भगवान शिव के रूप यानी शिवलिंग के लिए ऐसी मान्यता है कि वो अकेले हैं जो साक्षात स्वयंभु रूप में मौजूद हैं। वो अपने भक्तों की हर मनोकामना पूरी करते हैं और ऐसा माना जाता है कि वो शिवलिंग के तौर पर ही धरती पर विराजमान हैं। क्योंकि हिंदू धर्म में शिवलिंग की मान्यता काफी ज्यादा है इसलिए इसे ईश्वर का दर्शन ही माना जाता है। कई लोग अपने घर में शिवलिंग को रखते हैं, लेकिन क्या आपको ये पता है कि शिवलिंग को घर में रखने के क्या नियम हैं?

इस मामले में हमने उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री से बात की और उनसे ये जानने की कोशिश की कि आखिर कैसे देवी-देवता की मूर्ति जब घर में रखी जाती है तो उसके नियमों का पालन करना होता है। ये खास तौर पर शिवलिंग के लिए होता है। जब शिवलिंग की पूजा बहुत महत्वपूर्ण मानी जाती है तो फिर क्यों न उसके बारे में थोड़ी जानकारी ले ली जाए। 

क्या कोई बुरा प्रभाव भी पड़ता है? 

पण्डित दयानन्द शास्त्री जी के अनुसार कुछ लोग अपने घरों में शिवलिंग की स्थापना कर लेते हैं। परंतु उन्हें इसे रखने और इसकी पूजा के किसी नियम के बारे में पता नहीं होता। तो पण्डित दयानन्द शास्त्री जी ने बताया कि आखिरकार शिवलिंग को घर में रखने से किस तरह का प्रभाव पड़ता है। शास्त्री जी के अनुसार शिवलिंग को कभी भी पूजा घर के अलावा किसी और स्थान पर न रखें। घर के किसी अन्य हिस्से में उसे रखने में काफी बुरा प्रभाव पड़ सकता है। अगर ऐसा हुआ तो आपको लेने के देने भी पड़ सकते हैं। 

can we have shiva lingam inside home

इसे जरूर पढ़ें- किस दिन कौन सा व्रत करने से क्‍या फल मिलते हैं, जानिए 

रोज़ पूजा नहीं कर सकते तो न रखें घर में शिवलिंग

पंडित जी के अनुसार अगर आपने घर में शिवलिंग रखा हुआ है तो उसकी पूजा रोज़ करनी जरूरी है। ऐसा नहीं हो सकता कि बस शौख के लिए रख लिया। अगर रखा गया है तो उसकी पूजा जरूर करें अन्यथा शिवलिंग को घर में स्थापित न करें। ये तो पण्डित जी ने सही कहा क्योंकि कई बार लोग अपने घर में शिवलिंग रख तो लेते हैं, लेकिन फिर घर से बाहर जाते समय उसका ध्यान नहीं रख पाते। पूजा-पाठ की विधी हमेशा सही होनी चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता तो उसे शिवलिंग का अपमान माना जाता है। 

how to place shiva lingam at home direction

पूजा घर को कभी बंद नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव नहीं होता है। इसलिए पूजा घर को हमेशा खुला ही रखें और अगर अकेले रह रहे हैं तो घर में मूर्तियों को स्थापित न ही करें। 

कभी अकेला स्थापित न करें शिवलिंग

शिवलिंग को कभी अकेला न रखें उसके साथ गणेश भगवान की मूर्ति रखना शुभ साबित हो सकता है। घर में शिवलिंग कभी अकेला नहीं रखा जा सकता है। 

which direction is best for shivling

बेडरूम में कभी न रखें शिवलिंग

पण्डित जी के अनुसार कभी भी शिवलिंग को ऐसी जगह पर नहीं रखना चाहिए जहां नव दंपत्ति मौजूद हों या जहां पर लोग सो रहे हों। ये शिवलिंग का अपमान माना जाता है। इसे हमेशा पूजा घर में ही स्थापित करें। 

इसे जरूर पढ़ें- Karwa Chauth: पति की लंबी उम्र के लिए महिलाएं क्‍यों देखती हैं छलनी से चांद, जानिए कारण 

आस-पास बाथरूम न हो

पूजाघर के आस-पास कभी बाथरूम नहीं होना चाहिए। अगर ऐसा है तो बहुत समस्या होगी। अगर घर में दो या उससे ज्यादा मंजिल है तो ध्यान रखें कि जहां भी शिवलिंग विराजित है उसके ऊपर या नीचे बाथरूम न हो क्योंकि उसे अशुभ माना जाता है। 

कभी न लगाएं हल्दी

शिवलिंग को कभी भी हल्दी नहीं लगानी चाहिए। क्योंकि ऐसा माना जाता है कि हल्दी का इस्तेमाल स्त्रियां अपना रूप निखारने के लिए करती हैं। यही कारण है कि हल्दी को शिवलिंग पर न चढ़ाने की सलाह दी जाती है। 

तो अगर आप घर में शिवलिंग की स्थापना करना चाहती हैं तो इन बातों का ध्यान अवश्य ही रखें।