Sharing is caring. यह जुमला हम अक्सर सुनते हैं। यकीनन यह सुनने में एक साधारण सा वाक्य लगे, लेकिन वास्तव में इसका एक बेहद गहरा अर्थ है, जिसके बारे में आज के समय में बच्चे कम ही समझते हैं। खासतौर से, महंगाई के इस दौर में जब कपल्स सिर्फ एक ही बच्चे पर जोर देते हैं तो ऐसे में बच्चे को घर में काफी पैम्पर किया जाता है और उसे अपनी चीज को किसी के साथ शेयर करने की जरूरत भी महसूस नहीं होती। जिसके कारण उसके भीतर शेयरिंग की आदत का विकास नहीं हो पाता। वैसे घर में एक से अधिक बच्चे होने पर भी बच्चे किसी से अपना सामान शेयर करना कम ही पसंद करते हैं। कई बार तो माता-पिता स्वयं ही दोनों बच्चों के लिए अलग-अलग सामान लेकर आते हैं, ताकि उनके बीच किसी तरह का झगड़ा ना हो।

इस तरह बच्चे कभी भी शेयर करना नहीं सीख पाते। हालांकि यह जिम्मेदारी पैरेंट्स की है कि वह बच्चों के भीतर शेयरिंग की आदत डालें। यह आदत उन्हें ना सिर्फ अधिक मानवीय बनाती है, बल्कि बड़े होकर मुश्किल हालातों में इसी आदत के कारण उनका जीवन काफी आसान बनता है। अब सवाल यह उठता है कि बच्चे के भीतर शेयरिंग की आदत का विकास कैसे करें। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको कुछ ऐसे आसान टिप्स बता रहे हैं, जिसकी मदद से आप बच्चों को शेयरिंग का महत्व बेहद आसानी से समझा पाएंगी-

इसे भी पढ़ें: Parenting Tips:इन आसान टिप्स की मदद से करें सिंगल चाइल्ड की बेहतरीन परवरिश

बच्चे से करें बात

kids the art of sharing inside

हो सकता है कि आप बच्चे को कुछ शेयर करने के लिए कहें और वह अपने हाथ पीछे कर लें। इस स्थिति में आप बच्चे पर गुस्सा करने की जगह उससे प्यार से बात करें। साथ ही उसे यह समझाने का प्रयास करें कि इससे उसके दोस्तों को कितना बुरा लगा होगा। आप किसी उदाहरण से भी उसे समझा सकती हैं। जैसे उससे कहें कि अगर स्कूल में पेपर के समय उसकी पेंसिल खो जाए और उसका कोई दोस्त उसके साथ अपनी पेंसिल शेयर नहीं करेगा, तब उसे कैसा लगेगा। (बच्चे को सिखाएं पैसे बचाने का हुनर) इस तरह छोटे-छोटे उदाहरणों के माध्यम से आप उसे शेयरिंग का महत्व समझाने की कोशिश करें।

ना करें गुस्सा

kids the art of sharing inside

बच्चों बेहद मासूम होते हैं और किसी भी बात को अपने दिल पर बेहद जल्दी ले लेते हैं। इसलिए उन पर गुस्सा ना करें और ना ही उन्हें बड़े-बड़े भाषण ना दें। इससे उन्हें कुछ समझ नहीं आएगा, लेकिन वह घबरा जाएंगे। बेहतर होगा कि आप थोड़ा धैर्य का परिचय दें और उन्हें बेहद प्यार से अपनी बात समझाएं। (बचपन में ही दें बच्चों को ये 5 सीख)

Recommended Video

गेम का लें सहारा

kids the art of sharing in

बच्चे कोई भी बात सिर्फ एक बार में ही नहीं समझते, बल्कि इसके लिए उन्हें बार-बार प्रैक्टिस की जरूरत होती है। इसलिए आपको उनके साथ थोड़ा मेहनत करनी होगी। हालांकि आप उन्हें गेमिंग के जरिए शेयरिंग सिखा सकती हैं। मसलन, आप सभी घर में पेंटिंग या कलरिंग करें और एक ही पेंटिंग कलर्स का यूज करें। इससे बच्चा अपनी चीजें शेयर करना सीखेगा। इसी तरह आप कुकीज बनाकर बच्चे को प्लेट में दें और उसे कमरे में सभी को देने के लिए कहें।

इसे भी पढ़ें: इन 4 Healthy Indian foods को मां खिलाए तो बच्‍चा चाव से खाए


करें रोल प्ले

kids the art of sharing inside

कहते हैं कि किसी भी चीज का अहसास तब होता है, जब खुद पर बीतती है। यह रूल बच्चों पर भी लागू होता है। आप उन्हें शेयरिंग की अहमियत समझाने के लिए इसी नियम को अपना सकती हैं। इसके लिए आप उनके साथ रोल प्ले का गेम खेलें। आप उन्हें कहें कि अब वह मम्मा हैं और आप बेबी। जब वह आपसे कोई चीज मांगे तो आप भी उस समय मना कर दें। (पेरेंटिंग के ये 5 इफेक्टिव टिप्स) इससे बच्चा अपसेट होगा। अब आप उन्हें यह कहें कि जिस तरह मम्मा होने के बाद अब उन्हें बुरा लग रहा है, ठीक उसी तरह उनके दोस्तों को भी बुरा लगता है। इस तरह, वह आपकी बात यकीनन समझेंगे।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@freepik)