• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

ताजमहल के उद्घाटन में क्या सच में शाहजहां को परोसा गया था कोरमा? जानें इससे जुड़े रोचक किस्से

क्या आपको पता है कोरमा बनाना कैसे शुरू हुआ था? किसने इसका आविष्कार किया और यह कैसे अस्तित्व में आया? नहीं, तो इस आर्टिकल को जरूर पढ़ें।   
author-profile
Published -15 Jul 2022, 17:33 ISTUpdated -15 Jul 2022, 18:26 IST
Next
Article
history and origin of korma

मुगलई व्यंजनों में एक ऐसी डिश है जिसे खूब पसंद किया जाता है। कोरमा वो मुगलई डिश है जिसे भारतीय करी का राजा कहा जाता है। पारंपरिक जड़ों की बात करें तो कोरमा मीट (चिकन या मटन) को सब्जियों, तमाम मसालों, दही से मैरिनेट करके पकाया जाता था। वक्त के साथ-साथ इसमें बदलाव हुए और नॉन-वेज ही नहीं, बल्कि वेज कोरमा भी बनने लगा। ऐसा भी कहा जाता है कि इसे ताजमहल के उद्घाटन में शाहजहां और उनके मेहमानों को भी कोरमा परोसा गया था। चलिए आपको इसके बनने की कहानी और किस्से बताएं।

कैसे अस्तित्व में आया कोरमा?

what is history behind korma

ऐसा माना जाता है कि कोरमा का संबंध तुर्की से है। कोरमा एक तुर्की शब्द 'कवीरमा' से लिया गया जिसका ताल्लुक अरबी और उर्दू भाषा से है। वहां पर कवीरमा एक तले हुए मीट की डिश हुआ करती है और इसी तरह की एक अन्य डिश जिसे ड्राई फ्रूट्स और खट्टे अंगूर के जूस के साथ बनाया जाता है अजरबाइजान में भी बहुत लोकप्रिय है। फिर इसी तरह से पर्सिया में खोरेश नामक डिश पॉपुलर है, जिसे सब्जियों, हर्ब्स और राजमा से बनाया जाता रहा है। 

इस तरह कोरमा 18वीं सदी के अंत में कोरमा रॉयल मेन्यू में शामिल हो गया था। मुगल साम्राज्य के खत्म होने के बाद भी इसका रुतबा कम नहीं हुआ और इसे उपमहाद्वीप के सांस्कृतिक केंद्रों तक ले जाया गया। इस आइकॉनिक रेसिपी ने कई दस्तरख्वान की रौनक बढ़ाई।

इसे भी पढ़ें: घर पर आप भी बनाएं कटहल का कोरमा, करेंगे सभी पसंद

रामपुर के नवाब के यहां था कोरमा बनाने वाला खानसामा

कंटेम्पररी कोरमा व्यंजनों में चाहे वह वेज हो या नॉन-वेज, क्रीम और नारियल के दूध का उपयोग कर बनाई जाती है, लेकिन इसका सबसे अच्छा स्वाद दही के साथ बने और कैरेमलाइज्ड प्याज, साबुत गरम मसाला से ही आता है। मुगल दरबार में कोरमा इतना पसंद किया जाता था कि 1865 से 1887 तक रामपुर रियासत के नवाब हाजी नवाब कल्ब अली खान बहादुर कि रसोई में एक खानसामा सिर्फ और सिर्फ मुर्ग कोरमा बनाता था। रामपुरी कोरमा आज भी अपने नाम की वजह से बहुत लोकप्रिय है। रामपुरी कोरमा का एक विशिष्ट स्वाद रहता है। कुछ सुगंधित मसालों के साथ क्रीम का टेक्सचर डिश को रिच बनाता है। आज भी इसका वही स्वाद बरकरार है।

शाहजहां से भी रहा है संबंध

mutton korma shahjahani

मुर्ग कोरमा शाहजहां को भी बेहद पसंद था। कई तथ्य इस बात का जिक्र करते हैं कि जब शाहजहां ने ताजमहल बनावाया। उस दौरान भी उन्हें कोरमा सर्व किया गया था। कहा जाता है कि ताजमहल के उद्घाटन के दौरान शाहजहां के सभी रॉयल गेस्ट के लिए स्पेशल मुर्ग कोरमा तैयार किया गया था। इसी तरह जब मटन कोरमा बनाया गया तो उसकी रेसिपी शाहजहां के किचन में तैयार हुई। इसी तरह मटन कोरमा शाहजहां के नाम पर बना और यह मटन कोरमा शाहजानी के नाम से प्रसिद्ध हुआ।

इसे भी पढ़ें: जानें पंजाब के उस अमृतसरी कुलचे की कहानी जो था शाहजहां को खूब पसंद

उपमहाद्वीप में कोरमा के तीन प्रकार लोकप्रिय हैं-

  • नॉर्थ इंडिया में कोरमा बनाने के लिए दही, प्यूरी बादाम, काजू और क्रीम के साथ बनाया जाता है।
  • कश्मीरी कोरमा डिश को बनाने के लिए सौंफ, हल्दी, इमली और सूखे कॉक्सकॉम्ब फूलों का उपयोग किया जाता है।
  • साउथ इंडियन स्टाइल में कोरमा बनाते हुए फ्रेश नारियल और नारियल दूध को मिलाकर रिच क्रीमी करी तैयार की जाती है। 

आपको कोरमा किस स्टाइल में ज्यादा पसंद है, हमें भी कमेंट कर बताएं। साथ ही अगर आपको यह कोरमा के इतिहास के बारे में यह जानकारी पसंद आई तो इसे लाइक और शेयर करें। इस तरह पकवानों के रोचक किस्सों के लिए पढ़ते रहें हरजिंदगी। 

Image Credit : Shutterstock, thefoodxp, myfoodstory,dinnerthendessert

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।