• + Install App
  • ENG
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

Vastu Tips:घर की दक्षिण दिशा में भूलकर भी न रखें ये 6 चीजें, हो सकते हैं कंगाल

वास्तु शास्त्र में हर एक दिशा का अलग महत्व बताया गया है। इन सभी दिशाओं में वास्तु का ध्यान रखते हुए ही कोई भी सामान रखना चाहिए।   
author-profile
Next
Article
keep these things at home

घर की हर एक चीज को सही स्थान पर रखने के लिए वास्तुशास्त्र बहुत ज्यादा मायने रखता है। ऐसा माना जाता है कि यदि आप चीजों को करीने से सही दिशा में सजाते हैं तो यह आपको हर एक तरह से लाभ पहुंचाती हैं और वहीं वास्तु का ध्यान न रखते हुए चीजें रखने से घर की आर्थिक स्थिति तो खराब हो ही सकती है और घर में व्यर्थ के कलह कलेश भी बढ़ने लगते हैं। वास्तु की मानें तो घर में सुख समृद्धि के लिए सभी दिशाओं का बहुत ज्यादा महत्व होता है। गतत दिशा में बना किचन, सही दिशा का ध्यान न रखते हुए बेड का होना या फिर जूते चप्पल रखने की गलत दिशा आपके घर के विनाश का कारण तक बन सकती है।

अक्सर लोग घर में कोई भी सामान  किसी भी जगह पर रख देते हैं और वास्तु का ध्यान नहीं दे पाते हैं। मुख्य रूप से जब बात घर की दक्षिण दिशा की आती है तब इस दिशा में कोई भी सामान सोच समझ कर रखना चाहिए। आइए न्यूमेरोलॉजिस्ट, वास्तु एक्सपर्ट और टैरो कार्ड रीडर, मधु कोटिया जी से जानें कि आपको घर की दक्षिण दिशा में कौन सी चीजें भूलकर भी नहीं रखनी चाहिए क्योंकि ये चीजें आपके घर में परेशानियों का कारण बन सकती हैं। 

बाथरूम 

vastu for south direction

घर की दक्षिण दिशा में कभी भी स्नानघर नहीं होना चाहिए क्योंकि इस दिशा को यम और पितरों की दिशा माना जाता है। इसके अलावा दक्षिण दिशा में अग्नि तत्व मौजूद होता है। इसलिए ऐसा माना जाता है कि दक्षिण दिशा से अग्नि यानी शक्ति मिलती है। यदि आपके घर के दक्षिण दिशा में कोई भी पानी का स्रोत होता है जैसे कि बाथरूम या फिर ऐसा कोई पानी का स्रोत जिससे पानी बहता है वो भूलकर भी दक्षिण दिशा में नहीं होना चाहिए। दरअसल पानी को अग्नि तत्व समाप्त करने का कारण माना जाता है जो घर के विनाश का कारण बन सकता है। यहां तक कि घर के बाहर भी दक्षिण दिशा में कोई गार्डन या फिर तालाब मौजूद नहीं होना चाहिए। 

इसे जरूर पढ़ें:वास्तु एक्सपर्ट से जानें बाथरूम के वास्तु दोष दूर करने के टिप्स

पूजा का स्थान 

घर में कभी भी पूजा का स्थान घर की दक्षिण दिशा में नहीं होना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि दक्षिण दिशा में घर में मंदिर (घर के मंदिर में न रखें भगवान की ऐसी मूर्तियां)स्थापित करने से कभी भी पूजा का पूर्ण फल प्राप्त नहीं होता है और घर में आर्थिक स्थिति खराब बनी रहती है। आपको भूलकर भी दक्षिण दिशा में मंदिर स्थापित नहीं करना चाहिए क्योंकि ये मृत पूर्वजों की दिशा मानी जाती है। 

किचन

kitchen vastu tips

घर की दक्षिण दिशा में कभी भी किचन नहीं रखना चाहिए क्योंकि इस दिशा को पितरों की दिशा माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि यदि दक्षिण दिशा की और किचन या गैस स्टोव रखा जाता है तो ये आपके जीवन को परेशानी में कारण बन सकता है। इस दिशा में खाना बनाने और खाने से कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। स्वास्थ्य समस्याएं होने पर व्यर्थ ही धन नष्ट होने लगता है। इसलिए किचन का स्थान कभी भी दक्षिण दिशा की ओर  नहीं होना चाहिए। 

शयन कक्ष 

दक्षिण दिशा में कभी भी शयन कक्ष यानी कि बेड रूम नहीं होना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि इस दिशा में बेडरूम होने से नींद में बाधा होने के साथ बीमारियां भी आती हैं। इसके अलावा चूंकि ये पितरों की दिशा है इसलिए इस दिशा में बेडरूम होना पितृ दोष का कारण भी बन सकता है। बेडरूम के साथ ही दक्षिण दिशा में कभी भी मदिरा का पान नहीं करना चाहिए। ऐसा करना सीधे तौर पर पितरों का अपमान होता है और इससे घर में पितृ दोष लगता है। 

जूते और स्टोर रूम 

shoes in south

दक्षिण दिशा में कभी भी जूते चप्पल और स्टोर रूम नहीं रखना चाहिए। ऐसा करना पितरों का अपमान करना होता है। इस दिशा में ऐसी कोई भी वस्तु आपके जीवन में आने वाली परेशानियों का कारण बन सकती है और साथ ही ये दिशा पूज्य पितरों की दिशा होती है जिसमें जूते चप्पल रखना घर के विनाश का कारण भी बन सकते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें:Vastu Tips: घर में शू रैक रखने की भी है ख़ास जगह, जानें क्या कहता है वास्तु

Recommended Video


किसी भी प्रकार की मशीनरी

दक्षिण दिशा में कोई भी मशीनरी नहीं रखनी चाहिए। वास्तु शास्त्र के हिसाब से ऐसी कोई भी मशीनरी दक्षिण दिशा में रखना घर के विनाश की सकारात्मक ऊर्जा को रोकने का काम करता है जिससे घर में नकारात्मक ऊर्जा आती है। वैसे दक्षिण दिशा में कोई भारी सामान रखना वास्तु के हिसाब से अच्छा माना जाता है लेकिन किसी भी मशीन को रखने से बचना चाहिए। 

क्या है एक्सपर्ट की राय 

south direction vastu tips

वास्तु एक्सपर्ट मधु कोटिया जी बताती हैं कि वास्तु वास्तुकला का प्राचीन भारतीय विज्ञान है। वास्तु का मुख्य सिद्धांत यह है कि मनुष्य अपने परिवेश से प्रभावित होता है। इसका मतलब है कि हमारा स्वास्थ्य, धन और खुशी सभी उस पर्यावरण पर निर्भर हैं जिसमें हम रहते हैं। वास्तु में दक्षिण (दक्षिण मुखी घर के लिए वास्तु टिप्स)कोने को शुभ माना जाता है और यह आपकी सबसे मूल्यवान संपत्ति जैसे गहने या पेंटिंग रखने के लिए एक अच्छी जगह हो सकती है।

जब भी आप घर की दक्षिण दिशा की बात करें वहां कोई भी सामान रखने से पहले आपको वास्तु के नियमों का पालन करना चाहिए, जिससे घर में सुख समृद्धि बनी रहे। 

हमें उम्मीद है कि यह जानकारी आपके काम आएगी।आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें, साथ ही इसी तरह के वास्तु से जुड़े अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिन्दगी के साथ।

image credit : freepik .com 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।