गुजरात राज्य में द्वारका अपनी एक अलग महत्ता रखता है। यह शहर भारत के सबसे प्राचीन और सबसे प्यारे शहरों में से एक है। गोमती नदी के तट पर स्थित यह शहर अपनी समृद्ध संस्कृति और विरासत के लिए जाना जाता है। शहर का महाभारत से भी जुड़ाव है, इसका बहुत महत्व है। द्वारका शहर में भगवान कृष्ण और उनके बचपन से जुड़े कई किस्से हैं। यहां भगवान कृष्ण को द्वारकादीश नाम से पुकारा जाता है।

इतना ही नहीं, ज्योतिर्लिंगों की उपस्थिति के कारण, द्वारका भारत में हिंदुओं के लिए कई अन्य पवित्र पवित्र मंदिरों में से एक है। वैसे आप द्वारका में है तो सिर्फ विभिन्न मंदिरों के दर्शन ही नहीं कर सकते, बल्कि गुजरात के द्वारका में करने के लिए कई अन्य चीजें भी हैं। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको बता रहे हैं कि आप द्वारका में क्या-क्या कर सकते हैं-

श्री द्वारकाधीश मंदिर की अद्वितीय प्रथाओं को देखें

जब आप द्वारका में हैं तो श्री द्वारकाधीश मंदिर में दर्शन करना ना भूलें। इतना ही नहीं, इस मंदिर की कई प्रथाएं बेहद ही अद्भुत हैं। मसलन, मंदिरों का झंडा दिन में पांच बार बदलता है, और ऐसा भारत के किसी अन्य मंदिर में नहीं होता है। भक्तगण परिवारों में से एक मंदिर को झंडा स्पान्सर्स करते है, और वे इसे जुलूस के समय लाते हैं। ध्वज को संबंधित लोगों को सौंप दिया जाता है जो मुख्य गर्भगृह के शीर्ष पर पहुंचते हैं और इसे बदलते हैं।

dwarkadheesh and temple

इसे जरूर पढ़ें- पंचगनी हिल स्टेशन: गर्मियों और मानसून के दिनों में घूमने के लिए एक बेहतरीन जगह 

तुलाभार जैसे प्राचीन परंपराओं का पालन करें

तुलाभार भारत की सबसे पुरानी परंपराओं में से एक है, जहां एक इंसान को तराजू के एक साइड पर बिठाया जाता है और उसके वजन के बराबर सामान या सोना तोला जाता है। जिन लोगों ने कृष्ण लीला की कथाएं पढ़ी हैं, उनके लिए तुलाभार की अवधारणा को समझना आसान होगा। जब आप द्वारका में होते हैं, तो आप छोटे मंदिरों में कई तराजू देख सकते हैं। तौल के तराजू के एक सिरे पर एक व्यक्ति और दूसरे सिरे पर अनाज होगा। एक बार जब अनाज का वजन व्यक्ति के वजन के बराबर हो जाता है, तो वे मंदिर में दान के रूप में अनाज चढ़ाते हैं। आप भी द्वारका में इस प्राचीन परंपरा का पालन करें।

dwarka dheesh travel

गोमती नदी पर ऊंट की सवारी करें

द्वारका में गोमती नदी के तट पर ऊंट की सवारी करना यहां की जाने वाली सबसे प्रसिद्ध चीजों में से एक है। ऊंट की सवारी के दौरान बच्चों को मस्ती करते देखना और पांच अलग-अलग ऋषियों द्वारा लाए गए पांच मीठे पानी के कुओं के इतिहास को देखकर यकीनन आप आश्यर्चचकित रह जाएंगे। एक किनारे पर घाटों के नज़ारे का आनंद लें, जबकि आप दूसरे किनारे पर ऊंट की सवारी करें।  

dwarkadheesh travel

द्वारकाधीश मार्केट में करें शॉपिंग

द्वारका में शॉपिंग का भी अपना ही एक अलग मजा है। यह शहर कलाकारों से भरा है, और द्वारका के दौरे पर आपको बहुत सारे स्मृति चिन्ह और ट्रिंकेट मिल सकते हैं। सभी ट्रिंकेट्स में सबसे प्रसिद्ध चक्रशिला, समुद्र में पाया जाने वाला एक पहिया जैसा पत्थर, द्वारकाधीश की मूर्ति और गोपी चंदन स्टिक्स हैं। ऐसा कहा जाता है कि इन स्टिक्स को अप्लाई करने से शरीर का तापमान कूल डाउन हो जाता है।

dwarkadheesh travel

इसे जरूर पढ़ें- हिमाचल की इन Unexplored जगह के बारे में नहीं जानती होंगी आप 

चरकला बर्ड सैन्चुरी में देखें पक्षी 

अगर आपको बर्ड वॉचिंग का शौक है, तो यकीनन द्वारका आपके लिए घूमने की एक बेहतरीन जगहों में से एक हो सकता है। यहां पर चरकला बर्ड सैन्चुरी में आप विभिन्न पक्षियों को देख सकते हैं। डेमोइसेल क्रेन्स यहाँ काफी संख्या में हैं, और जहाँ भी आप पानी देखते हैं, आप इन प्यारे पक्षियों को देख सकते हैं। इनके अलावा, कई अन्य पक्षी भी हैं, और जब आप सोच रहे हैं कि द्वारका में क्या करना है, तो शायद यह गतिविधियों में से एक हो सकता है। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।