छोटे बच्चे बेहद ही मासूम होते हैं। यह समय उनके लिए काफी सेंसेटिव होता है, क्योंकि इस समय उनकी शारीरिक और मानसिक ग्रोथ हो रही होती है। उम्र की इस अवस्था में बच्चों को बाहरी वातावरण काफी प्रभावित करता है। यह सकारात्मक और नकारात्मक दोनों रूपों में हो सकता है। यदि इस उम्र में कुछ महत्वपूर्ण होता है, तो बाद में यह बच्चों में विभिन्न व्यवहार समस्याओं का कारण बनता है। इसलिए यह पैरेंट्स की जिम्मेदारी होती है कि वह बच्चों के प्रति अतिरिक्त सतर्क रहें। अगर दूसरे उनके व्यवहार को नकारात्मक तरीके से प्रभावित करते हैं, तो इसे आप घर में उनके बदले हुए व्यवहार से आसानी से पहचान सकती हैं। इसके लिए आपको सबसे पहले तो यह कोशिश करनी चाहिए कि बच्चा अपनी कोई भी बात आसानी से आप के साथ साझा कर सकें, ताकि वे अकेले महसूस न करें। इसके अलावा, बच्चों के बदले हुए व्यवहार को किसी भी कीमत पर नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए। तो चलिए आज हम आपको बच्चों के कुछ ऐसे ही बिहेवियरल प्रॉब्लम के बारे में बता रहे हैं-

जब आप बात कर रहे हों तब दखल देना

 children inside

यदि आपका बच्चा लगातार बात करते समय आपको बीच में रोकता है, तो यह अच्छा संकेत नहीं है। आपका ध्यान आकर्षित करने के लिए किसी को भी बाधित करने की उनकी आदत हो सकती है। इसलिए, अगली बार अगर आपका बच्चा ऐसा करे तो आप अपने बच्चे को बैठने और इंतजार करने के लिए कहें। 

गंदी तरह से खेलना

 children inside

हर बच्चे को खेलना पसंद होता है, लेकिन अगर आपका बच्चा खेलते समय अपने दोस्त को पंच मारता है या फिर उसे काटता है, तो यह बिल्कुल भी अच्छा नहीं है। यह आक्रामक व्यवहार उनकी सामान्य प्रकृति भी नहीं है यदि यह 8 साल की उम्र तक ऐसा ही करता है। ऐसे में उन्हें लगता है कि किसी को भी चोट पहुंचाना ठीक है। इसलिए, अगर वे अगली बार दूसरों को चोट पहुँचाते हैं, तो आप उन्हें सख्त लहजे में उन्हें समझाएं कि उन्हें इसकी अनुमति नहीं है। वे किसी को चोट नहीं पहुंचा सकते।

इसे जरूर पढ़ें: यह संकेत बताते हैं कि आपको अब अपने रिलेशन से कुछ वक्त के लिए ब्रेक चाहिए

आपकी बात ना सुनना

 children inside

यदि आपका बच्चा आपसे बात करते समय ध्यान नहीं देता है, तो इस व्यवहार को बदला जाना चाहिए। यदि वह अपने इस व्यवहार में बदलाव नहीं करता है तो ऐसे में वह हर बार आपकी उपेक्षा करता रहेगा। इसलिए अगली बार आप उसके कंधे को छूकर, उसका नाम पुकार कर या टीवी बंद करके उसका ध्यान आकर्षित करें, ताकि वह आपकी बात सुने।

इसे जरूर पढ़ें: मेंटली स्ट्रांग महिलाओं की यह होती है पहचान, जानिए आप भी

Recommended Video

आपकी अनुमति के बिना कुछ भी करना

 children inside

अगर आपका बच्चा आपकी अनुमति के बिना कुछ भी करता है। मसलन, वह बिना पूछे या बिना बताए अपने दोस्तों को बुलाता है या उनके घर चला जाता है तो आपको इसे हल्के में नहीं लेना चाहिए। यदि इस व्यवहार को रोका नहीं गया, तो वे कभी भी किसी नियम का पालन नहीं करेंगे। इस समस्या से निपटने के लिए अपने घर में कुछ छोटे नियम निर्धारित करें और अपने बच्चों को उनका पालन करने के लिए कहें।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik