• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

गोरी त्वचा और पतली कमर ही नहीं, दुनिया भर में सुंदरता से जुड़े हैं ये अजीबो-गरीब पैमाने और रीति-रिवाज

दुनिया में सुंदरता को लेकर अलग-अलग पैमाने बनाए गए हैं। चलिए जानते हैं इनके बारे में।
author-profile
  • Hema Pant
  • Editorial
Published -21 Jul 2022, 18:18 ISTUpdated -21 Jul 2022, 19:15 IST
Next
Article
weird beauty rituals around world

सुंदरता की असली पहचान क्या है? यह सवाल सालों से चर्चा का विषय रहा है। कई लोगों के लिए यह गोरी त्वचा है, तो कई पतला फिगर कहते हैं। हालांकि, हर कोई इसे अपनी पसंद अनुसार जाहिर करता है। लेकिन आज भी दुनियामें ऐसी जनजातियां या लोगों का समूह  है, जो इन पैमानों के बिल्कुल विपरित है। चलिए जानते हैं दुनिया भर में क्या है सुंदरता से जुड़े रिवाज या पैमाने। 

नेक रिंग पहनना

neck ring beauty tradition

म्यांमार में कायन लोगों की पदुंग महिलाएं गले में कॉइल रिंग्स पहनती हैं।  पहली बार 5-8 साल की उम्र में यह रिंग पहनाई जाती है। यहां लंबी गर्दन को खूबसूरती का प्रतीक माना जाता है। उम्र बढ़ने के साथ-साथ इन रिंग की गिनती भी बढ़ जाती है।

45 साल तक महिलाएं 10 कॉइल रिंग पहनती हैं, जिसका वजन करीब 15 किलो होता है। कहा जाता है कि जितनी बड़ी गर्दन उनकी उन्हें उतना ही अच्छा पति मिलेगा। 

फुट बाइडिंग 

food binding beauty tradition

पुराने समय में चीन की महिलाओं की सुंदरता को उनके छोटे पैरों से देखी जाती है। लेकिन इसके लिए उन्हें कई जतन भी करने पड़ते थे। यानी इसमें महिलाओं के पैर के आकार को बदला जाता था, जिसके लिए 5 साल की उम्र से उनके पैरों को बाधंना शुरू कर दिया जाता था। इस रिवाज को फूट बाइडिंग या लोट्स फूट कहा जाता था।

इसके लिए लोट्स शूज भी बनाए जाते थे। यानी पैरों का आकार 2 फीट से ज्यादा नहीं होना चाहिए। पैर सॉफ्ट, सिमेट्रिकल और फ्रेग्नेंट होने चाहिए। यहां बड़े पैरों को अच्छा नहीं माना जाता था। हालांकि, कुछ समय बाद इस पर बैन लगा दिया था। लेकिन आज भी आपको पुरानी महिलाएं इस ब्यूटी ट्रेडिशन को फॉलो करती हुई नजर आ सकती हैं। (जानें शादी से जुड़े अजीब रिवाज)

इसे जरूर पढ़ें- क्यों शादी से पहले दूल्हा-दुल्हन पहनाते हैं एक-दूसरे को अंगूठी, जानें महत्व

लिप प्लेट

lip plate

मुर्सी के महिलाओं के लिए खूबसूरती का मतलब बड़े होंठ हैं। लेकिन अब आप सोच रहे होंगे इसमें कौन-सी नई बात है। पर आपको बता दें कि यहां होंठों को बढ़ा करने के लिए सर्जरी नहीं बल्कि इनमें मिट्टी की प्लेट लगाई जाती है। इसे उनकी पहचान और खूबसूरती के रूप में देखा जाता है। (महिलाएं पैर की उंगली में बिछिया क्यों पहनती हैं?)

इसे जरूर पढ़ें- देश-विदेश में हैं शादी से जुड़े ये 5 अजीबो-गरीब रिवाज

बड़े ईयरलोब 

big earlobe beauty tradition

दक्षिण केन्या की मसाई जनजाति की महिलाओं की खूबसूरती का पैमाना उनके बड़े कान के छेद हैं। वह कलरफुल शॉल और कपड़ों के साथ अलग प्रकार की ईयररिंग्स पहनती हैं। उनके ईयरलॉब बेहद बड़े होते हैं, जिनमें वह डैंगलिंग ईयरिंग्स पहनती हैं। वह अपने कान के छेद को बड़ा करने के लिए दांत, पत्थर और लकड़ी जैसी भारी चीजों का इस्तेमाल करती हैं। यहां की महिलाएं ईयररिंग्स से मैच करता हुए हेडस्कार्फ़ और जूता पहनती हैं। (भारत में पीरियड्स से जुड़े रिवाज)

उम्मीद है कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। इसी तरह के अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए हमें कमेंट कर जरूर बताएं और जुडे रहें हमारी वेबसाइट हरजिंदगी के साथ।

Image Credit: Shutterstock

 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।