प्राचीन काल से लेकर मध्य काल तक भारत में कुछ ऐसे महल, फोर्ट और पैलेस का निर्माण हुआ, जो आज भी विश्व प्रसिद्ध है। जब भी मध्य काल में निर्मित महल या पैलेस के बारे में जिक्र होता है, तो सबसे पहले राजस्थान का नाम ज़रूर लिया जाता है।  इस राज्य में एक से एक बेहतरीन और विश्व प्रसिद्ध महल और पैलेस आज भी लाखों सैलानियों की स्वागत के इंतजार में रहते हैं। यहां ऐसे कई पैलेस ही मौजूद है जो युनेस्को हेरिटेज में भी शामिल है।

राजस्थान के उदापुर में एक ऐसा ही पैलेस है, जो आज भी सैलानियों के लिए प्रमुख पर्यटक केंद्र है। जी हां, हम बात कर रहे हैं 'मानसून पैलेस' के बारे में। इन पैलेस के बारे में जितना भी उल्लेख किया जाए उतना ही कम है। इस लेख में हम आपको इस पैलेस के बारे और भी करीब से बताने जा रहे हैं, ताकि जब आप अगली बार उदयपुर घूमने पहुंचें तो यहां ज़रूर पहुंचें। तो आइये जानते हैं।

पैलेस का इतिहास 

history of monsoon palace udaipur inside

शायद आपको मालूम हो! अगर नहीं, तो आपको बता दें कि मानसून पैलेस को सज्जनगढ़ पैलेस के नाम से भी जाना जाता है। मुख्य शहर से लगभग 5 किलोमीटर की दूरी पर मौजूद मानसून पैलेस का निर्माण सज्जन सिंह ने शुरू करवाया था। लेकिन, कुछ समय बाद सज्जन सिंह का आकस्मिक निधन हो गया है और पैलेस का कार्य रुक गया। फिर इसे 1884 के आसपास महाराणा फ़तेह सिंह ने शुरू किया। लगभग दस साल बाद ये पैलेस बनकर तैयार हुआ।

इसे भी पढ़ें: झीलों के शहर उदयपुर घूमने जा रही हैं तो लीजिए इन एक्टिविटीज का मजा

पैलेस बनवाने के पीछे की कहानी 

history of monsoon palace udaipur inside

पैलेस बनवाने के पीछे की कहानी को जानने के बाद आप बरसात के मौसम में यहां ज़रूर घूमना पसंद करेंगे। खैर, आपको बता दें कि इसके बनाने के पीछे कई कहानी है। कहा जाता है कि पैलेस का निर्माण ऐसी जगह किया गया जहां से महाराणा फ़तेह सिंह का पैत्रक घर यानी चित्तौड़ का किला दिखाई दें। दूसरा कारण- पैलेस को ऐसी जगह और उंची जगह मिर्माण किया जाए जहां से बादल दिखे और उदयपुर के मौसम का भरपूर आनंद उठाया जा सके हैं। तीसरा कारण- उदयपुर में सूर्योदय और सूर्यास्त देखने के लिए इस पैलेस का भी निर्माण किया गया। (मैसूर पैलेस) चौथा- गरीब लोगों का काम मिल सके हैं, इसे भी ध्यान से रखकर इसका निर्माण किया गया। 

Recommended Video

पैलेस की वास्तुकला 

history of monsoon palace udaipur inside

अद्भुत पैलेस का निर्माण भी सैलानियों के प्रमुख केंद्र हो सकता है। इस पैलेस का निर्माण संगमरमर के पत्थरों से किया गया है। इस पैलेस में मुग़ल वास्तुकला से लेकर मेवाड़ी चित्र शैली को आसानी से देखा जा सकता है। इस महल के अंदर कई पार्क भी मौजूद है, जो इसे और भी खास बनाते हैं। इस महल के छत पर आप भी तोप मौजूद है, जिसे आसानी से देखा जा सकता हैं। जानें मार्बल पैलेस के बारे में


इसे भी पढ़ें: राजस्थान में जयपुर ही नहीं उदयपुर की ये 5 जगहें हैं देखने लायक

अन्य जानकारी और टिकट के बारे में 

monsoon palace udaipur inside

कहा जाता है कि बरसात के मौसम में अरावली की हरी-भरी और उंचे-उंचे पहाड़ियों के बिच और बादलों से घिरे हुए इस पैलेस को देखने के लिए हजारों सैलानी सपने लिए यहां पहुंचते हैं। इस पैलेस के बगल में मौजूद झील भी इसे और खूबसूरत बनाती है। अगर टिकट के बारे में बात करें तो भारतीय सैलानियों के लिए टिकट की कीमत लगभग 10 रुपये और विदेशी सैलानियों के लिए 150 रुपये हैं। (कूचबिहार पैलेस) सबसे अच्छा टाइम मानसून का समय ही माना जाता है यहां घूमने के लिए।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit:(@media.tacdn.com,www.trawell.in)