हॉट स्टोन मसाज, मसाज थेरेपी का ही एक प्रकार है। यह मसल्स को आराम देने के साथ बॉडी को रिलेक्स रखता है। इसके अलावा यह टेंशन और दर्द को भी दूर करता है। इसकी मसाज से मासपेशियों में दर्द कम हो सकता है। क्योकि मसाज यानि मालिश एक सशक्त प्राकृतिक उपाय है। शरीर की मालिश वास्तव में मसल्स का व्यायाम है और थकान को दूर करने का सबसे सरल उपाय है। लंबे समय तक मांसपेशियों में तनाव और दर्द को कम करने के लिए इसकी गर्मी का इस्तेमाल किया जाता है। इससे प्रभावित क्षेत्र में रक्त के प्रवाह को बढ़ाने में मदद मिलती है। इससे मांसपेशियों की ऐंठन कम हो सकती है और लचीलेपन और गति की सीमा बढ़ सकती है। साथ ही यह डीप टिशू मैन्युपुलेशन को भी आसान बनाता है। यह मसाज आपके शरीर में सॉफ्ट टिश्यूज और तनावयुक्त मसल्स को आराम देती है। लोग तनाव से निजात पाने के लिए हॉट स्टोन मसाज  का सहारा लेते हैं। मसाज थेरेपी के द्वारा शरीर की मासपेशियों को आराम पहुंचाया जाता है। इसके लिए थेरेपिस्ट बहुत सारी तकनीकों का सहारा लेते हैं। शरीर को फायदा पहुंचाने के लिए हॉट स्टोन मसाज अच्छा साधन है।

stone relex masinside

बीमारी को करें दूर 

हॉट स्टोन मसाज ऑटोइम्यून बीमारी के लक्षणों को दूर करने में  मदद कर सकता है। हॉट स्टोन मसाज मांसपेशियों में तनाव और दर्द को दूर करने में मदद करता है। लंबे समय तक मांसपेशियों में तनाव और दर्द को कम करने के लिए इसकी गर्मी का इस्तेमाल किया जाता है। इससे प्रभावित क्षेत्र में रक्त के प्रवाह को बढ़ाने में मदद मिलती है। इससे मांसपेशियों की ऐंठन कम हो सकती है और लचीलेपन और गति की सीमा बढ़ सकती है। साथ ही यह डीप टिशू मैन्युपुलेशन को भी आसान बनाता है। हॉट स्टोन मसाज फाइब्रोमायल्जिया जैसे दर्दनाक स्थितियां दूर कर सकती है। फाइब्रोमायल्जिया एक ऐसी स्थिति है जिसके कारण बड़े पैमाने पर क्रोनिक दर्द होता है। 2002 के एक अध्ययन के मुताबिक, फाइब्रोमायल्जिया से पीड़ित लोग, जिन्होंने 30 मिनट तक मसाज करवाया उन्हें बहुत ही आराम मिला जानें क्या है

इसे भी पढ़ें: इस जादुई घरेलू नुस्‍खे से कुछ ही दिनों में आपका जोड़ों का दर्द होगा छूमंतर

क्या है हॉट स्टोन मसाज थेरेपी 

 stone head mass inside

इस मसाज  के अंतर्गत नर्म, चपटे और गर्म पत्थरों को प्रभावित स्थानों पर रखा जाता है। यह स्टोन बेसाल्ट के बने होते हैं, जो वॉल्कैनिक रॉक का एक प्रकार है। यही कारण है कि इस स्टोन में गर्माहट बनी रहती है। हॉट स्टोन मसाज को हम मसाज का एक नया ट्रेंड मान सकते हैं। इस मसाज की शुरुआत अमेरिका से हुई और यह पूरी दुनिया में लोकप्रिय हो गयी।थेरेपी  के दौरान स्टोन शरीर के इन भागों में रखे जाते हैं। पेट परस्पाइन के साथ सीने पर चेहरे पर हथेलियों पर पैरों पर मसाज थेरेपिस्ट इस थेरेपी  को स्वीडिश मसाज तकनीक के साथ करते हैं। जैसेलंबे स्ट्रोकसर्कुलर मूवमेंटवाइब्रेंशनटेपिंग हॉट स्टोन मसाज  में कुछ ठंडे पत्थरों का उपयोग भी किया जाता है। जिससे त्वचा को आराम पहुंचे और ब्लड वेसल्स भी स्टीफ़ न हों।

इसे भी पढ़ें: शहद एक अच्छा moisturiser और एक अच्छा exfoliator भी है जानिये इसके ये खास गुण

हॉट स्टोन मसाज के फ़ायदे

ston face m inside

तनाव कम करे  यह मसाज थेरेपी  तनाव कम करने में सबसे ज्यादा लाभकारी होती है।

मासपेशियों को आराम दे – हॉट स्टोन मसाज का सबसे अधिक फायदा मसल्स को मिलता है। इससे मसल्स की स्टीफ़नेस कम होती है।

अच्छी नींद के लिए – यह थेरेपी अनिंद्रा के मरीज़ों के लिए तो एक वरदान है।

दर्द में लाभदायक – हॉट स्टोन मसाज  दर्द में बहुत असरकारक होती है। इससे मसल्स के दर्द में भी आराम मिलता है। इंजुरी से रिकवरी – इस थेरेपी का लाभ शरीर की चोटों की रिकवरी में भी मिलता है।