• + Install App
  • ENG
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

Patiala History: पटियाला के महाराज के इस बेशकीमती हीरों के हार की कहानी है बेहद खास

पटियाला के महाराजा के खोए हुए कीमती हीरों के हार की कहानी जानना चाहती हैं, तो पढ़ें ये आर्टिकल।  
author-profile
Next
Article
maharaja  of  patiala  choker

इतिहास में ऐसे कई राजा-महाराजा और उनकी इमारतों, स्थान, वस्तुओं का जिक्र मिलता है, जिनके बारे में सुन कर और जानकर उन चीजों को देखने का मन करता है। हालांकि, वर्तमान में कुछ ऐतिहासिक चीजों के निशान मिल जाते हैं, तो कुछ चीजें अब केवल किताबों में ही नजर आती हैं। 

आजकल एक ऐसा ही ऐतिहासिक हीरों का हार चर्चा का विषय बना हुआ है। हम बात कर रहे हैं पटियाला के महाराज रहे भूपिंदर सिंह के बेशकीमती हीरों के हार की। दरअसल, मेट गाला 2022 में अमेरिका की मशहूर यूट्यूब स्टार एम्मा चेम्बरलेन ने इसी हार से मिलता जुलता एक चोकर हार पहना और फिर उसके बाद से सोशल मीडिया पर इस हार को लेकर चर्चा शुरू हो गई। 

आज हम आपको बताएंगे कि आखिर पटियाला के महाराजा के इस हार का इतिहास क्या है? 

इसे जरूर पढ़ें: बॉलीवुड इंडस्‍ट्री के ये 8 सेलिब्रिटीज का है देश के रॉयल परिवारों से गहरा नाता

maharaja  of  patiala

कौन थे पटियाला के महाराजा? 

भारत के इतिहास के पन्नों को पलट कर देखा जाए तो आपको बहुत सारे रंगीन मिजाजी महाराजाओं के बारे में पढ़ने को मिलेगा। पटियाला रियासत के महाराजा भूपिंदर सिंह का नाम भी ऐसे ही राजाओं की लिस्ट में आता है। भुपिंदर सिंह के बारे में उनके दीवान जरमनी दास ने अपनी किताब 'महाराजा' में काफी कुछ बताया गया है। किताब के मुताबिक महाराज भुपिंदर सिंह ने अपनी रंगरलियों के लिए एक अलग से महल बनवाया था, कहा जाता है कि यहां केवल उन लोगों को एंट्री मिलती थी जो निर्वस्त्र हो कर महल में आते थे। यह महल आज भी पटियाला में मौजूद है। 

इसे जरूर पढ़ें: मयूरभंज की राजकुमारियां मृणालिका और अक्षिता भंज देव हैं एक मिसाल

Patiala  Diamond  Choker  History

महाराजा की थीं 365 रानियां 

किताब के मुताबिक महाराजा की 365 रानियां थीं, जिनमें से 10 अधिकारिक रानियां थीं। वहीं उनके 83 बच्‍चे थे। राजा ने पटियाला में एक भव्य महल बनवाया था, जहां वह अपनी सभी रानियों (मुगल इतिहास की इन शक्तिशाली रानियां) को रखते थे। इतना ही नहीं, राजा अपनी सभी रानियों को प्रेम करते थे और उनका ख्याल रखने में भी कोई कमी नहीं रखते थे। इन सबके अलावा महाराजा को कीमती चीजों का भी बहुत शौक था। बताया जाता है कि महाराजा भूपिंदर सिंह के पास एक बहुत ही बेशकीमती हार था। यह हार दुनिया में सबसे बड़ा हीरों का हार था।  

patiala  history

पटियाला के महाराजा के हीरों के हार की कहानी जानें- 

यह हार वर्ष 1928 में महाराजा ने बनवाया था। इसमें 2930 'डी बियर्स हीरे' (De Beers Diamond ) लगे थे। इस हार में लगे हीरे वर्ष 1888 में दक्षिण अफ्रीका मिले थे जिन्हें महाराजा भूपिंदर सिंह ने खरीद लिया था और फिर हीरों का हार बनवाया था। सोशल मीडिया पर मौजूद एक तस्‍वीर में राजा भूपिंदर सिंह को एक लेयर्ड हार और एक चोकर हार के साथ देखा जा सकता है। यही चोकर वाला हार मेट गाला में एम्मा चेम्बरलेन को पहने हुए देखा गया। 

हार की कीमत 

इस नेकलेस की कीमत का अंदाजा लगाने पर पता चलता है कि आज के समय में इसकी कीमत लगभग 30 मिलियन डॉलर हो सकती है, जो 2,32,00,35,000 रुपए के बराबर है। इस हार में 2930 हीरों को प्लैटिनम पर जड़ा गया है और इसमें Burmese Rubies जैसे कीमती रत्न भी लगे हुए हैं। 

हार से जुड़ी आखिरी जानकारी 

आपको बता दें कि यह हार वर्ष 1948 में पटियाला के शाही खजाने से गायब हो गया था। 32 वर्षों तक इस हार के बारे में किसी को कोई भी जानकारी नहीं थी। मगर 1982 में एक नीलामी में यह हार नजर आया। हालांकि, नीलामी के वक्त इस हार में केवल हीरे ही थे । नीलामी के वक्त इस चोकर हार में केवल एक 'डी बीयर' हीरा लगा हुआ था, जिसे Cartier jewels ने खरीद लिया था। इस ब्रांड का हार एम्मा चेम्बरलेन ने भी पहना है, जो दिखने में हू-ब-हू महाराज के हार की तरह ही लग रहा है, मगर यह नहीं कहा जा सकता है कि यह महाराजा का ही हार है। 

उम्मीद है कि हार से जुड़ी यह जानकारी आपको पसंद आई होगी। इस आर्टिकल को शेयर और लाइक जरूर करें। इसी तरह और भी आर्टिकल्‍स पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से।  

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।