बेल का फल एक मीठा, सुगंधित फल है जो कि बेल के पेड़  पर उगता है। ये भारत और दक्षिण पूर्व एशिया में मूल रूप से पाया जाता है। इस फल का इस्तेमाल आमतौर पर ताजा, सूखे, रस या शरबत के रूप में किया जाता है। बेल फल खाने में जितना स्वादिष्ट होता है, उतने ही उसके स्वास्थ्य के लिए फायदे भी हैं। बेल फल मुख्य रूप से कार्बोहाइड्रेट से बना होता है। 

कार्बोहाइड्रेट के अलावा बेल फल में मुख्य रूप से पानी का 55% से 60 %) पाया होता है। बेल फल में विटामिन सी, बीटा कैरोटीन और कुछ विटामिन बी तत्व मौजूद होते हैं। इसमें पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, जस्ता, तांबा और आयरन जैसे कई पोषक तत्व भी मौजूद होते हैं। आइए नई दिल्ली की जानी मानी डॉक्टर आकांक्षा अग्रवाल (BHMS) से जानें बेल के स्वास्थ्य से जुड़े फायदों के बारे में। 

पाचन में सहायक 

bel improve digestion

बेल फल पाचन के लिए मुख्य रूप से फायदेमंद है। बेल का इस्तेमाल गर्मियों में ठंडक प्रदान करता है और पाचन में मुख्य भूमिका निभाता है।  पाचन मुद्दों के उपचार के लिए आयुर्वेद में उपयोग करने और वायरस, कवक और बैक्टीरिया से संक्रमण का मुकाबला करने में यह फल मुख्य भूमिका निभाता है। बेल फल से निकाले गए यौगिक खतरनाक बैक्टीरिया से लड़ने में शक्तिशाली प्रभाव दिखाते हैं। बैक्टीरिया शिगेला पेचिश बृहदान्त्र में कोशिकाओं को बांधता है, जिससे दस्त, बुखार और पेट दर्द होता है। बेल फल इस बैक्टीरिया से बचाव करके दस्त से छुटकारा दिलाता है। 

त्वचा के संक्रमण से बचाए 

skin problem bael

जीवाणुरोधी प्रभावों के साथ, बेल फल की जड़ों और पत्तियों के अर्क में एंटीफंगल और एंटीवायरल क्षमताएं भी होती हैं। बेल का पत्ता आम प्रकार के कवक को रोकता है जो त्वचा को संक्रमित करता है। बेल फल त्वचा संक्रमण से लड़ने के लिए उपयोगी यौगिकों से युक्त होता है। इस फल का सेवन त्वचा को भीतर से साफ़ करके त्वचा में निखार लाता है। 

कैल्शियम से भरपूर 

बेल में मौजूद दूसरा प्रचुर मात्रा में कैल्शियम हड्डियों की सेहत के लिए महत्वपूर्ण है। यह दांतों, हड्डियों को मजबूत बनाने और ऑस्टियोपोरोसिस को रोकता है। यह चोटों के मामले में रक्त के नुकसान को नियंत्रित करने में भी एक प्रमुख भूमिका निभाता है।

कैंसर के खतरे को कम करे 

prevents cancer bael

बेल फल के अर्क में एंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो मुक्त कणों, विशेष रूप से नाइट्रिक ऑक्साइड से भरपूर होता । कैंसर के विभिन्न रूप मुक्त कणों द्वारा कोशिकाओं को हुए नुकसान के कारण होते हैं। हालांकि बेल फल कैंसर का उपचार नहीं है लेकिन से कैंसर सेल के निर्माण को रोकने में और कैंसर की बीमारी के खतरे को कम करने में मदद करता है।

Recommended Video

आयरन से भरपूर 

लोहे का एक समृद्ध स्रोत होने के नाते बेल प्राकृतिक रक्त शोधक के रूप में कार्य करता है और रक्त में लाल रक्त कोशिका और हीमोग्लोबिन की संख्या बढ़ाता है। एनीमिया से पीड़ित लोगों के लिए यह बेहद फायदेमंद है। इसे डाइट में शामिल करने से अनीमिया की बीमारी का खतरा कम हो जाता है। यह फल विटामिन ए, बी और सी का एक समृद्ध स्रोत है और इन मल्टीविटामिन्स की उपस्थिति आंखों की समस्याओं, पाचन विकार, हृदय रोगों, त्वचा रोगों के उपचार में सहायक होता है। 

मधुमेह नियंत्रण में सहायक 

diabetes control

बेल फल का सेवन मधुमेह रोग को नियंत्रित करने में सहायक होता है। बेल के पेड़ की छाल और शाखाओं में मौजूद सक्रिय घटक "फेरोनिया गम" में मधुमेह को नियंत्रित करने में सहायक गुण पाए जाते हैं। यह कोशिकाओं से रक्त प्रवाह में इंसुलिन के उत्पादन को नियंत्रित करता है और बाएल का कम ग्लाइसेमिक सूचकांक रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखता है। 

इसे जरूर पढ़ें:चेरी फल के सेहत से जुड़े कुछ ऐसे फायदे जो आपने पहले नहीं सुने होंगे, डाइट में जरूर करें शामिल

एंटीऑक्सिडेंट का पावरहाउस

bael fruit benefits

फ्लेवोनोइड्स जैसे फाइटोकेमिकल्स की उच्च सामग्री बेल के एंटीऑक्सीडेंट गुणों के लिए एक विशेषता है जो इसे दिल और पेट की बीमारियों के खिलाफ एक शक्तिशाली फल के रूप में कार्य करता है।उच्च कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और विभिन्न संक्रमणों के खिलाफ लड़ने में भी उपयोगी है।

गर्मियों में किसी न किसी रूप में बेल का सेवन जरूर करना चाहिए। इसके सेवन से शरीर की कई समस्याओं से निजात पाया जा सकता है। लेकिन स्वास्थ्य संबंधी कोई अन्य बीमारी होने पर इसके इस्तेमाल से पहले विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें। इसी तरह के अन्य रोचक लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit:  freepik and shutterstock