बढ़ते pollution और irregular lifestyle के कारण respiratory diseases से पीड़‍ति लोगों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। World Health Organization के अनुसार, विश्व की जनसंख्या का एक बड़ा भाग respiratory diseases से पीड़‍ति है और इसे पूरे विश्व में morbidity और मृत्यु का सबसे आम और महत्वपूर्ण कारण माना जाता है। भारत में भी परिस्थितियां अलग नहीं हैं, भारत lung diseases से होने वाली मौतों की सूची में सबसे ऊपर है। Respiratory health के संबंध में भारत के सामने मौजूद खतरनाक परिस्थिति को देखते हुए, हम सभी के लिए chronic diseases, जैसे asthma आदि, की रोकने के लिए व्यक्तिगत मोर्चे पर तत्काल कदम उठाना बहुत महत्वपूर्ण हो गया है।

World Health Organization से प्राप्त आंकड़े यह भी खुलासा करते हैं कि विश्व के कुल asthma रोगियों में से 10 रोगी भारत में हैं, और इसलिए हमें lung diseases की संभावना को खुद से दूर रखने के लिए आसान व तेज कदम उठाने की जरूरत है। हिमालया ड्रग कंपनी में research scientist के रूप में कार्यरत डॉक्‍टर अशोक बीके हमें कुछ सुझाव दे रहे हैं जिन्हें अपनाकर आप respiratory diseases से मुकाबला करने तथा asthma जैसे रोगों से स्वयं को बचाने में help पा सकते हैं।

Read more: Pollution से बचने के लिए खाने में शामिल करें ये food items

अदरक का सेवन करें

अदरक में ऐसे कई component होते हैं जो गले और respiratory tract के infections से बचाने में मददगार हैं तथा सांस लेना आसान बनाते हैं। सुझाव दिया जाता है कि अदरक का सेवन सीधे ही या फिर चाय में या इसे जूस के रूप में लिया जा सकता है, क्योंकि इससे सांस लेना मुश्किल करने वाली चेस्‍ट की जकड़न के उपचार में हेल्‍प मिलती है।

जादुई हर्ब्‍स है वसाका

अपनी डाइट में वसाका नामक जड़ी शामिल करें। वसाका नामक जड़ी, जिसे मालाबार नट भी कहते हैं, breathing tube के शोथ में राहत देती है और breathing routes को खोलती है जिससे chest की जकड़न में राहत मिलती है और बलगम का बाहर निकलना आसान हो जाता है। यह खांसी रोकने में भी मददगार है, breathing tube के स्रावों को पतला करती है तथा lungs की work capacity बढ़ाती है। सुझाव दिया जाता है कि वसाका का सेवन बाजार में उपलब्ध juice, सीरप व कैप्सूल के रूप में किया जाना चाहिए।

asthma prevantion health inside

Vitamin से भरपूर अजवायन पत्ती

अजवायन पत्ती (ओरेगानो) में वे सभी vitamin और mineral होते हैं जो हमारी इम्‍यूनिटी के लिए लाभकारी हैं और हेल्‍थ को बढ़ाने में मददगार हैं। अजवायन पत्ती में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं तथा इसमें लंग्‍स की सफाई करने वाले ऐसे अन्य घटक भी भरपूर मात्रा में होते हैं जो अस्‍थमा, sinusitis एवं खांसी जैसे रोगों के उपचार में हेल्‍प करते हैं।

Read more: दिल्‍ली की जहरीली हवा से हैं बेहाल, तो अपनाएं ये 5 आसान टिप्‍स

Infection से बचाएं लहसुन की कली 

लहसुन को अपने antivirus और antibacterial गुणों के लिए जाना जाता है जो इसके औषधीय मूल्यों को बढ़ाते हैं। इससे ऐसे infections को रोकने में हेल्‍प मिलती है जो संभावित रूप से अस्‍थमा का कारण बन सकते हैं। आप लहसुन की कली को सीधे खा सकती हैं या फिर बाजार में उपलब्ध कैप्सूल के रूप में इसका सेवन कर सकती हैं।

Smoke/Pollution से दूर रहें

जो महिलाएं आसानी से सांस के रोगों की चपेट में आ जाती हैं, उनके लिए सुझाव है कि वे अपने चेहरे को मास्क से ढक कर कारों और फैक्टरियों से निकलने वाले धुएं से खुद को दूर रखें। Passive smoking से दूर रहने की कोशिश करें, क्योंकि किसी भी प्रकार का धुआं lungs में अप्रिय संवेदना active कर सकता है जो अंततः गंभीर खांसी और घरघराहट का रूप ले लेगी। यदि आप smoking करती हैं, तो आपको सलाह है कि आप smoking तुरंत छोड़ दें।

आज से ही basic tips को अपनाने शुरू करें और आप भी respiratory diseases एवं इंफेक्‍शन से दूर रहें।

Read more: सर्दियों में healthy रहने के लिए अपनाएं ये 6 rules