भारत में कोरोना वायरस के मरीज लगातार बढ़ते चले जा रहे हैं। हेल्थ मिनिस्ट्री के आंकड़ों के अनुसार गुरुवार सुबह तक भारत में 5734 केस आ चुके हैं जिसमें से 5095 केस अभी एक्टिव हैं। 472 ठीक हो चुके हैं, 166 लोगों की जान जा चुकी है और 1 इंसान भारत छोड़कर चला गया है। फिलहाल भारत में 21 दिन का लॉकडाउन पीरियड चल रहा है, लेकिन ऐसा हो सकता है कि इसे 15 दिनों के लिए और बढ़ा दिया जाए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 11 अप्रैल को एक खास वीडियो कॉल मीटिंग के जरिए अहम फैसला ले सकते हैं।

11 अप्रैल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अन्य राज्यों के सीएम से मीटिंग है और ऐसे में ये मुमकिन है कि लॉकडाउन को बढ़ाने का फैसला ले लिया जाए।

क्यों लग रहा है कि बढ़ जाएगा लॉकडाउन-

इसके तीन कारण हैं-

1. कोरोना वायरस संक्रमण के केस लगातार बढ़ते चले जा रहे हैं
2. कोरोना वायरस के कई हॉट स्पॉट पूरे देश में लागू किए गए हैं
3. नरेंद्र मोदी ने खुद बुधवार को हुई एक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग बैठक में इसके संकेत दिए हैं

हालांकि, बात ये भी चल रही है कि इस लॉक डाउन को फेज बाय फेज हटाया जाएगा, लेकिन ऐसा भी हो सकता है कि पूरे देश का लॉकडाउन एक साथ ही 15 दिनों के लिए और बढ़ा दिया जाए। अंतिम फैसला 11 अप्रैल की मीटिंग के बाद ही होगा।

lockdown can be extended in india

इसे जरूर पढ़ें- Coronavirus: घर से बाहर निकलते और ऑफिस में रहते हुए ऐसे रखें खुद को सुरक्षित, WHO ने जारी की गाइडलाइन्स

क्या कहा प्रधानमंत्री ने-

रिपोर्ट के अनुसार मीटिंग में मौजूद ओड़ीसा की बीजेडी पार्टी के सदस्य पिनाकी मिश्रा ने बताया कि  'प्रधान मंत्री जी ने कहा है कि ऐसा मुमकिन है कि लॉकडाउन को 15 अप्रैल तक न खत्म किया जा सके, जो फीडबैक उनको मिल रहे हैं पूरे देश से वो यही संकेत दे रहे हैं। वो सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात करेंगे और ये फैसला लिया जाएगा कि आखिर कब तक ये लॉकडाउन बढ़ाया जाएगा।'

लॉकडाउन बढ़ने के बाद अर्थव्यवस्था की समस्या-

यकीनन कोरोना वायरस से लड़ने के लिए लॉकडाउन जरूरी है, लेकिन अगर ये बढ़ता है तो देश के 400 मिलियन डेली वेज वर्कर्स की जीविका पर बहुत असर पड़ेगा। साथ ही साथ अर्थव्यवस्था को भी भारी नुकसान पहुंचेगा। पर जिस तरह के आसार दिख रहे हैं कई राज्यों के सीएम ये कह रहे हैं कि जीवन को अर्थव्यवस्था से पहले रखना चाहिए। एकदम से अगर लॉकडाउन खत्म हो गया तो ये कोरोना वायरस की स्तिथि को और गंभीर बना देगा।

Recommended Video

15 अप्रैल तक सील हुए उत्तर प्रदेश के 15 जिलों के हॉटस्पॉट-

उत्तर प्रदेश सरकार ने एक फैसला लिया है। जिन जिलों में कोरोना वायरस के ज्यादा मरीज़ ज्यादा मिले हैं वहां पर हॉटस्पॉट निर्धारित किए गए हैं और 6 और उससे ज्यादा केस वाले इलाकों को सील कर दिया गया है। ये फैसला इसलिए लिया गया है ताकि कोरोना वायरस संक्रमण को बढ़ने से रोका जा सके।

इन सभी जिलों के हॉटस्पॉट 15 अप्रैल की सुबह तक पूरी तरह से सील रहेंगे। यहां लोगों को घर से बाहर जाने की इजाजत भी नहीं होगी। सिर्फ होम डिलिवरी ही की जा सकेगी।

pm modi meeting lockdown

उत्तर प्रदेश के कौन-कौन से जिले होंगे सील-

इन 15 जिलों में गौतम बुद्ध नगर (नोएडा), गाजियाबाद, मेरठ, लखनऊ, आगरा, कानपुर, वाराणसी, शामली, सहारनपुर, फिरोज़ाबाद, बुलंदशहर, बरेली, बस्ती, महाराजगंज और सीतापुर शामिल हैं।

इसे जरूर पढ़ें- Corona Virus के बारे में आई नई रिपोर्ट, अगर हो रहे हैं ये लक्ष्ण तो तुरंत लें डॉक्टरी सलाह

तो क्या कोई दुकान नहीं खुलेगी?

जिन जिलों में जो भी हॉट स्पॉट सील हो रहे हैं वहां 100% होम डिलिवरी होगी। कोई भी दुकान नहीं खुलेगी भले ही वो किराने की दुकान हो या फिर सब्जी की। यहां सिर्फ हेल्थ डिपार्टमेंट के अधिकारी और होम डिलिवरी वाले वर्कर्स को ही डिलिवरी देने की इजाजत होगी। इसके अलावा, इस दौरान सभी घरों का सैनिटाइजेशन और स्कैनिंग की जाएगी। आगरा जैसी जगहों पर जहां ये रूटीन फॉलो किया गया है वहां पर कोरोना वायरस के केस कम हुए हैं।

उम्मीद है कि पीएम मोदी जल्द ही राष्ट्र के नाम संबोधन करेंगे और हमें ये जानकारी देंगे कि आखिर कोरोना वायरस लॉकडाउन कब तक चलेगा। आपको क्या लगता है? अपने विचार हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। तब तक के लिए ऐसी अन्य खबरें पढ़ने के लिए जुड़े रहें हर जिंदगी से। 

All Image credit: GulfToday/ Pinterest/ Twitter