पढ़ाई में एकाग्रता के लिए बहुत महत्वपूर्ण है कि पढ़ाई की जगह और इसमें इस्तेमाल होने वाली चीज़ों को करीने से रखा जाए। जिस तरह से घर की प्रत्येक चीज़ों के लिए वास्तुशास्त्र के कुछ नियम बनाए गए हैं उसी तरह स्टडी टेबल की भी एक निश्चित दिशा है। ऐसी मान्यता है कि यदि घर में स्टडी टेबल अस्त व्यस्त तरीके से रखी हुई होगी तो बच्चों का मन पढ़ाई में नहीं लगेगा और ये उन्हें करियर में आगे बढ़ने से भी रोकती है। 

वास्तु नियमों और दिशानिर्देशों के अनुसार स्टडी टेबल की जगह चुनना और रखना यह सुनिश्चित करता है कि छात्र की एकाग्रता लंबी अवधि के लिए बरकरार रहती है, जो बदले में समझने की क्षमता, स्मृति की अवधारण शक्ति को बढ़ाती है और अध्ययन में उसकी रुचि बढ़ती है। आइए एस्ट्रोलॉजर और वास्तु स्पेशलिस्ट डॉ आरती दहिया जी से जानें घर की किस दिशा में स्टडी टेबल रखनी चाहिए और किस जगह पर इसे न रखना ही सही होता है। 

कैसा होना चाहिए स्टडी टेबल का आकार 

study table shape

जब भी आप घर में स्टडी टेबल रखें इसके आकार पर जरूर ध्यान दें। हमेशा सुनिश्चित करें कि स्टडी टेबल का आकार चौकोर या आयताकार ही हो। बच्चों की एकाग्रता कायम रखने के लिए स्क्वायर स्टडी टेबल ही बेहतर है। यदि टेबल आयताकार है तो सुनिश्चित करें कि लंबाई और चौड़ाई 1:2 से अधिक न हो उदाहरण के लिए, यदि स्टडी टेबल की लंबाई 4 फीट है तो चौड़ाई 2 फीट से 8 फीट के बीच होनी चाहिए।

इसे जरूर पढ़ें:Vastu Tips: अच्छी सेहत के लिए घर की किस दिशा में रखें डाइनिंग टेबल

स्टडी टेबल की दिशा 

स्टडी रूम हमेशा घर की पूर्व या पश्चिम दिशा में होना चाहिए, दूसरी सबसे अच्छी दिशा उत्तर है। हमेशा घर में स्टडी टेबल रखते समय ये सुनिश्चित करें कि छात्र पढ़ते समय पूर्व या उत्तर की ओर मुंह करे। स्टडी टेबल को दीवार से कम से कम 3-4 इंच की दूरी पर रखें। जिस दिशा में छात्र मुंह करके बैठे उसके सामने एक खाली जगह होनी चाहिए। ऐसा करने से नए विचार दिमाग में आते हैं। अगर स्टडी टेबल लकड़ी की है, तो उसे रखने के लिये पूर्व दिशा या आग्नेय कोण की दिशा उचित है। इसके अलावा दक्षिण-पूर्व दिशा का चुनाव करना बच्चों में एकाग्रता को बढ़ाता है। लेकिन यदि स्टडी टेबल अन्य किसी धातु जैसे लोहे की है तो उसके लिए पश्चिम दिशा या वायव्य कोण, यानी उत्तर-पश्चिम दिशा का चुनाव करना ठीक होता है। 

स्टडी टेबल के ऊपर का स्थान खाली रखें 

study table upper place

स्टडी रूम में सभी पुरस्कार और प्रमाण पत्र, ट्राफियां और प्रेरक पोस्टर उत्तर या पूर्व की दीवार पर लगाएं। स्टडी टेबल के ऊपर कोई बीम या कैबिनेट नहीं होना चाहिए। हमेशा स्टडी टेबल के ऊपर का स्थान खाली रखें। स्टडी टेबल और चेयर के ठीक पीछे दरवाजा नहीं होना चाहिए। दरवाजे की जगह टेबल के पीछे खाली दीवार हो सकती है। स्टडी टेबल के सामने एक खुला क्षेत्र होना चाहिए। 

dr.aarti dahiya quote for study table

स्टडी टेबल के सामने लगाएं पोस्टर 

जब भी बच्चा पढ़ने बैठे स्टडी टेबल के सामने की जगह खाली नहीं होनी चाहिए। इसके लिए बच्चे को सामने की खाली दीवार पर कोई अच्छे पोस्टर या पढ़ाई सम्बंधित सामग्रियां टांग कर रखें। यदि स्टडी टेबल में ज्यादा प्रकाश के लिए टेबल लैंप रखना है तो इसे स्टडी टेबल के बाईं ओर रखा जाना चाहिए और टेबल के दक्षिण-पूर्व या उत्तर-पश्चिम में लैंप रखा होना चाहिए।

इसे जरूर पढ़ें:Expert Tips: जानें घर की सुख समृद्धि बनाए रखने के लिए क्या होनी चाहिए बेड की सही दिशा

Recommended Video

स्टडी टेबल के सामने नहीं रखें कोई दर्पण 

हमेशा स्टडी टेबल रखते समय ध्यान रखें कि स्टडी टेबल से कोई दर्पण दिखाई नहीं देना चाहिए। यह बच्चे की व्याकुलता का कारण बनता है और एकाग्रता ख़त्म करता है, क्योंकि बच्चे का ध्यान बार-बार दर्पण पर पड़ता है और पढ़ाई में मन नहीं लगता है। स्टडी रूम के लिए ऑफ-व्हाइट, व्हाइट, आइवरी सबसे सकारात्मक रंग हैं। इसलिए जिस कमरे में स्टडी टेबल रखें उसका रंग इसी हिसाब ये तय करें जिससे सकारात्मक ऊर्जा आ सके। 

उपर्युक्त सभी बातों का ध्यान रखते हुए स्टडी टेबल रखने से बच्चे का मन पढ़ाई में एकाग्रचित रहता है और उसके अंदर कम्पटीशन की भावना आती है। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik and pixabay