श्री कृष्ण जन्माष्टमी आने में बहुत कम ही दिन बचे हुए हैं। ऐसे में देश भर में मौजूद अलग-अलग कृष्ण मंदिरों में जोरों से तैयारी चल रही है। क्योंकिं, भारत में कुछ ऐसे मंदिर जहां जन्माष्टमी के दिन लाखों भक्त श्री कृष्ण के दर्शन के लिए पहुंचें हैं। मथुरा में मौजूद वृंदावन या फिर दिल्ली, ओड़िशा आदि राज्यों में मौजूद इस्कॉन मंदिर हो। इन सभी मंदिरों में कृष्ण के जन्म के उत्सव के दौरान एक अलग ही नजारा देखने को मिलता है।

आमतौर पर वृंदावन या उत्तर भारत में मौजूद कृष्ण मंदिर की बात होती है लेकिन, दक्षिण भारत में भी एक से एक प्राचीन और प्रसिद्ध कृष्णा मंदिर है जहां, अन्य दिनों के साथ-साथ जन्माष्टमी के दिन लाखों भक्तों की भीड़ मौजूद होती है। इस लेख में हम आपको दक्षिण भारत में मौजूद कुछ प्रसिद्ध कृष्ण मंदिरों के बारे में बताने जा रहे हैं, तो आइए जानते हैं।  

गुरुवायूर मंदिर

famous krishna temple in kerala

दक्षिण भारत के केरल राज्य में मौजूद गुरुवायूर मंदिर एक बेहद ही पवित्र और प्राचीन कृष्ण मंदिर है। कृष्ण जन्माष्टमी के दिन सिर्फ दक्षिण भारत के ही लोग नहीं बल्कि समूचे भारत से लोग यहां दर्शन के लिए पहुंचते हैं। आपको बता दें कि इस मंदिर को दक्षिण का द्वारका मंदिर भी कहा जाता है। लोग इस मंदिर के दर्शन के बाद खुद को नसीब वाला मानते हैं। खासकर नव विवाहित जोड़े यहां अपने वैवाहिक जीवन की सफलता के लिए आशीर्वाद लेने आते हैं।

इसे भी पढ़ें: ओणम के अलावा भी केरल के हैं कुछ प्रमुख त्योहार, जानें हर उत्सव की विशेषताएं

पार्थसारथी मंदिर त्रिपलीकेन  

famous krishna temple in chennai

दक्षिण भारत में मौजूद एक और बेहद ही पवित्र और प्रसिद्ध कृष्ण मंदिर। जी हां, पार्थसारथी मंदिर चेन्नई में मौजूद है। लगभग आठवीं शताब्दी में निर्मित इस मंदिर में भगवान कृष्ण पार्थसारथी यानि महाभारत के युद्ध में अर्जुन के सारथी के रूप में हैं। पार्थसारथी मंदिर भगवान विष्णु की पूजा किए जाने वाले 108 प्रसिद्ध स्थानों में से एक है। यहां भगवान कृष्ण के साथ-साथ भगवान राम, भगवान नृसिंह और भगवान वराह का मंदिर भी मौजूद है। आपको बता दें कि पार्थसारथी मंदिर अपने गोपुरम और वास्तुशिल्प के लिए प्रसिद्ध है।

Recommended Video

इस्कॉन मंदिर

famous krishna temple in hydrabad

वैसे तो बैंगलोर में एक नहीं बल्कि कई छोटे-छोटे कृष्णा मंदिर है, लेकिन, सबसे प्रसिद्ध अगर कोई मंदिर है तो उसका नाम है इस्कॉन मंदिर। इस मंदिर को श्री राधा-कृष्ण मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। यहां सिर्फ जन्माष्टमी के दिन ही नहीं बल्कि सालों भर भक्तों के साथ-साथ पर्यटकों का तांता लगा रहता है। इस मंदिर में सिर्फ भारतीय ही नहीं बल्कि, कई विदेशी पर्यटक भी पूजा-पाठ करते हुए आपको दिखाई दें देंगे।

इसे भी पढ़ें: यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज की लिस्ट में शामिल हुआ रामप्पा मंदिर, जानें इससे जुड़ी खास 4 बातें

बाला कृष्ण मंदिर 

famous krishna temple in hampi

कर्नाटक के हम्पी में मौजूद दक्षिण भारतीय लोगों के लिए बेहद ही पवित्र मंदिर है। कहा जाता है कि उत्कल विजय के बाद इस मंदिर का निर्माण किया था। मंदिर दर्शन और मंदिर की वास्तुकला देखने के लिए लाखों पर्यटक और भक्त हर महीने लाखों की संख्या में बाला कृष्ण मंदिर पहुंचते हैं। जन्माष्टमी के एक सप्ताह पहले ही इस मंदिर को लाइट्स से इस कदर सजाया जाता है कि शाम के समय देखते ही बनता है। आपको बता दें कि यहां मंदिर हम्पी के लिए एक बेहद ही प्रमुख पर्यटक केंद्र भी है।

अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit:(@upload.wikimedia.org,navrangindia.files.wordpress.com)