Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    ये हैं भारत की श्रापित नदियां, क्या सच में पानी छूने से नष्ट हो जाते हैं सारे पुण्य?

    भारत की पवित्र नदियों के बारे में तो आप जानते ही होंगे, लेकिन क्या आप श्रापित नदियों के बारे में जानते हैं? 
    author-profile
    Updated at - 2022-12-17,11:00 IST
    Next
    Article
    know about cursed rivers in india

    भारत का जब भी प्राचीन और मध्यकाल इतिहास पढ़ा जाता है तो नदियों का जिक्र ज़रूर होता है। कहा जाता है कि प्राचीन काल से लेकर मध्यकाल तक कई गांव और शहर नदियों के किनारे ही होते थे। नदियों के किनारे गांव और शहर का होना यह आज भी देखा जा सकता है।

    गंगा, सरस्वती, कावेरी, ब्रह्मपुत्र और सतलुज आदि नदियां भारत की सबसे प्राचीन नदियों में शामिल हैं। भारत के कई हिस्सों में इन पवित्र नदियों की पूजा-पाठ भी होती है। एक तरह से ये सभी नदियां पवित्र मानी जाती हैं।

    लेकिन अगर आपसे यह सवाल किया जाए कि क्या आप भारत में मौजूद श्रापित नदियों के बारे में जानते हैं तो फिर आपका जवाब क्या होगा? इस लेख में हम आपको भारत की श्रापित नदियों के बारे में बताने जा रहे हैं। आइए जानते हैं।

    कर्मनाशा नदी (Karamnasa River)

    Karamnasa River

    शायद आप इस नदी के बारे में आप जानते होंगे। अगर नहीं जानते हैं तो आपको बता दें कि बिहार और उत्तर प्रदेश राज्य में बहने वाली यह एक प्रमुख नदी है। एक तरह से दोनों राज्यों को यह नदी अलग भी करती है। इन दोनों ही राज्यों के लोगों का मानना है कि जो इस नदी का पानी छूता है उसके बने काम चंद मिनटों में बिगड़ जाते हैं। कई लोगों का मानना है कि इस नदी का पानी श्रापित है इसलिए कोई भी इस नदी का पानी छूता नहीं है।

    इसे भी पढ़ें: भारत की 10 सबसे बड़ी और पवित्र नदियों की झलक आप भी देखें इन तस्वीरों में 

    चम्बल नदी (Chambal River)

    Chambal River

    चम्बल नदी भारत के सबसे बड़े राज्य में से एक यानी मध्य प्रदेश की प्रमुख नदी है। यह नदी जानापाव की पहाड़ी से निकलती है। यह नदी दक्षिण में महू शहर, इंदौर, विन्ध्य/विंध्य रेंज में से होकर गुजरती है। इस नदी को भी अपवित्र नदी माना जाता है। (व्यास नदी से जुड़े रोचक तथ्य)

    इस नदी को लेकर कहानी है कि यह नदी हजारों जानवरों के रक्त से उत्पन्न हुई थी। एक अन्य कहानी है कि हजारों जानवरों को किसी और ने नहीं बल्कि राजा रंतिदेव में मार डाला था और रक्त इस नदी में बहने दिया। इस घटना के बाद स्थानीय पुजारी और कुछ लोग भी इसे श्रापित नदी मनाने लगे।

    फल्गु नदी (Falgu River)

    Falgu River

    फल्गु नदी बिहार के गया जिले की एक प्रमुख नदी है। गया एक ऐसा जिला है जहां पिंडदान या श्राद्ध के लिए हर साल लाखों लोग पहुंचते हैं। लेकिन इस नदी को लेकर कहा जाता है कि यह एक श्रापित नदी है। कई लोगों का मानना है कि बिहार की फल्गु नदी को सीता माता ने श्राप दिया था। (साबरमती नदी

    इसे भी पढ़ें: बाणगंगा नदी के उद्गम स्थान और इससे जुड़े रोचक तथ्यों के बारे में जानें

    कोसी नदी (Kosi River)

    Kosi River

    कोसी नदी बिहार की एक प्रमुख नदी है। यह मुख्य रूप से नेपाल में हिमालय से निकलने वाली यह नदी सुपौल, पूर्णिया, कटिहार आदि जगहों से बहती हुई कोसी राजमहल के पास गंगा में मिल जाती है।

    आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बिहार में इस नदी को शोक नदी (दुःख की नदी) के नाम से भी जनता है। कहा जाता है कि जब भी नदी में बाढ़ आती है तो हजारों लोगों इससे प्रभावित होते हैं और कई लोगों की जान भी चली जाती है। हालांकि, इसे कोई श्रापित नदी नहीं मनाता, लेकिन शोक ज़रूर मानते हैं। इसी तरह यमुना नदी को कई लोग यम नदी के रूप में भी मानते हैं।

    अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। लेख के अंत में कमेंट सेक्शन में आप भी ज़रूर कमेंट करें।

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।