• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

ढोकला इस तरह बना गुजरात की शान, जानिए इसकी कहानी

आपने यकीनन कई बार ढोकला खाया होगा लेकिन क्या आपको पता है कि पहले इसे कुछ लोग धोकरा के नाम से जानते थे।
author-profile
Published -24 Jun 2022, 18:25 ISTUpdated -24 Jun 2022, 19:56 IST
Next
Article
history of dhokla Gujarat

भारत के हर शहर में अनोखे और स्वादिष्ट पकवान देखने को मिल ही जाएंगे। लेकिन जब बात गुजरात की आती है, तो मुंह में पानी आ ही जाता है। क्योंकि गुजरात एक ऐसा शहर है, जहां पर देखने व करने के लिए बहुत कुछ है। यह एक ऐसा शहर है, जहां पर आपको आधुनिक व प्राचीन सभ्यता का एक बेहतरीन मिश्रण देखने को मिलेगा। साथ ही, कई तरह के स्वादिष्ट व्यंजन मिल जाएंगे जो न सिर्फ गुजरातियों की ही नहीं बल्कि भारत के लगभग हर किसी की पहली पसंद है जैसे- ढोकला।  

लेकिन कभी आपने सोचा है कि ढोकले की शुरुआत आखिर कहां से हुई और पहली बार इसे किसने बनाया था। ऐसे कई सवाल आपके मन में भी आते होंगे और इसका जवाब आप भी जानना चाहेंगे कि आखिर कैसे इस ढोकले की शुरुआत हुई और इसका इतिहास क्या है। आइए मास्टरशेफ कविराज खियालानी से जानें ढोकले की रोचक कहानी।

क्या है ढोकला- 

Dhokla why famous in gujarat

वैसे तो गुजरात के सभी व्यंजन अपने आप में बहुत खास और स्वादिष्ट हैं। लेकिन जब बात ढोकले की आती है तो मुंह में पानी आना स्वाभाविक है। बता दें कि यह दिखने में नॉर्मल ढोकले के जैसा ही होता है। लेकिन यह खाने में अधिक मुलायम और स्वादिष्ट होता है। इसे आप घर पर कई तरह से बना सकते हैं, जिसे आप बेसन से लेकर चावल के आटे, सूजी से लेकर मिश्रित आटे तक आदि से ढोकला बना सकते हैं। 

साथ ही, आपको इसमें कई तरह की वैरायटी जैसे मसाला तड़का ढोकला, सैंडविच ढोकला, मंचूरियन ढोकला, चीज़ी इटालियन चटनी ढोकला आदि मिल जाएंगी, जिसे आप मिर्च के साथ खा सकते हैं। (घर पर चटपटा गुजराती ढोकला)

इसे ज़रूर पढ़ें- क्या आप जानते हैं पहली बार किसने बनाई दाल मखनी, क्या है इसकी कहानी

क्या है ढोकले का इतिहास- 

ढोकले के इतिहास की बात करें तो सबसे पहले ढोकले शब्द का उल्लेख वाराणका समूह ने किया था। कहा जाता है कि अग्रदूत दुक्किया के एक जैन पाठ में भी ढोकले का उल्लेख मिलता है। लेकिन मास्टर शेफ कविराज खियालानी के अनुसार इसका अस्तित्व और इसकी उत्पत्ति सोलहवीं शताब्दी के आसपास वापस मानी जाती है। बता दें कि पहले कई लोग ढोकले को धोकरा के नाम से भी जानते थे। लेकिन ढोकला गुजरात का ही पारंपरिक व्यंजन है, जिसकी उत्पत्ति भारत में ही हुई थी।  

ढोकला के प्रकार- 

Dhokla food history

आप ढोकला को कई तरह से तैयार की जा सकती हैं। आप प्लेन ढोकला के साथ खट्टा ढोकला, मूंग दाल ढोकला, तूर दाल ढोकला, हरे मटर के ढोकला, मीठा ढोकला, खमन ढोकला आदि। इसे आप चटनी या फिर हरी मिर्च के साथ सर्व कर सकते हैं। (दाल के बैटर से 10 मिनट में बनाएं ये टेस्टी डिशेज़)

इसे ज़रूर पढ़ें- क्या सच में पुर्तगाली छोड़ गए थे 'मुरब्बा'?

क्या है एक्सपर्ट की राय- 

Kaviraj

जब स्वादिष्ट व्यंजन की बात आती है तो ढोकला का नाम हमारे दिमाग में आता है। क्योंकि ढोकला न सिर्फ स्वाद में अच्छा होता है बल्कि स्वस्थ के लिए भी फायदेमंद होता है। एक्सपर्ट कहते हैं कि पिछले कुछ सालों में ढोकले में कई तरह की वैरायटी हमारे सामने आई है, जिसे बेसन, चावल, सूजी और दाल का तड़का बनाया जाता है। 

वास्तव में ढोकले का नाम सुनकर आपको भी इसका स्वाद लेने का मन जरूर हो गया होगा। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- (@Freepik) 
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।