• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

Holi Special 2022: होलिका दहन के दिन उबटन क्यों लगाया जाता है, जानें ज्योतिष के अनुसार इसका महत्व

होलिका दहन के दिन किये गए कुछ उपाय आपके लिए लाभकारी हो सकते हैं। ऐसे ही उपायों में से एक है शरीर में उबटन का इस्तेमाल करना।   
author-profile
Published -15 Mar 2022, 11:44 ISTUpdated -15 Mar 2022, 12:13 IST
Next
Article
ubtan significance in holi

होली का त्योहार हिंदुओं के प्रमुख त्योहारों में से एक है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन लोग रंगों में पूरी तरह डूब जाते हैं और बुराई पर अच्छाई का जश्न मनाते हुए एक दूसरे को गले लगाते हैं। ऐसा माना जाता है कि होली के दिन खेला जाने वाला रंग और गुलाल आपसी प्रेम और सौहार्द्र को बढ़ाता है। रंग खेलने वाली होली के ठीक एक दिन पहले होलिका दहन होता है जिसमें सभी बुराइयों को ख़त्म करने की प्रार्थना की जाती है। ऐसा माना जाता है कि होलिका की अग्नि में सभी बुराइयां और बालाएं जलकर भस्म हो जाती हैं। इस दिन घर की सुख समृद्धि के लिए कई अलग-अलग उपाय अपनाए जाते हैं और मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए कई अलग तरह की युक्तियां आजमाई जाती हैं।

ऐसे ही कुछ उपायों में से एक है होलिका दहन के दिन शरीर में उबटन लगाना। मान्यता है कि होलिका दहन के दिन घर के सभी सदस्यों को शरीर पर हल्दी और आटे का उबटन लगाना चाहिए। ऐसा करने से घर की सारी बलाएं दूर होती हैं। ज्योतिष की मानें तब भी होलिका दहन के दिन उबटन लगाना बहुत शुभ माना जाता है। आइए नारद संचार के ज्योतिष अनिल जैन जी से जानें होलिका दहन के दिन उबटन लगाने के महत्व के बारे में। 

उबटन लगाने का वैज्ञानिक महत्व 

ubtan significance

अक्सर लड़कियां खूबसूरती बढ़ाने के लिए तरह -तरह के उबटन त्वचा पर अप्लाई करती हैं। त्वचा पर उबटन लगाने से जहां एक तरफ त्वचा में निखार आता है वहीं उबटन में इस्तेमाल की गई हल्दी त्वचा को कई तरह के विकारों से बचाती है। यहां तक कि यदि शरीर में किसी तरह की चोट हो तो वह भी हल्दी के प्रभाव से ठीक होने लगती है। इसलिए इस दिन पूरे शरीर में हल्दी का उबटन लगाया जाता है। 

इसे जरूर पढ़ें:Astro Tips: होलिका दहन के दिन किए गए ये 10 ज्योतिषीय उपाय बदल सकते हैं आपकी किस्मत

शुभ काम में लगाया जाता है उबटन 

ऐसी मान्यता है कि किसी भी शुभ काम में हल्दी का इस्तेमाल किया जाता है। इसी वजह से शादी जैसे शुभ काम में भी दुल्हन और दूल्हे को हल्दी का उबटन लगाया जाता है। उबटन में इस्तेमाल हल्दी घर में शुभता और सौहार्द्र का प्रतीक होती है इसलिए होली के त्योहार में भी घर में खुशहाली लाने के लिए हल्दी के उबटन का इस्तेमाल किया जाता है। 

होलिका दहन में उबटन लगाने का ज्योतिषीय महत्व 

holika dahan ubtan significance

होलिका दहन (होलिका दहन का शुभ मुहूर्त)के दिन सदियों से चली आ रही उबटन लगाने की प्रथा आज भी बरकरार है। दरअसल उबटन लगाने का ज्योतिषीय महत्व बताया जाता है। ज्योतिष के अनुसार होलिका दहन के दिन घर के सभी लोग यदि हल्दी मिले हुए उबटन का इस्तेमाल शरीर में करते हैं और शरीर से उतारे हुए उबटन को होलिका की अग्नि में डालते हैं तो घर की सभी बुराइयां होलिका की अग्नि में प्रवाहित हो जाती हैं और शरीर रोग मुक्त हो जाता है। ऐसा माना जाता है होलिका दहन में प्रवाहित उबटन के साथ शरीर की सभी बीमारियां भी दूर हो जाती हैं। 

कैसे लगाया जाता है उबटन 

ज्योतिष अनिल जैन जी बताते हैं कि होलिका दहन के दिन महिलाएं घरों में सरसों के दानों को पीसकर उसमें हल्दी, दही, शहद मिलाकर उबटन लगाती हैं। घर के सभी सदस्य अपने शरीर पर उबटन से मालिश करते हैं और इसे शरीर से बाहर निकालते हैं । बुराई का प्रतीक माने जाने वाले उबटन को शरीर पर रगड़ने के बाद उसको इकट्ठा करके होली दहन के समय होलिका में जला दिया जाता है। 

इसे जरूर पढ़ें:रंगों के त्योहार होली के बारे में जानें ये रोचक बातें

ubtan significance by expert

क्या कहता है शास्त्र 

शास्त्रों में मान्यता है कि होलिका शारीरिक कष्टों को अपने साथ भस्म करके पूरे वर्ष आपको रोग और व्याधियों से दूर रखती है। दूसरा कारण यह भी है ऋतु परिवर्तन से लोगों पर संभावित कीटाणुओं के हमले से उबटन रक्षा करता है या चर्म रोगों को भी दूर रखता है। ज्योतिष के अनुसार उबटन में शामिल वस्तुएं गुरु शनि, शुक्र, चंद्र आदि ग्रहों का प्रतिनिधित्व करती हैं और यह सभी ग्रह सुख, समृद्धि, मानसिक शांति, भाग्य में वृद्धि और रोगों का विनाश करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है। इन ग्रहों का उपाय इस विधि के द्वारा हो जाता है और पूरे वर्ष आपका जीवन सुखी और समृद्ध बना रहता है।

Recommended Video

होलिका दहन के दिन करें ये उपाय 

होलिका दहन से ठीक पहले घर के सभी सदस्य उबटन तैयार करके पूरे शरीर में लगाएं। इस दिन उबटन लगाते समय घर की शांति की कामना करें और एक कागज़ में शरीर से निकाला हुआ उबटन इकठ्ठा करें। पूरे परिवार का उबटन इकठ्ठा करके एक बड़ी लोई तैयार करें और गाय के गोबर से बने 11 उपलों के साथ एक मुट्ठी सरसों के दाने (सरसों के दानों से बने उबटन के फायदे)लें और होलिका दहन होने पर होलिका की 7 या 11 बार परिक्रमा करें और इसमें उबटन और गोबर के उपले प्रवाहित कर दें। होलिका की अग्नि के सामने सपरिवार खड़े होकर घर की शांति और समृद्धि की कामना करें। सभी को गुलाल का टीका लगाएं और आपसी प्रेम बनाए रखें।  

ज्योतिष के अनुसार होलिका दहन के दिन यदि आप भी शरीर पर उबटन लगाएंगे तो शरीर रोगों से मुक्त हो सकता है। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik, unsplash, pixabay 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।