कोरोना की दूसरी लहर अभी भी चल रही है, देश के कुछ राज्यों में कोविड पॉजिटिव केस लगातार सामने आ रहे हैं। कोरोना महामारी को देखते हुए कई महीने तक लॉकडाउन किया गया था, कई महीनों तक लोग अपने-अपने घरों में बंद थे। हालांकि, अब लोगों की परेशानी को देखते हुए कई राज्यों ने पर्यटकों को आने की छूट दे दी है। अब इन 7 राज्यों में पर्यटकों को घूमने के लिए आरटी-पीसीआर रिपोर्ट दिखाने की जरूरत नहीं है और वह बिना किसी टेस्ट के आसानी से आ जा सकेंगे।  

वहीं भारत के अन्य 11 राज्यों में घूमने के लिए पर्यटकों को वैक्सीन के दोनों डोज लगे होने चाहिएं। तभी उन्हें इन शहरों में घूमने के लिए एंट्री दी जाएगी। हाल ही में भारत में अलग-अलग जगहों पर घूमने के लिए सरकार द्वारा नए आदेश जारी किए गए हैं। ऐसे में अगर आप कहीं घूमने की प्लानिंग कर रही हैं तो एक नजर यहां बताई गई जानकारी पर भी जरूर डालें।

इन शहरों में आरटी-पीसीआर रिपोर्ट की नहीं है जरूरत

best travelling place

आंध्र प्रदेश, मध्य प्रदेश, पंजाब, चंडीगढ़, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, और तेलंगाना में आरटी-पीसीआर की जरूरत नहीं है। वहीं जिन राज्यों में कोरोना के मामले आ रहे हैं वहां पैसेंजर्स के सैंपल लिए जाएंगे। बात करें दिल्ली की तो यहां आने वाले रैंडम पैसेंजर्स से टेस्ट के लिए सैंपल लिए जा रहे हैं। हालांकि, आपको सैंपल देने के बाद रोका नहीं जाएगा। अगर आप गुजरात के वड़ोदरा में यात्रा करने वाले हैं तो आपको टेस्ट की आवश्यकता नहीं है, लेकिन अहमदाबाद पहुंचने पर लक्षण दिखने वाले यात्रियों को आरटी-पीसीआर टेस्ट से गुजरना होगा। वहीं तमिलनाडु में एंट्री के लिए यात्रियों को किसी भी तरह का टेस्ट या फिर वैक्सीन सेर्टिफिकेट की आवश्यकता नहीं है, लेकिन अगर आप राज्य के बाहर यानी कोयंबटूर के लिए फ्लाइट ले रही हैं तो इंडिगो जैसी एयरलाइंस के लिए आपको 72 घंटे पहले की हुई कोरोना नेगेटिव टेस्ट यानी नेगेटिव आरटी-पीसीआर रिपोर्ट दिखानी होगी। इसे दिखाने के बाद आप आसानी से जा सकती हैं। इसके अलावा कर्नाटक में महाराष्ट्र और केरल से आए पैसेंजर्स को नेगेटिव आरटी-पीसीआर रिपोर्ट या फिर वैक्सीन की पहली डोज का सर्टिफिकेट दिखाना होगा। वहीं दूसरे राज्यों के यात्री बिना किसी रुकावट के आ जा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: 30 साल के होने से पहले भारत में इन जगहों पर ज़रूर जाएं

इन शहरों में वैक्सीन की पहली डोज है जरूरी

covid test

कुछ राज्यों में यात्रियों को ट्रैवल करने के लिए भले ही आरटी-पीसीआर रिपोर्ट की जरूरत नहीं है, लेकिन इसके लिए कम से कम वैक्सीन की पहली डोज लगी होनी चाहिए। राजस्थान और नागालैंड में घूमने के लिए यात्रियों के पास वैक्सीन की पहली डोज का सेर्टिफिकेट होना अनिवार्य है। वहीं नागालैंड में अगर यात्री को वैक्सीन को फर्स्ट डोज लग गई है और 15 दिन बीत चुके हैं तो वह टेस्ट से बच सकता है, लेकिन उसे 7 दिनों के लिए क्वारंटाइन होना पड़ेगा।

इसे भी पढ़ें:मानसून में बना रही हैं घूमने का प्लान तो इन बातों का रखें ध्यान

Recommended Video

वैक्सीन की दो डोज है जरूरी

vaccine dose

अगर यात्रियों को वैक्सीन की दोनों डोज लग गई हैं तो वह भारत के कई राज्यों में बिना किसी परेशानी के घूम सकते हैं। इसके लिए उन्हें आरटी-पीसीआर की जरूरत नहीं है। इन राज्यों की लिस्ट में चंडीगढ़, केरल, मणिपुर, उड़ीसा, पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा, उत्तराखंड, महाराष्ट्र, और मेघालय शामिल है। वहीं कई जगहों पर यात्रियों की भीड़ को देखते हुए राज्य सरकार नियमों को लगातार बदल भी रही है। ऐसे में किसी भी राज्य में घूमने से पहले कोरोना के नियमों की पूरी जानकारी रखें।

उम्मीद है कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी। साथ ही, आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेखपढ़ने के लिए जुड़े रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।