हिन्दू कैलेंडर के अनुसार वैशाख महीना साल का दूसरा महीना होता है। इस महीने का पुराणों में विशेष महत्त्व बताया गया है। इस माह में दान पुण्य करना और पवित्र नदी में स्नान करना विशेष फलदायी माना जाता है। वैशाख का महीना 28 अप्रैल से शुरू हो चुका है और यह 29 मई तक चलेगा।

शास्त्रों के अनुसार इस महीने में किए गए पुण्य कार्यों का फल कई जन्मों तक मिलता है। इस माह में विष्णु जी का पूजन विशेष रूप से किया जाता है। नई दिल्ली के जाने माने पंडित, एस्ट्रोलॉजी, कर्मकांड,पितृदोष और वास्तु विशेषज्ञ प्रशांत मिश्रा जी बता रहे हैं कि इस महीने में कौन से कार्य करने चाहिए जिससे शुभ फल की प्राप्ति हो और समस्त पापों से मुक्ति मिले। 

विष्णु पूजन करना 

vishnu pujan vaishakh

वैशाख के महीने को शास्त्रों में सबसे पवित्र महीनों में से एक माना गया है। इस महीने में विष्णु पूजन विशेष फलदायी होता है। ऐसा करने से भगवान् विष्णु की कृपा दृष्टि सदैव मनुष्य पर बनी रहती है। 

दान पुण्य करना

वैशाख महीने में गरीबों को दान करना सबसे शुभ कार्य माना जाता है। कहा जाता है कि इस महीने में दान -पुण्य करने से घर में कभी भी आर्थिक हानि नहीं होती है और घर धन-धान्य से परिपूर्ण होता है। इस महीने में अन्न,जल, दूध, फल, आदि का दान करें जिससे पुण्य की प्राप्ति होती है। इस महीने में जहां तक संभव हो गरीबों, साधु, महात्मा तथा ब्राह्मणों को भोजन करवाएं और उन्हें जरूरत की वस्तुएं दान करें। 

पवित्र स्नान करना 

nadi snan vaishakh month'

वैशाख के महीने में पवित्र नदी के जल से स्नान करना अत्यंत शुभ माना जाता है। इस मास में हमेशा सूर्योदय से पूर्व स्नान करें। यदि आप नदी में स्नान नहीं कर सकते हैं तब भी गंगा जल से स्वयं को पवित्र करना शुभकारी होता है। गंगाजी या अन्य पवित्र नदियों में स्नान करना बहुत पुण्यकारी माना गया है। परन्तु कोरोना महामारी के चलते अभी यह करना संभव नहीं है। इस महीने में विधिवत पवित्र स्न्नान करने से भगवान विष्णु की कृपा हमेशा बनी रहती है। पवित्र स्नान करने से पूर्वजों की कृपा दृष्टि भी मिलती है। 

सूर्य को अर्घ्य देना 

surya ardhy vishakh

पुराणों के अनुसार भगवान् विष्णु को प्रसन्न करने का सबसे अच्छा तरीका सूर्य को अर्घ्य देना होता है। कहा जाता है कि ऐसा करने से कई जन्मों के फलों के बराबर पुण्य प्राप्त होता है। सूर्य नारायण की कृपा प्राप्त करने के लिए प्रत्येक मनुष्य को नियमित सूर्य मंत्र का उच्चारण करते हुए सूर्य को अर्घ्य अवश्य देना चाहिए। 

इसे जरूर पढ़ें:Saturday Special: घर की सुख समृद्धि और धन धान्य के लिए शनिवार के दिन करें ये उपाय

तुलसी पूजन 

tulsi pujan vaishakh

वैशाख के महीने में तुलसी पूजन का विशेष महत्त्व है। तुलसी को विष्णु प्रिय भी कहा जाता है इसलिए इस महीने में तुलसी पूजन से विष्णु जी की विशेष कृपा दृष्टि प्राप्त होती है। खासतौर पर इस महीने में तुलसी जी को जल चढ़ाएं और दीपक प्रज्ज्वलित करें। 

पीपल की पूजा 

peepal puja vaishakh

पीपल के वृक्ष में पितरों और भगवान् दोनों का वास होता है। इसलिए वैशाख महीने में विशेष कृपा प्राप्ति के लिए पीपल के वृक्ष की पूजा जरूर करें। इसके लिए आप पीपल में नियमित रूप से जल चढ़ाएं और संध्या काल में दीपक प्रज्ज्वलित करें। 

इसे जरूर पढ़ें:जानें मई के महीने में कब है अमावस्या तिथि, क्या है पूजा का शुभ मुहूर्त और महत्त्व

Recommended Video

शिवलिंग का जलाभिषेक 

shivvling jalabhishek

वैशाख के महीने में भगवत भजन और पूजन विशेष रूप से फलदायी है। इसलिए इस महीने में शिव लिंग की पूजा भी विशेष रूप से करें। शिवलिंग का जलाभिषेक करें और दूध चढ़ाएं। ऐसा करने से घर में सुख समृद्धि आती है। 

वास्तु विशेषज्ञ प्रशांत मिश्रा जी के अनुसार वैशाख के महीने में उपर्युक्त सभी कार्य करने से जहां एक तरफ पापों से मुक्ति मिलती है वहीं घर में सुख सौहाद्र का वास भी होता है और आर्थिक स्थिति भी मजबूत होती है। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik and pintrest