कभी लग्जरी लाइफ का हिस्सा रह चुकी कारें आज के समय में हर किसी की जरूरत बन गई हैं और शायद यही कारण है कि अब हर घर में लोग कार का इस्तेमाल जरूर करते हैं। वर्तमान में कई ब्रांड की कारें विभिन्न सुविधाओं के साथ उपलब्ध है। लेकिन कारों का यह इतिहास 130 सालों से भी पुराना है। दुनिया की सबसे पहली मॉडर्न कार 1885 में कार्ल बेंज द्वारा बनाई गई थी और इसे ईंधन से चलने वाली दुनिया की पहली कार के रूप में जाना जाता है। तब से शुरू हुआ कारों का सफर साल दर साल बदलता रहा और इसमें नए-नए फीचर्स को शामिल किया जाता रहा। आज हम सभी भले ही बेहद सुविधाजनक कारों का इस्तेमाल करते हों, लेकिन कारों के इन सफर से अभी भी बहुत से लोग अनजान है। हालांकि, अगर आप इनके इतिहास से लेकर वर्तमान तक की यात्रा के बारे में जानना चाहती हैं तो आप देश में स्थित कुछ कार म्यूजियम के बारे में जरूर जानें। यह कार म्यूजियम आपको अंचभित कर देंगे। तो चलिए जानते हैं देश में स्थित कुछ कार म्यूजियम के बारे में-

हेरिटेज ट्रांसपोर्ट म्यूजियम, गुरूग्राम

inside  Museum in gurugram

यह म्यूजियम गुरूग्राम में अपनी तरह की एक अनूठी पहल है। इस हेरिटेज ट्रांसपोर्ट म्यूजियम में भारत में परिवहन के विकास को दर्शाते हुए कई प्रदर्शन हैं। इस संग्रहालय में न केवल क्लासिक कारों का संग्रह है बल्कि अन्य ऑटोमोबाइल भी हैं। यहां आने वाले लोग रेलवे के मॉडल, टूव्हीलर, रूरल ट्रांसपोर्ट और ऐतिहासिक समय में उपयोग किए जाने वाले एयरक्राफ्ट मॉडल भी देख सकते हैं। दिलचस्प बात यह है कि संग्रहालय में पुरानी बॉलीवुड फिल्मों में इस्तेमाल की जाने वाली पुरानी कारों का भी संग्रह है। हेरिटेज ट्रांसपोर्ट म्यूजियम एक बेहद ही बेहतरीन और मजेदार जगह है, जहां आप काफी कुछ नया देख सकते हैं और सीख सकते हैं। यह निश्चित रूप से भारत के अद्वितीय संग्रहालयों में से एक है।

अश्वेक विंटेज वर्ल्ड, गोवा 

inside  goa in Museum

गोवा अश्वेक विंटेज वर्ल्ड को स्थापित करने का श्रेय व्यवसायी प्रदीप.वी.नाइक को दिया जाता है। उन्होंने 1985 में ऑटोमोबाइल संग्रह शुरू किया और यह वर्षों में बढ़ता गया। अश्वेक विंटेज वर्ल्ड गोवा में एकमात्र विंटेज कार म्यूजियम है। यह उद्यम लोगों को मोटरिंग और ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग के विकास के बारे में जानकारी देने के लिए स्थापित किया गया था। इस म्यूजियम के कलेक्शन में वोक्सवैगन बीटल चार-डोर वाली लिमोसिन, एक दुर्लभ दो इंजन वाली वैंडल टेम्पो, मर्सिडीज 170 (1939 मॉडल) आदि शामिल हैं। 

इसे ज़रूर पढ़ें-बरसात के सुहाने मौसम में मानसून पैलेस घूमने का है एक अलग ही मज़ा

मंजूषा म्यूजियम, कर्नाटक

inside  karnataka

कर्नाटक के धर्मस्थल में स्थित मंजूषा म्यूजियम एक बेहद ही अनूठा संग्रहालय है। यह हेरिटेज म्यूजियम धर्मस्थल के धर्माधिकारी श्री वीरेंद्र हेगड़े का प्राइवेट कलेक्शन है। क्लासिक और विंटेज कारों के विस्तृत कलेक्शन के साथ, इसमें मंदिर के रथ, प्राचीन वस्तुएं और पेंटिंग भी हैं जो मुख्य रूप से कर्नाटक के मंदिरों से एकत्र की गई हैं। मंजूषा म्यूजियम में मौर्य साम्राज्य के सिक्के, पुराने कैमरे और तटीय कर्नाटक के लोगों द्वारा उपयोग की जाने वाली वस्तुएं भी हैं। वहीं, यहां पर आपको एडलर (जर्मन कार), ऑस्टिन (इंग्लैंड निर्मित मिनी कार), एम्बुलेंस का 1926 मॉडल, मर्सिडीज बेंज (1926 मॉडल), शेवरलेट (1947 मॉडल), रोल्स रॉयस (1924 मॉडल), आदि जैसी विंटेज कारें भी देखने का मौका मिलेगा। 

Recommended Video

ऑटोवर्ल्ड विंटेज कार म्यूजियम, अहमदाबाद, गुजरात

inside  banglore

ऑटोवर्ल्ड विंटेज कार म्यूजियम अहमदाबाद, गुजरात के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के करीब स्थित है। रिपोर्ट के अनुसार, यहां पर भारत में रोल्स-रॉयस, मर्सिडीज, बेंटले, क्रिसलर, लिंकन और अन्य ऑटोमोबाइल सहित 100 से अधिक पुरानी कारों का सबसे बड़ा कलेक्शन है। यहां पर आप कारों को करीब से देखने के साथ-साथ विंटेज कार में राइड भी ले सकते हैं।

इसे ज़रूर पढ़ें-ये हैं मुंबई के पास स्थित खूबसूरत हिल स्टेशन, अभी ट्रिप करें प्लान

क्लासिक और विंटेज कार कलेक्शन, उदयपुर पैलेस

inside  udhypur

इस म्यूजियम की कलाकृतियों का स्वामित्व मेवाड़ के राजाओं के पास था, जिन्होंने अपने शौक को उदयपुर के सबसे आकर्षक पर्यटक आकर्षण में बदल दिया। पैलेस उदयपुर में 2000 में दर्शकों के लिए क्लासिक और विंटेज कार कलेक्शन का प्रदर्शन शुरू किया। यह उदयपुर में गुलाब बाग रोआ पर मेवाड़ स्टेट मोटर गैरेज में स्थित है और यहां पर 1983 कैडिलैक, 1959 मॉरिस माइनर और 1946 ब्यूक, आदि जैसी पुरानी कारों की एक वाइड रेंज है।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit-udaipurtourism.co.in,www.3alphadataentry.com,