बहुत समय से चली आ रही प्रथानुसार पितृपक्ष ऐसा समय होता है जब हम अपने मृत पूर्वजों को याद करते हुए उनके मोक्ष की कामना के लिए पिंड दान करते हैं, साथ ही उन्हें जल तर्पण भी किया जाता है। कहा जाता है कि यही वो समय होता है जब हमारे मृत पूर्वज धरती पर आते हैं और यदि वो प्रसन्न होते हैं तो घर को धन धान्य से पूर्ण कर देते हैं। मान्यतानुसार पूर्वज सूक्ष्म रूप से धरती पर विराजमान होते हैं। इसलिए पितरों का श्राद्ध बड़ी ही श्रद्धा पूर्वक किया जाता है। इन दिनों में पिंडदान, तर्पण, हवन और अन्न दान मुख्य रूप से करने का प्रचलन है। पितृ पक्ष के ये दिन पितरों को समर्पित होते हैं। श्रद्धा से किया गया कर्म ही श्राद्ध कहलाता है। आइए जानें पितृ पक्ष के इतिहास के बारे में -

पितृ पक्ष कब मनाया जाता है 

pitru paksh

भाद्रपद की पूर्णिमा से अश्विन कृष्ण पक्ष की अमावस्या तक कुल 16 दिन तक का समय पितृपक्ष के रूप में मनाया जाता है।  इन 16 दिनों के लिए हमारे पूर्वज भोजन और जल ग्रहण करने धरती पर आते हैं और सूक्ष्म रूप में हमारे घर में विराजमान होते हैं (पितृपक्ष में न करें ये गलतियां) । इसलिए पूरे श्रद्धा भाव से पितरों का स्मरण किया जाता है। 

Recommended Video

कैसे हुई पितृपक्ष की शुरुआत 

मान्यता है कि पितृ पक्ष की शुरुआत महाभारत के युद्ध के दौरान हुई थी। महाभारत युद्ध में जब दानवीर कर्ण का निधन हो गया और उनकी आत्मा स्वर्ग पहुंच गई। वहां कर्ण को भोजन के स्थान पर सोना और आभूषण खाने को दिए गए। इस बात से कर्ण बहुत निराश हो गए और देवराज इंद्रा से इसका कारण पुछा।  इंद्र ने कर्ण को बताया कि आपने अपने पूरे जीवन में सोने के आभूषणों को दूसरों को दान किया लेकिन कभी भी अपने पूर्वजों को भोजन दान नहीं दिया। इस बात के उत्तर में कर्ण ने बताया कि वप अपने पूर्वजों के बारे में नहीं जानता है। ऐसा सुनने के बाद देवराज  इंद्र ने उसे 15 दिनों की अवधि के लिए पृथ्वी पर वापस जाने की अनुमति दी ताकि वो अपने पूर्वजों को भोजन दान कर सके। तब से इसी 15 दिन की अवधि को पितृ पक्ष के रूप में जाना जाने लगा। 

इसे जरूर पढ़ें :Pitru Paksha Shradh 2020: पितरों की मुक्ति के लिए बना है यह तीर्थ , महाभारत काल से जुड़ा है इतिहास

श्राद्ध की तिथि का पता न हो तब क्या करें 

pitru paksh

जिस तिथि में हमारे पूर्वजों को मृत्यु की प्राप्ति हुई होती है उसी तिथि में उनका श्राद्ध किया जाता है। वैसे आमतौर पर मृत पूर्वजों (इन पौधों से करें पितरों को प्रसन्न) की तिथि ज्ञात होती है लेकिन यदि उनकी तिथि ज्ञात न हो तब शास्त्रों के अनुसार आश्विन अमावस्या को उनके लिए तर्पण किया जाता है। इससे सम्पूर्ण पितृपक्ष के फल की प्राप्ति होती है। इसलिये इस अमावस्या को सर्वपितृ अमावस्या भी कहा जाता है। 

इसे जरूर पढ़ें :Pitru Paksha 2020: पितरों को करना है प्रसन्न तो पितृपक्ष में घर पर लगाएं ये पौधे

यदि श्रद्धा पूर्वक पितरों को याद करके उनका श्राद्ध उनकी मृत्यु की तिथि के अनुसार किया जाता है और भोजन आदि का दान दिया जाता है तब पितर अवश्य प्रसन्न होते हैं। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

 

Image Credit: pixabay