किसी ने ठीक ही कहा है सुनना कुछ भी सीखने का सबसे महत्त्वपूर्ण भाग है। सबसे ज्यादा ये बात तब ध्यान में आती है जब पैरेंट्स बच्चों की बात करते हैं।अक्सर देखा गया है कि बच्चा कोई भी बात सुने बिना ही उस बात पर रिएक्ट करने लगता है और वो कुछ नया सीखने की बजाय अपने काम से ही डिस्ट्रैक्ट हो जाता है। बच्चों की प्राइमरी स्टेज में उनकी ग्रूमिंग के लिए ये आदत बच्चों में जरूर होनी चाहिए कि वो किसी भी बात को ध्यान से सुनें और उस पर अमल करे। जब बच्चा कोई बात सुनेगा ही नहीं तो वो उस बात को सीखने की भी कोशिश नहीं करेगा। या फिर यूं कहा जाए कि पूरी बात ठीक से न सुनने की वजह से वो समझ ही नहीं पाएगा कि उसके पैरेंट्स या टीचर उसे क्या समझाना चाहते हैं। पैरेंट्स और टीचर की बात को नज़रअंदाज करने की वजह से बच्चे का क्लास में भी परफॉरमेंस खराब हो सकता है और वो दूसरे बच्चों से पीछे हो सकता है।

एक्टिव लिसनिंग हैबिट किसी बच्चे की अन्य महत्वपूर्ण स्किल्स जैसे प्रॉब्लम सॉल्विंग हैबिट्स, नेतृत्व और टीम वर्क की तरह ही विकास के लिए अति आवश्यक है। यह एक ऐसा कौशल है जिसे हांसिल किया जा सकता है और विकसित किया जा सकता है लेकिन इसमें समय और धैर्य की आवश्यकता होती है। आइए जानें क्या है एक्टिव लिसनिंग और बच्चों के लिए क्यों जरूरी है एक्टिव लिसनर होना -

एक्टिव लिसनिंग क्या है 

active listening

एक्टिव लिसनिंग का मतलब है बोलने वाले की पूरी बातों पर ध्यान देना और उसके द्वारा कही जाने वाली पूरी बातों को समझने की कोशिश करना। एक्टिव लिसनर वो होता है जो किसी भी डिस्कशन में सकारात्मक रूप से हिस्सा लेता है ,सुनी हुई बातों को याद रखता है और उन बातों पर जिज्ञासा दिखाते हुए प्रश्न करता है। एक्टिव लिसनिंग में पॉजिटिव कम्युनिकेशन को प्रोत्साहित करना भी शामिल होता है। इसका मतलब ये है कि दूसरे व्यक्ति की बात को स्वीकार करना और अपने शब्दों में कही गई बातों को दोहराना।

बच्चों के लिए क्यों जरूरी है एक्टिव लिसनिंग हैबिट्स 

girl listening

एक बच्चे के सम्पूर्ण विकास के लिए उसका एक्टिव लिसनर होना बहुत जरूरी है जब बच्चा एक्टिव लिसनर होता है तो वो अच्छा कम्यूनिकेटर भी होता है साथ ही वो प्रॉब्लम सॉल्विंग भी होता है। एक्टिव लिसनर बच्चा हर जगह सबसे आगे ही रहता है। एक्टिव लिसनर होने के कई फायदे हैं जैसे -

इसे जरूर पढ़ें- बच्चों को स्मार्ट बनाना है तो करवाएं ये स्मार्ट लर्निंग कोर्सेस

किसी बात पर ग़लतफ़हमी न होना 

जब बच्चा किसी की बात को आसानी से सुनता है तब उसे किसी तरह का संदेह या ग़लतफ़हमी नहीं होती है और वो सुनी हुई बात पर बखूबी अमल कर सकता है। 

Recommended Video

काम करने की क्षमता का बढ़ना 

एक्टिव लिसनर बच्चा किसी भी काम को ज्यादा अच्छी तरह करता है और उस काम में रूचि भी लेता है क्योंकि उसने वो बात ठीक से सुनी होती है। 

बढ़ा हुआ कॉन्फिडेंस लेवल 

confident

एक एक्टिव लिसनर बच्चा बहुत ज्यादा कॉन्फिडेंट फील करता है क्योंकि उसे पता होता है कि वो जो भी कर रहा है वो ठीक ही कर रहा है क्योंकि उसने उस काम के लिए दिए गए दिशा निर्देशों को अच्छी तरह से सुना और उसका अनुपालन किया है। 

आत्मनिर्भरता को बढाती है

एक एक्टिव लिसनर बच्चा पूरी तरह से आत्मनिर्भर बन जाता है क्योंकि वो हर एक काम को बखूबी करने की क्षमता रखता है। 

बच्चों के लिए एक्टिव लिसनिंग एक्टिविटीज:

उनका पूरा ध्यान रखें

जब बच्चे आपकी बात सुनें तो अपने बच्चे को आपकी ओर देखने के लिए प्रोत्साहित करें। उनका पूरा ध्यान आपकी ओर केंद्रित होना एक एक्टिव लिसनर होने के लिए महत्वपूर्ण बात है।

एक इंटरैक्टिव एक्टिविटी कराएं 

active child

बच्चे के साथ इंटरैक्टिव एक्टिविटी करें जैसे उसे कोई स्टोरी सुनाते हुए बीच में रुक जाएं और बच्चे से पूछें कि उसे क्या लगता है कि इस स्टोरी में आगे क्या होना चाहिए। बच्चे से सुनी हुई स्टोरी का डिस्क्रिप्शन पूछें। 

इसे जरूर पढ़ें- बच्चों में शुरू से ही डालें ये 6 अच्‍छी आदतें, आगे चलकर बनेगा आत्‍मनिर्भर

स्टोरी मेकिंग गेम खेलें 

ये लिसनिंग हैबिट मेन्टेन करने अच्छा। आप इसे पूरी फैमिली के साथ भी खेल सकती हैं। घर के सभी लोग एक स्टोरी बनाएं जिसमें एक लाइन बच्चे को सुनने को कहें और सुनकर आगे की स्टोरी क्रिएट करने को बोलें (Personality Development के लिए बच्चों को सुनाएं कहानियां)। 

उनकी शब्दावली बढ़ाने में मदद करें 

बच्चे एक ऐसे शब्द पर अटक सकते हैं जो उन्हें समझ में नहीं आता है और जो कुछ कहा जा रहा है, उसे याद नहीं करना चाहिए। अपने बच्चे की शब्दावली बढ़ाने में उनकी मदद करें इसके लिए आप बुक्स, ऑनलाइन ऐप्स चार्ट आदि का इस्तेमाल हैं। लेकिन याद रहे ये एक्टिविटी उसे करवाएं। 

आप भी एक अच्छी श्रोता बनें

बच्चे को एक्टिव लिसनर बनाने के लिए आपका भी अच्छा श्रोता बनना जरूरी है। इसलिए हमेशा बच्चे की बात ध्यान से सुनें और उसकी बात समझने की कोशिश करें। 

इन मुख्य बातों को ध्यान में रखकर आप अपने बच्चे में लिसनिंग हैबिट्स के साथ और भी आदतें डाल सकती हैं जिससे आपका बच्चा कॉन्फिडेंट होने के साथ अपनी कक्षा में भी अच्छा परफॉरमेंस देगा। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।