प्राचीन वैदिक ज्योतिष मोती को चंद्रमा से जोड़ते है। जैसे चांद से हमें कोमलता और शांति मिलती है, ठीक उसी तरह मोती पहनने वाले लोगों को सुखदायक और शांत प्रभाव मिलता है। जेम ऑफ मून पर्ल है। मोती, विशेष रूप से सफेद किस्म शुद्धता, ज्ञान, धन और अखंडता का प्रतीक है। ज्यादातर लोग अधिक शांति पाने और अपने मिजाज को ठीक रखने के लिए अपने लिए मोती चुनते हैं। मोती उग्र स्वभाव वाले ऐसे लोगों की जरूरत होती है जो पानी तत्व की कमी महसूस करते हैं। मोती संतुलन बनाने और कूलिंग एनर्जी प्रदान करने में अहम भूमिका निभाता हैं। इसलिए लो एनर्जी या आलसी स्वभाव वाले लोगों के लिए मोती एक आदर्श विकल्प नहीं हो सकता है। मोती विभिन्न आकार और रंगों में उपलब्ध होता है।

इसे जरूर पढ़ें: पति के साथ रोमांस रखना है बरकरार तो बेडरूम के लिए अपनाएं ये वास्तु टिप्स

मोती गोल, अंडाकार, ड्रॉप, सर्कल और बारोक विभिन्न आकारों में आते हैं। बारोक एक अनियमित आकार के मोती के लिए एक सामान्य शब्द है। अधिकांश नेचुरल मोती बारोक होते हैं। मनके मोती भी होते हैं (एक गोल खोल मनका के साथ मोती) जिसमें एक तरफ पूंछ विकसित हो सकती हैं।

wearing pearls for  health card ()

खन्ना रत्न प्राइवेट लिमिटेड के फाउंडर और मैनेंजिग डायरेक्टिर पंकज खन्ना का कहना हैं कि ''मोती व्हाइट, ब्लैक, गोल्डन, पिंक और ग्रे कलर की एक विस्तृत विविधता में आते हैं। ब्‍लैक मोती व्‍हाइट के रूप में मांगे जाते हैं। ब्‍लैक मोती शायद ही कभी जेट ब्‍लैक आते हो, ये नीले, हरे, चांदी, ग्रे, एबुर्जिन, कॉपर, मोर आदि में आते हैं। मोती में हरा रंग प्रमुख है। मोती के रंग का वर्णन करने के लिए उपयोग किए जाने वाले सबसे आम शब्द में बॉडी, ओवरटोन और ओरिएंट हैं। बॉडी का रंग वह होता है जब आप मोती को सीधे देखते हैं।

 

अकोया और मीठे पानी के मोती आमतौर पर सफेद या क्रीम होते हैं। ओवरटोन एक पारभासी (अर्ध-पारदर्शी) परत है जो बॉडी के अधिकांश या सभी हिस्से को कवर करती है। यह रोज, पिंक, सिल्वर, पीच, लैवेंडर या अन्य रंगों के हो सकते हैं। कभी-कभी (विशेष रूप से अकोया मोती के साथ) ओवरटोन को कृत्रिम रूप से बनाया जाता है। ओरिएंट एक झिलमिलाता, इंद्रधनुषी प्रभाव है जो मोती की सतह के पार जाता है। यह उन रंगों की तरह है जिन्हें आप बड़े और पारदर्शी साबुन के बुलबुले पर देखते हैं।

wearing pearls for  health card ()

पर्ल के पॉजिटीव असर या फायदे

  • मोती पहनने से भावनात्मक स्थिरता, स्वभाव और मानसिक शांति को बढ़ावा मिलता हैं। मोती एक तनावपूर्ण दिमाग के लिए एक भावनात्मक संतुलन लाता हैं।
  • मोती चेहरे और आंखों के आकर्षण और कोमल भावनाओं सहित कोमलता और शारीरिक सुंदरता को बढ़ाते हैं।
  • मोती मानसिक शांति, शक्ति और याददाश्त में सुधार के लिए भी बहुत अच्छा होता हैं।
  • मोती अनिद्रा, गले और आंखों से जुड़ी परेशानियों, पेचिश, दिल से जुड़ी समस्याओं आदि के लिए मददगार होता है।
  • प्यार, घनिष्ठ संबंध और सुखी वैवाहिक जीवन के लिए मोती बहुत मददगार होता हैं।
  • मोती पति और पत्नी के बीच के बंधन को मजबूत करने में मदद करता हैं। ऐसा माना जाता है कि शादी के दिन मोती पहनने से वैवाहिक मोती धारण होता है और आत्मविश्वास में भी सुधार होता है और पॉजिटीव एनर्जी पैदा होती है। मोती जीवन में प्रसिद्धि, धन, सौभाग्य और विलासिता की वस्तुओं को लाने के लिए फेमस हैं।
  • मोती क्रोध, तनाव और मानसिक तनाव को शांत करने के लिए बहुत अच्छा होता हैं। चिड़चिड़े स्वभाव वाले लोगों को मोती पहनने की सलाह दी जाती है।
  • मोती चंद्रमा के दुष्प्रभाव को दूर करते हैं और मन को मजबूत करते हैं।
  • मोती समृद्धि का प्रतीक है और माना जाता है कि यह सौभाग्य लाता है।

मोती कैसे पहनना चाहिए?

दाहिने हाथ की छोटी उंगली में मोती पहनने की सलाह दी जाती है। इसे चांदी की अंगूठी में पहनना चाहिए।
सोमवार की सुबह मोती पहनना चाहिए।