• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

महालक्ष्मी व्रत: 16 दिनों तक मां लक्ष्‍मी की ऐसे करें पूजा, धन की होगी वर्षा और पूरी होगी मन्नत

आइए हमारे साथ आप 16 दिन चलने वाला महालक्ष्‍मी व्रत की माहिमा के बारे में विस्‍तार से जानें।  
author-profile
Published -06 Sep 2019, 12:15 ISTUpdated -07 Sep 2019, 10:42 IST
Next
Article
mahalaxmi vrat main

रक्षा बंधन के बाद जैसे व्रत और त्‍योहारों की शुरूआत हो जाती है। हर कुछ दिनों में कोई न कोई व्रत या त्‍योहार होता है। अभी कुछ दिनों पहले तीज का व्रत महिलाओं ने रखा था। और आज यानि 6 सितंबर से महालक्ष्‍मी के व्रत की शुरुआत हो गई हैं। व्रत की शुरुआत हम इसलिए बोल रहे हैं क्‍योंकि यह महालक्ष्‍मी का व्रत पूरे 16 दिनों तक चलेगा। 6 सितंबर से शुरू होने वाले महालक्ष्मी व्रत 21 सितंबर तक चलेगा। आपको बता दें कि हिन्‍दु धर्म के अनुसार भादो माह की अष्‍टमी से इस व्रत की शुरुआत होती है। जी हां इस व्रत की शुरुआत हमेशा राधा-अष्टमी के दिन होती है। हिन्दू धर्म के अनुसार महालक्ष्मी व्रत विशेष रूप से लक्ष्मी मां को समर्पित होता है। महिलाएं धन, वैभव और समृद्धि की प्राप्ति के लिए मां को प्रसन्‍न करने के लिए इस व्रत को रखती हैं। आज हम आपको महालक्ष्मी व्रत के दिन इस व्रत और पूजा के विशेष महत्व के बारे में बताने जा रहे हैं। तो देर किस बात की आइए हमारे साथ आप 16 दिन चलने वाला इस व्रत की माहिमा के बारे में जानें।  

इसे जरूर पढ़ें: Hartalika Teej 2019: जानिए इस वर्ष में कब मनाएं "हरतालिका तीज व्रत", जानें सही तारीख

हिन्दू धर्म में लक्ष्मी मां को विष्णु जी की पत्नी और धन और हर्षो उल्लास की देवी माना जाता है। कहा जाता है कि अगर इस व्रत को विधिपूर्वक और श्रद्धा भाव से किया जाए तो इससे लक्ष्मी माता का आशीर्वाद आपके जीवन पर बना रहता है और धन से जुड़ी समस्‍याएं दूर होती है। इस व्रत को करने से दरिद्रता दूर होती है और धन की देवी मां लक्ष्मी अपने भक्तों का कल्याण करती हैं।

mahalaxmi vrat inside

महालक्ष्मी व्रत का महत्व

महालक्ष्मी व्रत भाद्रपद मास शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि से शुरु होकर अश्विन मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तक किया जाता है। महालक्ष्‍मी व्रत को विधि विधान के साथ पूरे 16 दिनों तक करना चाहिए। लेकिन अगर आप इस व्रत को 16 दिनों तक नहीं रख सकती हैं तो कम से कम महालक्ष्मी व्रत के दौरान किसी भी तीन दिन व्रत जरूर रखें। ऐसी मान्यता है कि महालक्ष्मी व्रत रखने से भगवान विष्णु की भी कृपा मिलती है। अगर आप सिर्फ 3 दिनों का व्रत रखती हैं तो आपको पहले दिन, आठवें दिन और आखिरी दिन यानि की सोलहवें दिन व्रत रखना चाहिए। आप चाहे तो पहले और आखिरी दिन भी इस व्रत को कर सकती हैं। 

mahalaxmi vrat inside  

व्रत के दौरान कुछ बातों को रखें विशेष ख्‍याल

महालक्ष्मी व्रत के दौरान कुछ बातों का विशेष ध्यान रखने की जरूरत होती है। ये व्रत आप भले ही कितने दिन भी रखें लेकिन इसे रखते हुए कुछ बातों का विशेष ध्‍यान रखें जैसे सबसे पहले माता लक्ष्मी की प्रतिमा की स्‍थापना करें। फिर उनके पास पीले रंग के 16 सूत्र के डोरे में 16 गांठ लगाएं।

इसे जरूर पढ़ें: पति की लंबी उम्र के लिए करवा चौथ का व्रत रखने के साथ ही जरूर सुने यह कथाएं

Recommended Video

फिर उनका ‘लक्ष्म्यै नमः’ मंत्र से एक गांठ का और माता लक्ष्मी का विधि विधान से पूजन करें। पूजन सामग्री में चन्दन, पत्र, पुष्प माला, अक्षत, दूर्वा, लाल सूत, सुपारी, नारियल, इत्यादि चीजों का इस्‍तेमाल करें और प्रसाद स्वरूप फल मिठाई रखें। पूजा के पश्चात पूजा किए गए डोरे को दाहिने हाथ पर बांधें। 

इस बार महालक्ष्‍मी के व्रत को करके आप भी अपनी धन से जुड़ी समस्याओं से निजात पा सकती हैं।

बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

Her Zindagi
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।