• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

द्रौपदी मुर्मू ने ली राष्ट्रपति पद की शपथ, बनीं देश की 15वीं महामहीम

राष्ट्रपति चुनाव के परिणामों के साथ ही देश को उसका नया राष्ट्रपति मिल गया है। आइए जानते हैं भारत की 15वीं राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू के बारे में।
author-profile
Published -21 Jul 2022, 14:11 ISTUpdated -25 Jul 2022, 14:00 IST
Next
Article
Presidential Election  shapath

21 जुलाई 2022 के दिन देश को उसका 15वां राष्ट्रपति मिल गया है। राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू ने यह चुनाव भारी मतों के साथ जीत लिया है। इसी के साथ वो देश के शीर्ष संवैधानिक पद पर बैठने वाली पहली आदिवासी महिला बन गईं।

आज के इस आर्टिकल में हम आपको द्रौपदी मुर्मू के बारे में बताएंगे। कि आखिर कैसे उन्होंने  सालों तक आदिवासी हितों के लिए काम किया। 

कौन हैं द्रौपदी मुर्मू?

presidential election results india

द्रौपदी मुर्मू का जन्म 20 जून 1958 को ओडिशा के मयूरभंज जिले के छोटे से गांव से आती हैं। इससे पहले इस गांव का नाम भी कोई नहीं जानता था। लेकिन राष्ट्रपति उम्मीदवार बनने के बाद से उबरबेड़ा गांव में बेहद जश्न का माहौल है। गांव वालों को पहले से ही यकीन था कि द्रौपदी जीत परचम लहराएंगी।

इसे भी पढें- कॉलेज क्वीन से लेकर पहली महिला राष्ट्रपति बनने तक का सफर, जानिए प्रतिभा पाटिल के बारे में

राज्यपाल के पद पर रहीं कार्यरत

राष्ट्रपति बनने से पहले द्रौपदी मुर्मू 6 साल के लिए झारखंड की राज्यपाल के रूप में कार्य कर चुकी हैं। उन्हें झारखंड की पहली महिला राज्यपाल होने का गौरव प्राप्त है।

द्रौपदी मुर्मू का राजनीतिक करियर

Who Won Presidential Election

द्रौपदी मुर्मू एक आदिवासी परिवार से आती थीं। ऐसे में उन्हें बिल्कुल सुविधाएं नहीं मिली, इसके बावजूद उन्होंने देश की राष्ट्रपति बनने तक का सफर तय किया। साल 1997 में अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की। जहां पहली बार उन्हें ओडिशा के रायरंगपुर जिले की पार्षद के तौर पर चुना गया। इसके बाद वो काफी समय तक वो बीजेपी की ओडिशा इकाई की अनुसूचित जनजाति मोर्चा की उपाध्यक्ष के रूप में कार्यरत रहीं। 

राजनीति से पहले शिक्षक थीं द्रौपदी

राजनीति में आने से पहले द्रौपदी एक शिक्षक थीं। उन्होंने अरबिंदो इंटीग्रल एजुकेशन एंड रिसर्च रायरंगपुर से मानद सहायक शिक्षक के तौर कार्यरत रहीं। इसके अलावा उन्होंने कुछ दिनों तक सिंचाई विभाग में सहायक के रूप में काम किया है।

इसे भी पढ़ें- कौन हैं आगामी राष्ट्रपति की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू, जानें उनके जीवन के बारे में 

आदिवासियों के हित में किए कई काम

द्रौपदी मुर्मू का कार्यकाल कुल 6 साल 18 दिनों का था। इस दौरान उनका नाम किसी भी तरह के विवाद में नहीं जुड़ा। राज्यपाल के अलाना द्रौपदी ने बतौर कुलाधिपति झारखंड के विश्वविद्यालयों के लिए बहुत काम किया।

तो ये थी देश की दूसरी राष्ट्रपति से जुड़ी अहम जानकारियां। आपको हमारा यह आर्टिकल अगर पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर करें, साथ ही ऐसी जानकारियों के लिए जुड़े रहें हर जिंदगी के साथ। 

Image Credit- instagram 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।