अनार खाना अधिकतर लोगों को पसंद होता है।  अमूमन लोग अनार को छीलकर अलग बाउल में रख लेते हैं और बाद में उसे खाते हैं। जबकि अनार के छिलकों को वह बेकार समझते हैं और उसे ऐसे ही फेंक देते हैं। अनार के छिलके बेकार नहीं होते हैं, बल्कि उनका कई अलग-अलग तरीकों से इस्तेमाल किया जा सकता है। यहां तक कि आप इसे सिर्फ स्किन केयर रूटीन में ही शामिल नहीं कर सकते, बल्कि यह आपके गार्डन एरिया के लिए भी उतने ही लाभदायक हैं।

अगर आप उन लोगों में से हैं, जिन्हें गार्डनिंग करना बेहद पसंद है और आप अपने पौधों का ख्याल नेचुरल तरीके से रखना चाहते हैं तो आपको अनार के छिलकों को अपने गार्डन एरिया में यूज करना चाहिए। अनार के छिलके ना केवल पौधों के विकास में मदद करते हैं, बल्कि इससे अन्य भी कई लाभ होते हैं। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको अनार के छिलकों को गार्डन एरिया में इस्तेमाल करने के कुछ आइडियाज शेयर कर रहे हैं, जो यकीनन आपके भी बेहद काम आएंगे-

लिक्विड फर्टिलाइजर के रूप में करें इस्तेमाल

अनार के छिलके एक बेहतरीन फर्टिलाइजर साबित हो सकते हैं। आप इनकी मदद से एक लिक्विड फर्टिलाइजर तैयार कर सकते हैं। इसके लिए छिलके के छोटे-छोटे टुकड़े कर लें, उन्हें पानी के साथ ब्लेंडर में डालें और गाढ़ा और चिकना घोल बना लें। आप इसमें मुट्ठी भर अनार के बीज भी एड कर सकते हैं। अब इस पेस्ट का एक हिस्सा लें, इसे पांच भाग पानी में घोलें और पौधों को समय-समय पर पानी देने के लिए इसका इस्तेमाल करें। ध्यान दें कि अनार के छिलके पोटैशियम से भरपूर होते हैं। इसलिए आप अपनी सब्जियों जैसे टमाटर, ब्रोकली और पत्ता गोभी को खिलाने के लिए उर्वरक का उपयोग कर सकते हैं। छिलके में मैग्नीशियम भी होता है, इसलिए आप फर्टिलाइजर का उपयोग गुलाब, फर्न और काली मिर्च के पौधों पर कर सकते हैं।

कंपोस्ट में करें शामिल 

use as compost pomegranate

अनार के छिलके बायोडिग्रेडेबल होते हैं और आसानी से टूट जाते हैं, इसलिए आप उन्हें खाद के ढेर में भी मिला सकते हैं। इस तरह नेचुरल खाद बनाने में अनार के छिलके मदद कर सकते हैं। हालांकि, इन्हें खाद में डालने से पहले छिलकों को काटना या भिगोना सुनिश्चित करें और कभी भी यूं ही पूरा न डालें।

इसे भी पढ़ें:घर के गार्डन में उगाती हैं सब्जियां तो फॉलो करें ये टिप्स

Recommended Video


पौधों को बीमारियों से रखे दूर

अनार के छिलके पौधे को कई संभावित रोगों से बचाने में भी मददगार साबित हो सकते हैं। इसके लिए आप छिलकों को एक ब्लेंडर में डालें और एक महीन पाउडर बना लें। आप संभावित बैक्टीरिया और फंगल संक्रमण को दूर रखने के लिए पाउडर में पानीमिलाकर एक पेस्ट बना सकते हैं और बगीचे के पौधों के तनों पर इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। एक अध्ययन में यह सिद्ध हो चुका है कि अनार के छिलके को पौधों के चारों ओर लगाने से पौधों की बीमारियों को नियंत्रित किया जा सकता है। यह बोट्रीटिस सिनेरिया, पेनिसिलियम डिजिटैटम, अल्टरनेरिया अल्टरनेटा, स्टेमफिलियम बोट्रीओसम, कोलेटोट्रिचम एक्यूटम सेंसु स्ट्रिक्टो, फुसैरियम विल्ट, एस्परगिलस पैरासिटिकस के खिलाफ प्रभावी है।

प्लांट के लिए तैयार करें स्प्रे

sprey for plants

अनार के छिलकों की मदद से आप चाय तैयार कर सकते हैं और उसे प्लांट पर स्प्रे कर सकते हैं। यह एक बेहतरीन फर्टिलाइजर के रूप में तो काक करेगी ही, साथ ही साथ आपके प्लांट को कई तरह से लाभ पहुंचाएगी। इस चाय को बनाने के लिए एक बर्तन में 100 ग्राम अनार का छिलका डालकर 2 लीटर पानी भरकर मलमल के कपड़े से ढक दें। बर्तन को 4-5 दिनों के लिए एक ब्राइट और ड्राई स्थान पर रखें। एक बार हो जाने पर, चाय को 2 लीटर पानी के साथ पतला करें और इसे पौधों पर स्प्रे के रूप में इस्तेमाल करें।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit- nenow, freepik