अब जब मौसम बदलने लगा है, तो हम सभी के खानपान के तरीकों में भी बदलाव देखा जा रहा है। कुछ ऐसे ड्रिंक्स जिन्हें खासतौर से गर्मियों में पीना ही लोग पसंद करते हैं, उनका लुत्फ उठाना फिर से शुरू कर दिया है। इन ड्रिंक्स में सबसे पहले नाम आता है मिल्क शेक और स्मूदी का। यह ऐसे ड्रिंक्स हैं, जो बच्चों से लेकर बड़ों तक के मन को भाते हैं। ना जाने क्यों, इन्हें पीने के बाद मन में एक हैप्पीनेस आती है। हालांकि यह दोनों ड्रिंक्स एक-दूसरे से काफी अलग हैं, लेकिन फिर भी महिलाएं इन्हें एक ही समझने की भूल कर बैठती हैं। इतना ही नहीं, अगर कोई आपसे पूछे कि मिल्कशेक और स्मूदी में क्या फर्क है तो शायद आपके पास इसका कोई भी जवाब ना हो।

मिल्क शेक एक डेयरी बेस्ड ड्रिंक है, जो वास्तव में दूध, फल, आईसक्रीम और फ्लेवर्ड सिरप की मदद से तैयार किए जाते हैं। जबकि स्मूदी विशेष रूप से फलों के साथ बनाई जाती है, जिसमें दूध, दही व व सीड्स आदि इंग्रीडिएंट को शामिल किया जाता है। इतना ही नहीं, मिल्कशेक का सेवन एक मील की तरह नहीं किया जा सकता, जबकि स्मूदी को मील रिपलेसमेंट के रूप में शामिल किया जा सकता है, क्योंकि यह मिनरल्स व विटामिन्स से प्रचुर होते हैं। हालांकि इनके बीच अंतर सिर्फ यही तक सीमित नहीं है। तो चलिए आज हम आपको बताते हैं कि स्मूदी और मिल्कशेक में वास्तव में क्या फर्क है-

इसे भी पढ़ें: Muesli recipes: Muesli से बनाएं ये 3 टेस्टी रेसिपीज और नाश्ते में पाएं नया ट्विस्ट

स्मूदी

difference between milkshake and smoothie Inside

यह ड्रिंक दही, फल, बीज और प्यूरी को मिलाकर बनाया जाता है। इसके स्मूद टेक्सचर और कंसिसटेंसी के कारण ही इसे स्मूदी कहा जाता है। स्मूदी को भोजन के रिपलेसमेंट के रूप में पिया जा सकता है और यह पेट के लिए काफी लाइट माना जाता है। स्मूदी का सेवन करने से आपको पेट फुल भी महसूस होता है और शरीर के लिए जरूरी कई पोषक तत्व भी मिल जाते हैं। इसलिए इसकी गिनती हेल्दी ड्रिंक के रूप में होती है। इस ड्रिंक को बनाने के लिए मुख्य रूप से फल को बर्फ के साथ ब्लेंड किया जाता है।

Recommended Video

इतना ही नहीं, अगर आप लैक्टोज इनटॉलरेंस के कारण मिल्क शेक का सेवन नहीं कर सकतीं तो स्मूदी का सेवन करना एक अच्छा ऑप्शन है। स्मूदी बनाते समय आप कई  फ्लेवर और योगर्ट को इस्तेमाल करके स्मूदी को अलग-अलग स्वाद दे सकती हैं। इसके अलावा, स्मूदी कार्ब्स से भरपूर होती हैं और वसा में कम होती हैं क्योंकि वे असली फलों और सब्जियों की मदद से बनाई जाती हैं।

इसे भी पढ़ें: खाने की इन चीज़ों में रखें कुछ बातों का खास ख़्याल

मिल्कशेक 

difference between milkshake and smoothie Inside

मिल्कशेक को आमतौर पर दूध और आइसक्रीम की मदद से बनाया जाता है और इसमें फलों के अलावा एडेड  फ्लेवर का भी इस्तेमाल किया जाता है। मिल्कशेक को मीठा बनाने के लिए असली फलों के अलावा चॉकलेट या स्ट्रॉबेरी सिरप, माल्ट सिरप, चीनी सिरप आदि का सहारा लिया जाता है। यह एक स्वीट ड्रिंक है जिसमें स्मूदी की तुलना में डेयरी सामग्री अधिक होती है। इसे और भी अधिक टेस्टी बनाने के लिए कटे हुए फल, व्हिप्ड क्रीम, कैंडी व नट्स आदि का इस्तेमाल किया जाता है। इस तरह मिल्कशेक में फैट व शुगर कंटेंट काफी अधिक होता है।

इस तरह अगर देखा जाए तो मिल्कशेक डेयरी और क्रीम से ही बना है, जबकि स्मूदी मिल्कशेक की तुलना में थिक होती है और इसमें फ्रूट जूस और दही का इस्तेमाल किया जाता है।

Image Credit: (@freepik,blogscdn.thehut.net)