अगर आपको घर सजाने का शौक है और आप कुछ क्रिएटिव करना चाहती हैं तो इंटीरियर डिजाइन के क्षेत्र में किस्‍मत आजमा सकती हैं। लेकिन इस क्षेत्र में करियर बनाने के लिए आपको इस क्षेत्र से जुड़ी सारी जानकारियां होनी चाहिए। जिसमें सबसे पहला है इसकी पढ़ाई से जुड़ी जानकारी होना। आपके लिए यह पता होना बहुत जरूरी है कि कैसे और कहां इसका कोर्स किया जा सकता है। इंटीरियर डिजाइनर्स की मांग अब सिर्फ मेट्रो सिटीज़ तक ही सीमित नहीं है बल्कि छोटे शहरों में भी इसकी मांग बढ़ रही है। आजकल लोग घर खरीदते ही उसे सजाने के लिए इंटीरियर डिजाइनर खोजने लगते हैं। तो इस मौके का फायदा उठाएं और इस उभरते क्षेत्र में करियर बनाएं लेकिन उससे पहले इंटीरियर डिजाइनर  कोर्सेज से जुड़ी कुछ अहम बातों को जरूर जान लें।

very important things to know about interior design course inside

इसे जरूर पढ़ें: अगर जिम खोलना चाहती हैं तो जानें उससे जुड़ी सारी जानकारी

इंटीरियर डिजाइनिंग की पढ़ाई

मेडिकल, इंजिनीरिंग के कोर्स की तरह ही इंटीरियर डिजाइनिंग (होम डेकोर टिप्स) भी एक कोर्स होता है और आपको डिग्री दी जाती है। इंटीरियर डिजाइन कोर्स को करने के बाद आप घर, दफ्तर, क्लिनिक इत्‍यादि का डेकोरेशन कर सकती हैं। इसके अलावा आप मल्टिनैशनल कंपनियों के लिए भी काम कर सकती हैं। बड़ी-बड़ी कंपनियां अपने दफ्तरों की अंदरूनी सजावट के लिए इंटीरियर डिजाइनर नियुक्‍त करती हैं। इसलिए इस फील्‍ड में आपके लिए काफी अवसर हैं।

some important things to know about interior design course inside

 

इंटीरियर डिजाइनर का कार्य

इंटीरियर डिजाइनर का काम आसान नहीं होता, इसमें कई तरह की चुनौतियां होती हैं। आजकल फ्लैट कल्चर की वजह से इंटीरियर डिजाइनर की भूमिका बहुत अहम हो गई है। छोटे फ्लैट में पूरे परिवार के सामान को व्यवस्थित करना, कम जगह को भी खूबसूरत तरीके से दिखाना, यह काम इंटीरियर डिजाइनर ही कर सकते हैं। उन्हें जगह और कस्टमर्स के बजट के अनुसार घर को सजाना (बालकनी सजाने के आईडियाज) होता है। जगह के हिसाब से रंगो का चयन, टेबल, सोफा और अन्‍य फर्नीचर, इन सबका चयन करना इंटीरियर डिजाइनर का ही काम होता है। लाइट्स से लेकर डेकोरेटिव आइटम्स का भी ध्यान रखना पड़ता है। कई बार कस्टमर्स की मांग पर वास्तु के हिसाब से भी घर को सजाना पड़ता है।

Recommended Video

कोर्स के लिए शैक्षिक योग्यता

अगर आप इंटीरियर डिजाइनर कोर्स करना चाहती हैं तो आपके पास न्यूनतम शैक्षिक योग्यता 12वीं तक की पढ़ाई होनी चाहिए। किसी भी विषय से 12वीं पास करने के बाद आप इस कोर्स के लिए आवेदन कर सकती हैं। आप डिप्लोमा कोर्स, डिग्री कोर्स या सर्टिफिकेट कोर्स कर सकती हैं। स्नातक होने के बाद भी आप इंटीरियर डिजाइन कोर्सेज में पीजी डिप्लोमा कोर्स या डिग्री कोर्स के लिए अप्‍लाई कर सकती हैं। यह सभी कार्स 1 से 3 सालों के लिए होते हैं।

know about interior design inside

इंटीरियर डिजाइनर के लिए क्‍वालिटी

इंटीरियर डिजाइनर बनने के लिए शैक्षिक योग्यता के साथ-साथ कुछ अन्य गुणों का होना भी जरूरी है। अगर आपके अंदर भी यह गुण मौजूद हैं तो आप भी इस कोर्स के लिए अप्लाई कर सकती हैं।

आपका क्रिएटीव होना बहुत जरूरी है।

नए कॉन्सेप्ट के लिए आपके पास स्ट्रॉन्ग इमेजिनेशन पावर होना बहुत जरुरी है।

आपको बदलते ट्रेंड की समझ होनी चाहिए।

ड्रॉइंग और आर्ट्स की जानकारी होना बहुत जरुरी है।

कम्युनिकेशन स्किल अच्छी होनी चाहिए ताकि आप अपने आइडियाज़ दूसरों तक पहुंचा सकें।

रियल एस्टेट फील्ड की जानकारी होना भी जरूरी है। जिससे आप यह पता कर पाएंगी कि बिल्डिंग और कमर्शियल प्लेस में किस तरह का मटेरियल इस्तेमाल किया जा रहा है।

इस क्षेत्र में विशेषज्ञता

इंटीरियर डिजाइनिंग एक स्पेशलाइज्ड कोर्स है। लेकिन आप चाहें तो इसके अंतर्गत किचन डिजाइनिंग, रूम डिजाइनिंग, होम डेकोर, ऑफिस डिजाइनिंग इत्‍यादि विषयों पर विशेषज्ञता भी हासिल कर सकती हैं। इंटीरियर डिजाइनर बनने के लिए आप बीए इन इंटीरियर आर्किटेक्चर एंड डिजाइन, बैचलर इन इंटीरियर डिजाइन, पीजी डिप्लोमा इन इंटीरियर डिजाइन और डिप्लोमा इन इंटीरियर स्पेस एंड फर्नीचर डिजाइन जैसे कोर्स कर सकती हैं।

कहां स्कोप है

इंटीरियर डिजाइनिंग कोर्स करने के बाद आप किसी कंपनी में डेकोरेटर के पद पर कार्य कर सकती हैं। इसके आलावा आप किसी स्टूडियो और थिएटर, आर्किटेक्चरल फर्म, इवेंट प्लानर और एग्ज़िबिशन ऑर्गनाइज़र जैसी कंपनी से जुड़ सकती हैं। आप चाहें तो इसे अपना निजी बिजनेस भी बना सकती हैं।

डिजाइनर का वेतन

इंटीरियर डेकोरेटर की आय उनके द्वारा किए गए काम पर निर्भर करती है। अपने करियर के शुरुआती दिनों में आप हर महीने दस हजार रूपए से लेकर पच्‍चीस हजार रुपए तक कमा सकती हैं। अनुभव बढ़ने के साथ आपकी आय बढ़कर प्रति माह चालिस हजार से एक लाख रुपए तक हो सकती है। आपकी कमाई आपके कस्टमर के स्‍टेटस पर भी निर्भर करता है।

know very important things to know about interior design course insideinside

इसे जरूर पढ़ें: ब्यूटी पार्लर खोलना चाहती हैं तो जानें इससे जुड़ी सारी जानकारी 

इंटीरियर डिजाइनर कोर्स के लिए प्रमुख संस्‍थान-

स्कूल ऑफ़ इंटीरियर डिज़ाइन, अहमदाबाद

इंस्टीट्यूट ऑफ इंटीरियर डिजाइनर्स, नई दिल्ली

जे.जे. स्कूल ऑफ़ आर्ट्स. मुंबई

एमआईटी इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन, पुणे

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इंटीरियर एंड फैशन टेक्नोलॉजी, भुवनेश्वर

जवाहर लाल नेहरू टेक्नोलॉजी यूनिवर्सिटी, हैदराबाद

चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी, मेरठ

नागपुर विश्‍वविद्यालय, रविंद्रनाथ टैगोर मार्ग, नागपुर

हम उम्‍मीद करते हैं कि इंटीरियर डिजाइनिंग के कोर्स से जुड़ी इन जानकारियों से आपको लाभ होगा। अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी तो जुड़ी रहिए हमारे साथ। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए पढ़ती रहिए हरजिंदगी।

Photo courtesy- (inift.com, googleusercontent.com, myinteriordesign.school, norma.training, pbs.twimg.com)