अगर तपती दोपहर या गर्मी में आधी रात को अचानक से बिजली गुल हो जाए तो किसी सजा से कम नहीं है। शायद ऐसी मुसीबत से हर कोई बचना चाहेगा। गर्मी का मौसम स्टार्ट होते ही गांव, देहात शहरों आदि जगह पर पॉवर कट यानी बिजली कटैती आम बात है। कुछ जगह पर तो पूरे दिन ही बिजली नहीं आती है। ऐसे में भीषण गर्मी में सुकून की ज़िन्दगी देने के लिए एक मात्र उपाय नज़र आता है कि इन्वर्टर खरीद लिया जाए। ऐसे में अगर आप भी इन्वर्टर खरीदने का प्लान बना रहे हैं, तो आपको कुछ बातों पर विशेष ध्यान देने की ज़रूरत है। क्योंकि, आजकल बाज़ार में एक नहीं बल्कि कई वैरायटी के इन्वर्टर मौजूद होते हैं, जिसे खरीदने के लिए पहले उसके बारे में जानकारी ज़रूर होनी चाहिए। इस लेख में हम आपको कुछ टिप्स बताने जा रहे हैं, जिन्हें अपनाकर आसानी से कम कीमत और अच्छा इन्वर्टर खरीद सकते हैं। तो आइए जानते हैं।           

पहले बजट तय करें 

things to know before buying inverter inaidE

इन्वर्टर ही नहीं बल्कि किसी भी सामान को खरीदने के लिए सबसे पहले बजट निर्धारित करना बहुत ज़रूरी होता है। ऐसा नहीं कि आप इन्वर्टर खरीदने के लिए घर से निकल गए हैं और जब दुकान पहुंचे तो मालूम चला कि निकले थे पांच हज़ार रुपये लेकर और दाम है दस हज़ार रुपये। आजकल बाज़ार में अलग-अलग कीमत के कई इन्वर्टर मिलते हैं। इसलिए बाज़ार जाने से पहले नेट का किसी अन्य माध्यम से कीमत की जानकारी अपने पास ज़रूर रखें। इसके अलावा किस ब्रांड का लेना है इसकी भी जानकारी ज़रूर रखें। 

इसे भी पढ़ें: हाइड्रोजन पेरॉक्साइड घर के इन कामों को बनाएगा बेहद आसान, जानिए कैसे

बिजली खपत की जानकारी रखें 

things to know before buying inverter inside

ये आपको ज़रूर मालूम होना चाहिए कि इन्वर्टर सिमित मात्रा में पॉवर देता है। सामान्य बिजली की तरह इन्वर्टर बैकअप नहीं दे सकता है। ऐसे में ये जानकारी रखना बहुत ज़रूरी है कि घर में कितने पंखे, बल्ब आदि इलेक्ट्रॉनिक चीजों का इस्तेमाल करना है। आजकल बाज़ार में कई हैवी इन्वर्टर आसानी से मिल जाते हैं, जिससे आप आसानी से फ्रिज, टीवी, एसी आदि घंटों तक चला सकते हैं। (इन्वर्टर की बैटरी के लॉन्ग लाइफ के लिए टिप्स) ऐसा नहीं कि कम पॉवर का इन्वर्टर खरीद लिए और फ्रिज के साथ एसी भी चला रहे हैं। 

Recommended Video

बैटरी का रखें ध्यान 

things to know before buying inverter inside

इन्वर्टर खरीदते वक्त सबसे अधिक ध्यान देने वाली बात है तो वो है बैटरी कैसी होनी चाहिए। बैटरी की क्षमता ये जानकारी देती है कि बिजली जाने के बाद इन्वर्टर कितना बैकअप दे सकता है। आजकल बाज़ार में एक नहीं बल्कि कई तरह की बैटरी होती हैं। पहली-फ़्लैट बैटरी, दूसरी-ट्यूबलर बैटरी और तीसरी-ड्राई बैटरी जिसे रखरखाव मुक्त बैटरी कहते हैं। कहा जाता है कि एक इन्वर्टर के लिए सबसे बेहतरीन ट्यूबलर बैटरी ही होती है। हालांकि, इसके लिए आप किसी जानकार से पूछ भी सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: Easy Hacks: उपयोग के दौरान हाथों में लगे फेवीक्विक को हटाने के उपाय

इन्वर्टर मशीन का भी रखें ध्यान 

things to know before buying inverter inside

जी हां, बैटरी के साथ इन्वर्टर मशीन कैसा होना चाहिए और कैसा नहीं इसका भी ध्यान रखना बहुत ज़रूरी होता है। बैटरी की तरह भी इन्वर्टर कई तरह के होते हैं। आजकल घरों में मुख्य रूप से दो तरह से इन्वर्टर इस्तेमाल होते हैं। पहला साइन वेव इन्वर्टर और दूसरा प्योर साइन वेव इन्वर्टर। हालांकि, इन दोनों ही इन्वर्टर को बेस्ट माना जाता है लेकिन, जानकारों की माने तो साइन वेव इन्वर्टर  बिजली की खपत कुछ अधिक ही करता है और कई उपकरण भी अधिक सुरक्षित नहीं रहते हैं। आजकल सोलर इन्वर्टर बाज़ार में मिलते हैं। (इन्वर्टर का इस तरह रखें ख्याल, बैटरी भी ख़राब नहीं होगी सालों तक)

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@hz,www.genusinnovation.com)