जब देश की सबसे अमीर महिलाओं के बारे में बात होती है तो एचसीएल टेक्नोलॉजीज़ की चेयर पर्सन रोशनी नादर का नाम सबसे पहले आता है। वैसे तो रोशनी नादर किसी पहचान की मोहताज नहीं हैं लेकिन इन्हें एचसीएल के संस्थापक शिव नादर की बेटी के रूप में जाना जाता है। जल्दी ही 38 वर्षीय रोशनी नादर मल्होत्रा को भारत के तीसरे सबसे बड़े सॉफ्टवेयर निर्यातक एचसीएल टेक्नोलॉजीज के अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया है। इससे पहले वह एचसीएल एंटरप्राइज की कार्यकारी निदेशक और सीईओ थीं। आइए आपको बताते हैं उनके जीवन से जुड़ी कुछ ख़ास बातें -

शुरूआती जीवन 

रोशनी नादर का जन्म 1982 में दिल्ली में हुआ था। उनका पूरा नाम रोशनी नादर मल्होत्रा है। रोशनी नादर मल्होत्रा एचसीएल एंटरप्राइज की कार्यकारी निर्देशिका और सीईओ हैं। वह एचसीएल के संस्थापक शिव नादर और किरन नादर की एकलौती संतान हैं। 

शिक्षा व करियर 

roshni nadar bio

रोशनी नादर ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा वसंत वैली स्कूल, नई दिल्ली से की। उन्होंने रेडियो / टीवी / फिल्म के क्षेत्र में नॉर्थवेस्टर्न यूनिवर्सिटी से कम्युनिकेशन में स्नातक की पढ़ाई की। उसके बाद उन्होंने बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में मास्टर्स की उपाधि प्राप्त की, जो कि केलॉग स्कूल ऑफ मैनेजमेंट से सोशल एंटरप्राइज मैनेजमेंट और स्ट्रेटजी पर आधारित है। उन्होंने कई कंपनियों में न्यूज़ प्रोड्यूसर की तरह थोड़े समय के लिए काम किया। उसके बाद उन्होंने 2009 में HCL कंपनी बतौर CEO ज्वाइन कर ली। HCL में शामिल होने के एक वर्ष के भीतर, उन्हें HCL के कार्यकारी निदेशक और सीईओ के रूप में पदोन्नत किया गया। एचसीएल कॉरपोरेशन के सीईओ बनने से पहले, रोशनी नादर, शिव नादर फाउंडेशन के ट्रस्टी के रूप में कार्य कर रही थी, जो चेन्नई के श्री शिवसुब्रमण्य नादर कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग को कई बेनिफिट्स देने के लिए चलाया जाता है। रोशनी नादर आर्थिक रूप से वंचितों के लिए एक नेतृत्व अकादमी, विद्याज्ञान लीडरशिप अकादमी की अध्यक्षा भी हैं।

इसे जरूर पढ़ें: इन अनदेखी तस्वीरों से जानिए नीता अंबानी क्यों हैं सबसे ज्यादा प्रभावशाली महिलाओं में से एक

वैवाहिक जीवन 

roshni nadar with shikhar

रोशनी नादर ने साल 2010 में शिखर मल्होत्रा से शादी की। शिखर एचसीएल हेल्थकेयर के वाइस चेयरमैन के रूप में काम करते हैं। शिखर और रोशनी के दो बेटे अरमान और जहान हैं जिनका जन्म 2013 और 2017 में हुआ। एक ट्रस्टी के रूप में शिखर, शिव नादर फाउंडेशन में कई भूमिकाएँ निभाते हैं और इसका उद्देश्य परिवर्तनकारी नेतृत्व के माध्यम से राष्ट्र-निर्माण के अपने दृष्टिकोण को आकार देना है। वह शिव नादर स्कूलों के संस्थापक सीईओ भी हैं। शिखर ने अपनी पत्नी रोशनी नादर मल्होत्रा के साथ 2018 में द हैबिट्स ट्रस्ट की सह-स्थापना की। वन्यजीव और संरक्षण के अलावा, वह खेल, विशेष रूप से फुटबॉल के बारे में भी भावुक हैं।

पिता से है अच्छी बॉन्डिंग 

roshni  with shiv nadar

भारत के आईटी दिग्गज शिव नादर की पुत्री रोशनी नादर मल्होत्रा की अपने पिता से बहुत अच्छी बॉन्डिंग है। महज 38 वर्ष की आयु में उनके पिता ने HCL कंपनी का दायित्व रोशनी के कन्धों पर डाल दिया और उन्हें HCL का नया चेयर पर्सन नियुक्त किया और स्वयं अध्यक्ष पद से स्तीफा ले लिया। 

सबसे शक्तिशाली महिलाओं में से एक 

roshni nadar

युवा सीईओ के लिए उपलब्धियों की सूची लंबी है। रोशनी मल्होत्रा फोर्ब्स मैगज़ीन के अनुसार दुनिया की 100 सबसे शक्तिशाली महिलाओं में से एक हैं और साथ ही देश की सबसे अमीर महिलाओं में से भी एक हैं। 36,800 करोड़ रुपये की संपत्ति के साथ रोशनी भारत की सबसे अमीर महिला हैं। 2019 में फोर्ब्स की विश्व की 100 सबसे ताकतवर महिलाओं की सूची में उन्हें 54वां स्थान दिया गया था। 

इसे जरूर पढ़ें: जानें देश के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी की बहू श्लोका मेहता के बारे में

Recommended Video


मिले हैं कई सम्मान 

  • फोर्ब्स द्वारा 2017, 2018, और 2019 में विश्व की 100 सबसे शक्तिशाली महिलाओं की सूची को संकलित और जारी किया गया।
  • उन्हें 2017 में बबसन कॉलेज द्वारा लुईस इंस्टीट्यूट कम्युनिटी चेंजमेकर अवार्ड से सम्मानित किया गया
  • होरीस द्वारा मान्यता प्राप्त, अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्ध थिंक टैंक, इंडियन बिजनेस लीडर ऑफ द ईयर 2019 के रूप में।

इस तरह रोशनी नादर मल्होत्रा देश की सबसे अमीर महिला होने के साथ काफी कुशाग्र बुद्धि की भी हैं। यही वजह है कि उन्हें इतनी कम उम्र में ही कई अवार्ड्स से सम्मानित तो किया ही गया, साथ ही HCL टेक्नोलॉजीज़ की चेयर पर्सन के रूप में नियुक्त किया गया।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें। इसी तरह के अन्य रोचक लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit: Pinterest