ऑफिस में कोई भी महिला अपने दिन का एक लंबा वक्त गुजारती है। दिन के 24 घंटों में से करीबन आठ-नौ घंटे ऑफिस में ही बीतते हैं। इस तरह आपका दिन का एक तिहाई हिस्सा ऑफिस में ही गुजरता है। ऐसे में ऑफिस का माहौल यकीनन आपके जीवन पर गहरा असर डालता है। अगर ऑफिस का माहौल खुशनुमा न हो तो इससे आपके शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य पर गहरा असर पड़ता है। इतना ही नहीं, जब ऑफिस में आपका मूड खराब हो जाता है तो इससे आपका स्वभाव भी चिड़चिड़ा हो जाता है और फिर पारिवारिक रिश्तों पर भी इसका प्रभाव दिखाई देने लगता है। ऐसे में यह बेहद जरूरी है कि आपके ऑफिस का माहौल खुशनुमा हो, ताकि आपका काम में मन लगे और आप अपना बेस्ट परफार्मेंस दे सकें। तो चलिए आज हम आपको ऐसे कुछ संकेतों के बारे में बता रहे हैं, जिनकी मदद से आप ऑफिस से टॉक्सिक माहौल को पहचान सकती हैं और उससे बाहर निकलने के उपाय भी खोज सकती हैं-

इसे भी पढ़ें: इन संकेतों से पहचानें कि वर्कस्पेस में आपके साथियों से बढ़ रहे हैं फासले

कम्युनिकेशन की कमी

toxic workplace and how to deal inside

ऑफिस में कम्युनिकेशन की कमी वर्क एनवायरनमेंट के टॉक्सिक होने का सबसे बड़ा संकेत है। मसलन, अगर आप पूरी मेहनत से अपना काम करती हैं और कभी भी डेडलाइन निकलने नहीं देतीं। लेकिन फिर भी आपको अपने काम व मेहनत के लिए किसी तरह का एप्रीशिएशन या इंक्रीमेंट नहीं मिलता, तो यह आपको निराश कर सकता है। आप इस संबंध में एचआर से जरूर बात करें, लेकिन इसके बाद भी कोई रिस्पान्स न मिले, तो समझ लीजिए कि अब आपकी यह जॉब छोड़ने का वक्त आ गया है। दरअसल, जहां मेहनत, लग्न व अच्छे कार्य को रिवॉर्ड नहीं दिया जाता, वहां पर लंबे समय तक काम करने से आपकी रचनात्मकता खत्म होने लगती है।

बैड एटीट्यूट

toxic workplace and how to deal inside

अगर आप ऑफिस में जाएं और आपको किसी के भी चेहरे पर मुस्कुराहट नजर न आए। हर व्यक्ति बस जल्दी से वापिस घर भाग जाना चाहता हो और हर कोई नई जॉब की तलाश में हो तो इसका अर्थ है कि आपका वर्क एनवायरमेंट ठीक नहीं है। दरअसल, लंबे समय तक टॉक्सिक वर्क एनवायनमेंट में काम करने से हर व्यक्ति का स्वभाव चिड़चिड़ा होने लगता है और ऐसे लोगों के बीच काम करने से आप स्वयं भी मन ही मन काफी परेशान रहने लग जाएंगी। इस स्थिति से बाहर निकलने के दो ही तरीके हैं। पहला, आप भी दूसरों की तरह नई जगह जॉब तलाश कर लें या फिर आप अपने बॉस व एचआर से इस संबंध में बात करें। अगर संभव हों तो आप उन्हें ऑफिस में माहौल को खुशनुमा बनाने के कुछ सुझाव भी दे सकती हैं।

इसे भी पढ़ें: ये 5 चीज़ें working women को ऑफिस में जरूर खानी चाहिएं

बॉस का स्वभाव

toxic workplace and how to deal inside

कई बार बॉस का स्वभाव भी ऑफिस के माहौल को टॉक्सिक बना सकता है। अगर आपका बॉस आपके हर सिंगल मूव पर नजर रखता है और उसे कंट्रोल करने की कोशिश करता है। ऐसे में आपको लगता है कि किसी की नजर हर वक्त आपके उपर है। इतना ही नहीं, ऐसे बॉस कभी भी दूसरों की बात नहीं सुनते और ना ही समझने की कोशिश करते हैं। वह अपने पद का प्रदर्शन करने से कभी भी पीछे नहीं हटते। ऐसे बॉस आपके द्वारा किए गए अच्छे काम का क्रेडिट आपको देने के लिए तैयार नहीं होते। यदि आपको ऐसा लगता है कि यदि आपका बॉस आपसे उम्मीद करता है कि यदि आप अपनी मृत्यु के समय भी काम करेंगे, तो यकीनन आप एक टॉक्सिक बॉस का सामना कर रही हैं।