आज के समय में अगर महिलाओं की हेयर प्रॉब्लम की बात हो तो उसमें हेयर थिनिंग एक बेहद आम समस्या है। यूं तो हर महिला थिक और लॉन्ग हेयर की चाहत रखती हैं, लेकिन लगातार हेयर लॉस होने से बाल पतले होने लगते हैं। ऐसे में हम सभी अपने बालों की केयर करने के लिए तरह-तरह के उपाय अपनाने लग जाती है। हालांकि, किसी भी उपाय को अपनाने से पहले जरूरी है कि आप बालों के पतले होने के पीछे के कारणों के बारे में भी जानें। बालों के पतले होने के कई कारण हो सकते हैं, जैसे उम्र बढ़ना, तनाव और बैड फूड हैबिट्स आदि। इनके अलावा भी ऐसे कई कारण हैं, जो हेयर थिनिंग की वजह बन सकते हैं। बालों के पतले होने के कारणों को दो कैटेगिरी में बांटा जा सकता है - लाइफस्टाइल या जेनेटिक्स और मेडिकल। जबकि एक दिन में लगभग 50 से 100 बालों का झड़ना पूरी तरह से नेचुरल है, लेकिन अगर आपके बाल उसी दर से वापिस नहीं आते हैं तो इससे आपको हेयर थिनिंग की प्रॉब्लम हो सकती है। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको ऐसे ही कुछ कारणों के बारे में बता रहे हैं, जिसके कारण आपको पतले बालों की समस्या का सामना करना पड़ता है-

बालों को ओवर प्रोसेस्ड करना

inside  hair over style

आज के समय में लड़कियां एक स्टाइलिश लुक पाने के लिए अपने बालों के साथ एक्सपेरिमेंट करने से नहीं चूकतीं। जिसके चलते उन्हें हेयर थिनिंग की समस्या का सामना करना पड़ता है। अगर आप हेयर ड्रायर या कर्लर जैसे हीट टूल्स का इस्तेमाल अधिक करती हैं तो ये बालों के शाफ्ट को नुकसान पहुंचाते हैं और बालों के टूटने का कारण बनते हैं। ठीक इसी तरह, बालों को केमिकली प्रोसेस्ड करवाने से भी बालों को नुकसान होता है। उचित देखभाल के बिना हीट और केमिकल्स के लगातार संपर्क में आने से आपके बालों पर कहर बरपा सकता है, क्यूटिकल्स को नुकसान हो सकता है, टूटने का कारण बन सकता है और अंततः बाल पतले हो सकते हैं। 

क्या करें- यदि आपके बाल केमिकली प्रोसेस्ड हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप बालों की उचित देखभाल करें और सही प्रॉडक्ट का उपयोग करें। इसके अलावा, अपने बालों को रिपेयर करने और फिर से जीवंत करने के लिए कुछ समय के लिए एक ब्रेक दें।

बहुत अधिक तनाव लेना 

inside depression

शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक सहित किसी भी प्रकार का तनाव बालों के झड़ने और उनके बालों के पतले होने का कारण बन सकता है। इस प्रकार के बालों के झड़ने को टेलोजेन एफ्लुवियम कहा जाता है। तनाव से पतले होने वाले बालों के साथ एक गंभीर समस्या यह है कि इसमें बाल खतरनाक दर से झड़ सकते हैं और बहुत तेजी से पतले हो सकते हैं। दरअसल, जब आप किसी प्रकार के शारीरिक या भावनात्मक तनाव से गुजर रहे होते हैं, तो आपका शरीर रिजर्व मोड में चला जाता है, जिससे पोषक तत्व और विटामिन आपके पास नहीं पहुंच पाते हैं। जिसके कारण बाल झड़ने शुरू हो जाते हैं और फिर वह तेजी से पतले होते हैं। 

क्या करें- तनाव को प्रबंधित करने के लिए किसी एक्सपर्ट की सलाह लें। अपने दोस्तों व करीबियों से बात करें व योगा, मेडिटेशन व ऐसी अन्य एक्टिविटीज में शामिल हों जो आपको रिलैक्स महसूस करवाएं।

इसे ज़रूर पढ़ें-आलू बुखारे से पाएं गोरी और जवां त्‍वचा, यूं करें इस्‍तेमाल

खान-पान की खराब आदतें

inside  bad habbit for eating

यह भी महिलाओं में हेयर थिनिंग की एक मुख्य वजह है। दरअसल, खान-पान की खराब आदतें और आहार में पोषण की कमी आपकी सेहत के साथ-साथ बालों पर भी गंभीर असर डाल सकती है। नए बाल बनाने और बालों के रोम को स्वस्थ बनाए रखने के लिए शरीर को पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है। प्रोटीन, विटामिन और सूक्ष्म पोषक तत्व बालों के रोम के ग्रोथ साइकल में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। 

क्या करें-अपने आहार में अतिरिक्त ध्यान दें। बैंलेस्ड डाइट लें। बेवजह क्रैश डाइटिंग से बचें।

Recommended Video

हार्मोनल बदलाव व मेडिकल कंडीशन

inside  use product

पीसीओएस, गर्भावस्था, मेनोपॉज या यहां तक कि कुछ मेडिकल कंडीशन जैसे एलोपेसिया एरीटा और थायरॉयड अनियमितताओं के कारण आपके हार्मोन के स्तर में उतार-चढ़ाव स्थायी या अस्थायी बालों के पतले होने के लिए ट्रिगर होते हैं। 

क्या करें- मेडिकल कंडीशन के कारण होने वाली हेयर थिनिंग की समस्या को आपके लिए खुद मैनेज करना संभव नहीं होता। इसलिए इन समस्याओं के लिए शुरुआत से ही डॉक्टर से परामर्श करें, ताकि चीजों को और खराब होने से बचाया जा सके।

इसे ज़रूर पढ़ें-स्किन का बेहद अच्छी तरह ख्याल रखती है माचा, जानिए

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- Freepik