• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile
  • Hema Pant
  • Editorial

जानें 'दोपहर की चाय' कैसे बनी आम लोगों के जीवन का हिस्सा

क्या आप भी दोपहर की चाय की चुस्की लेते हैं?  लेकिन क्या आप जानते हैं यह किस तरह ट्रेडिशन का हिस्सा बना। 
author-profile
  • Hema Pant
  • Editorial
Published -27 May 2022, 18:17 ISTUpdated -27 May 2022, 19:15 IST
Next
Article
how afternoon tea became tradition

चाय और महबूबा एक जैसे होते हैं। जिस तरह इंसान अपने महबूब से दूर नहीं रह सकता है, उसी तरह लोगों के दिन की शुरुआत बिना चाय पीए नहीं होती है। दूसरे शब्दों में यह कहा जा सकता है कि हर खुशी, गम और सिरदर्द में बाम कम चाय ज्यादा पी जाती है।

चाय का इतिहास बेहद पुराना है। उसी तरह आपने दोपहर की चाय के बारे में जरूर सुना होगा? लेकिन क्या आप जानते हैं कि आफटरनून टी लोगों के जीवन का अहम हिस्सा कैसे बना? क्यों सुबह-शाम के बजाय लोगों ने दिन में चाय पीना शुरू कर दिया? इस ट्रेडिशन की कहानी बेहद खास है। चलिए जानते हैं इस बारे में। 

इस तरह शुरू हुआ 'दोपहर की चाय' पीने का सिलसिला

afternoon tea historyदिन में चाय पीने का यह सिलसिला इंग्लैंड में 1660 के दौरान शुरू हुआ। किंग चार्ल्स द्वितीय और उनकी पत्नी पुर्तगाली इन्फेंटा कैथरीन डी ब्रागांजा आफटरनून टी पीते थे। हालांकि, दुनिया के सामने आफटरनून टी का कॉन्सेप्ट 1840 में बेडफोर्ड 7 डचेस अन्ना मारिया रसेल ने इंट्र्ड्यूस किया था। वह बेडचैबर की रानी विक्टोरिया के लेडीज में से एक थीं।

हुआ कुछ यूं था कि एक दिन डचेस को 4 बजे भूख लगी थी। लेकिन खाना आठ बजे के बाद ही खाया जाता था। इस स्थिती में उन्होनें चाय, मक्खन, ब्रेड और केक ऑर्डर किया। धीरे-धीरे करके यह उनकी डेली हैबिट में बदल गया। साथ ही इस समय डचेस ने अपने दोस्तों को चाय पर भी बुलाना शुरू कर दिया। आखिरकार, यह एक सोशल इवेंट बन गया। जहां चार से पांच बजे के दौरान चाय का लुफ्त उठाया जाता था।  

चाय के साथ खाते हैं ये चीजें

history of tea in england

अगर आप रॉयल ट्रेडिशन को करीबी से फॉलो करते हैं या इसके बारे में थोड़ी भी जानते हैं होंगे तो आपने देखा होगा कि मेहमानों को केवल चाय नहीं सर्व की जाती है। कई रिपोर्ट्स के अनुसार आफटरनून टी के साथ थ्री लेयर केक को स्टैंड के साथ परोसा जाता है। इस केक को सैंडविच और स्कोन से डेकोरेट किया जाता है। इसके बाद ही चाय पी जाती है। 

क्वीन एलिजाबेथ भी पीती थीं 'दोपहर की चाय'

फॉर्मर रॉयल शेफ डैरेन एमसीग्रेडी ने बताया था कि क्वीन एलिजाबेथ को फींगर सैंडविच पसंद थे। जिसमें खीरा, अंडा और स्मोक्ड सैल्मन होता था। साथ ही रॉयल बटलर ग्रांट हैरोल्ड ने एक इंटरव्यू में इस बात का खुलासा किया था कि क्वीन एलिजाबेथ रोजाना दोपहर की चाय पीती थीं। उन्हें असम और अर्ल ग्रे चाय बेहद पसंद थी। (घर पर चाशनी बनाने के टिप्स)

इसे भी पढ़ें: क्या आप जानते हैं कहां से हुई थी चाय की शुरुआत और किसने दिया था इसे ये नाम

दोपहर की चाय एन्जॉय करने के टिप्स

Afternoon Tea Tradition

  • क्योंकि आफटरनून चाय के साथ मीठा खाया जाता है। लेकिन यह रॉयल एटिकेट्स हैं कि पहले आपको सैंडविच खाना चाहिए। फिर एक-एक करके अन्य चीजें चखनी चाहिए। 
  • क्रीम को स्कोन पर फैलाएं। उसके बाद जैम लगाकर इसका आनंद उठाएं। (गुलाब जामुन का इतिहास)
  • खाते समय बात न करें। बड़े बाइट्स न लें। हालांकि, आपको यह अजीब लग सकता है। लेकिन रॉयल आफटरनून टी का यही नियम है। 
  • अगर आपने अपनी चाय पी ली है और टेबल से उठना चाहते हैं तो हमेशा अपना नैपकिन कुर्सी पर रखें।  साथ ही आपको नैपकिन टेबल पर तब तक नहीं रखना चाहिए, जब तक आप चाय नहीं पी लेते हैं। 
 
 उम्मीद है कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। इसी तरह के अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए हमें कमेंट कर जरूर बताएं और जुडे रहें हमारी वेबसाइट हरजिंदगी के साथ। 
Image Credit: Freepik
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।