांकि, यह थोड़ी महंगी होती हैं लेकिन उन सभी महिलाओं को बेहद पसंद आती है जो सिल्‍क की साड़ियों को इकट्ठा करना पसंद करती हैं। 

यह, निस्संदेह, दुनिया में सबसे अधिक पसंद की जाने वाली सिल्‍क साड़ियों में से एक है। यहां तक कि ऐश्वर्या राय ने भी अपनी शादी में इसे पहना था। ये आमतौर पर रेड, ऑर्रेंज, येलो और गोल्‍डन जैसे समृद्ध रंगों में आती हैं। कांजीवरम साड़ी सिल्‍क हाई क्वालिटी के साथ बनाई जाती है और हमेशा स्‍टाइल में रहती है। यह एक ऐसा निवेश है जिसका आपको कभी पछतावा नहीं होगा।

इसे जरूर पढ़ें:इस बार ट्राई करें ये 5 साउथ इंडियन साड़ियां, आपके सामने हर कोई लगेगा फीका

मैसूर सिल्क साड़ी

Mysore Silk Saree

मैसूर सिल्‍क 18वीं शताब्दी से फेमस है। इसके जटिल जरी के काम के कारण इसे पसंद किया जाता था। इन साड़ियों को उनके न्यूनतम डिजाइन के साथ पहनना बहुत आसान है और इस प्रकार देश के विभिन्न हिस्सों की सभी महिलाओं के बीच यह काफी फेमस है।

जी हां, भारत के दक्षिणी भाग से सबसे ज्‍यादा डिमांड वाले सिल्‍क में से एक, मैसूर सिल्‍क को पहनने से आपको हैवी और ट्रेडिशनल लुक मिलता है। आमतौर पर इसका वजन 400-600 ग्राम के बीच होता है और इसकी कीमत वजन पर निर्भर करती है। यह उन कुछ सिल्‍क में से एक है जिसमें समय के साथ कुछ बदलाव आए हैं और इसलिए यह बहुत फेमस बना हुआ है। ब्राइट कलर्स में उपलब्ध, ये साड़ियां प्‍लेन या कढ़ाई वाली हो सकती हैं। दिवाली के मौके पर आप भी इसे पहनकर बेहद खूबसूरत दिख सकती हैं।

कवासु कॉटन साड़ी

Kerala Kavasu Cotton Saree

कसावु साड़ी एक फेमस साउथ इंडियन साड़ी है। केरल की कॉटन साड़ी अपनी सादगी और शान के कारण काफी फेमस है। यह गोल्डन ज़री बॉर्डर वाली सफेद या क्रीम साड़ी है और केरल में त्योहारों और विशेष अवसरों के दौरान महिलाएं इसे जरूर पहनती हैं। ब्लाउज का रंग महिलाओं की उम्र और लाइफ स्‍टेज पर निर्भर करता है।

कवासु साड़ियों को ब्लॉक प्रिंटिंग तकनीक से बनाया जाता है और उन पर हल्का काम किया जाता है। केरल की हैडलूम साड़ियां अब पूरे देश में फेमस हो गई हैं और सिंपल और स्‍टाइलिश दिखने के लिए बहुत सी महिलाएं इन्‍हें पहनना पसंद करती हैं। साड़ी देश भर में केरल के हैंडलूम स्टोर्स पर उपलब्ध है।

गोल्लभामा साड़ी

Gollabhama Saree

तेलंगाना की गोल्लभामा साड़ियां हाथ की बुनाई के कारण काफी फेमस है। इनकी लोकप्रियता का कारण उनका बुनाई पैटर्न है जो एक कहानी बताता हुआ दिखता है। इन साड़ियों को बुनने में कपास के बीज मूल घटक होते हैं। ट्रेडिशनल गोल्‍लभामा साड़ी में पल्लू पर पानी का एक बर्तन ले जाने वाली महिला को दर्शाती सुंदर कढ़ाई होती है। ट्रेडिशनल हाथ से बुनी हुई साड़ियां फेस्टिव सीजन के साथ-साथ नॉर्मल फंग्‍शन के लिए भी बेहद फेमस होती हैं।

धारवाड़ कॉटन साड़ी

Dharwad Cotton Saree

धारवाड़, कर्नाटक की इन साड़ियों को बुनने के लिए मूल घटक स्‍पेशल देसी कॉटन है। वे अपने रंगों के कारण अद्वितीय हैं और पहनने में बहुत सॉफ्ट होती हैं। कई रंगों और डिज़ाइन को पसंद करने वाली महिलाओं के लिए यह एक अच्छा बदलाव है।

इसे जरूर पढ़ें:साड़ी में दिखना है स्टाइलिश, तो अलग अंदाज में करें इसे ड्रेप

Recommended Video

गडवाल साड़ी

Gadwal sarees

गडवाल साड़ियों को आंध्र प्रदेश की महिलाओं द्वारा फेमस बनाया गया था। ये साउथ इंडियन साड़ियां कॉटन और सिल्‍क के विशेष मिश्रण से बनाई जाती हैं। इनका कपड़ा कॉटन का होता है और काम मलबेरी या टसर सिल्‍क का इस्‍तेमाल करके किया जाता है। 

गडवाल सिल्क हों, गडवाल कॉटन या गडवाल सिल्क कॉटन साड़ियां - ये साड़ियां अपने बेहतरीन ज़री वर्क के लिए सबसे अलग हैं। और क्यों नहीं? आखिरकार, यह सभी काम हाथों से किया जाता है। गडवाल साड़ियां अपने आप में अनूठी हैं क्योंकि प्रक्रिया अभी तक मशीनीकृत नहीं हुई है और आप अभी भी पूरे परिवार को वैश्विक प्रशंसा के योग्य बनाने के लिए एक साथ काम करते हुए पाएंगे। यह तकनीक एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी को हस्तांतरित होती रहती है।

आप भी दिवाली के मौके पर सबसे खूबसूरत दिखने के लिए इन साउथ इंडियन साड़ियों को ट्राई कर सकती हैं। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए हरजिंदगी से जुड़ी रहें। 

Image Credit: Pinterest & Amazon