• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

अपनी बेटी को पहले पीरियड्स के बारे में कैसे बताएं, एक्सपर्ट से जानिए

पहले पीरियड्स में बेटी घबराए नहीं, इसके लिए उसे बहुत प्यार से इसके बारे में बताएं। इससे बेटी पीरियड्स को लेकर कंफर्टेबल रहेगी।
author-profile
Published -22 Jan 2019, 16:50 ISTUpdated -03 Apr 2020, 10:17 IST
Next
Article
how to tell teenage daughter about first periods teenage issues girl child main

पीरियड्स एक नेचुरल प्रक्रिया है। पीरियड्स में शरीर में हार्मोन में बदलाव आते हैं। इस दौरान शरीर में होने वाली प्रक्रियाओं से स्ट्रेस भी हो जाता है। और बात जब पहले पीरियड्स की हो, तो इसे लेकर बेटियों के मन में थोड़ी घबराहट भी होती है। हर मां को अपनी बेटी को इसके बारे में पहले से बताना चाहिए, बावजूद इसके हम आज भी सार्वजनिक तौर पर इसके बारे में बात करने से परहेज करते हैं। पीरियड्स को लेकर कई तरह के मिथ भी प्रचलित हैं, जिनमें कोई लॉजिक नहीं, लेकिन इसके बावजूद बहुत चर्चा नहीं होने की वजह से टीनेज बेटियों को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। अगर बेटियों को इस बारे में पहले से ही तैयार किया जाए तो वे इसे लेकर ना सिर्फ कंफर्टेबल रहेंगी, बल्कि उनका कॉन्फिडेंस लेवल भी ऊंचा रहेगा। तो आइए जानते हैं कि किस तरह से अपनी बेटी को उसके पहले पीरियड्स के बारे में बताया जाए-

टीवी ऐड के जरिए बताएं

how to tell teenage daughter about first periods teenage issues girl child inside

टीवी पर आजकल सेनिटरी नैपकिन के ढेरों विज्ञापन आते हैं। कई बार बेटियां खुद भी इसके बारे में पूछती हैं। अगर आपकी बेटी उस अवस्था में है, जब उसे पीरियड्स कभी भी शुरू हो सकते हैं, तो बिना किसी संकोच के बहुत कंफर्टेबल तरीके से उसे पीरियड्स के बारे में बताना शुरू करें। ऐड को दिखाते हुए आप बेटी को बताएं कि महीने के कुछ खास दिनों में ब्लीडिंग होती है और यह एक नॉर्मल प्रक्रिया है, इससे घबराने की कतई जरूरत नहीं है। अगर आपकी बेटी इससे जुड़ा कोई सवाल पूछे, तो उसे सही तरीके से समझाएं। इसी तरह पेपर में भी ऐड दिखाई देते हैं, जिन्हें दिखाकर आप बेटी को पीरियड्स के बारे में बता सकती हैं। पहली बार पीरियड्स के बारे में बात करते हुए नॉर्मल तरीके से बात करें और हल्के-फुल्के तरीके से ही समझाएं। 

इसे जरूर पढ़ें: अपनी बेटी के लिए करें इन योजनाओं में निवेश और संवारें उसका भविष्य

बनें बेटी की दोस्त

how to tell teenage daughter about first periods teenage issues girl child inside

मुमकिन है कि बेटी अपने क्लासमेट्स या दोस्तों के जरिए पीरियड्स के बारे में पहले से थोड़ा बहुत जानती हो। ऐसे में बेटी के चीजें छिपाने के बजाय उसकी दोस्त बनकर उसे सहज तरीके से बात करें। इससे बेटी पीरियड्स को लेकर अपनी दुविधा या किसी तरह की परेशानी नेचुरल तरीके से बता पाएगी। अगर आप बेटी को सही समय पर थोड़ी-थोड़ी जानकारी देती रहेंगी, तो किसी तरह की भ्रांति और उससे होने वाले स्ट्रेस से बचेगी। साथ ही पहले पीरियड्स होने पर वह अपनी सिचुएशन बेहतर तरीके से हैंडल कर पाएगी।

इसे जरूर पढ़ें: सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश करते हुए इन अहम बातों को जानें और उठाएं स्कीम का पूरा फायदा

बेटी से ना छिपाएं सच

घरों में आमतौर पर पीरियड्स के बारे में खुलकर बात नहीं होती। अगर आपको खुद भी इस तरह की झिझक महसूस होती है तो आपकी बेटी को पीरियड्स से जुड़ी सही जानकारी नहीं पहुंच पाएगी। ऐसे में अपना संकोच दूर करके अपनी बेटी को पीरियड्स से जुड़ी सारी जानकारियां धीरे-धीरे देना शुरू करें। अगर बेटी को कोई भी गलत चीज बताई जाएगी, तो वह अपने शरीर में होने वाले बदलाव और उससे जुड़ी बातों को लेकर उलझन में फंस सकती है। जब आप बेटी को समझाएंगी कि यह एक नेचुरल प्रक्रिया है, जिससे हर महिला गुजरती है तो वह इससे परेशान नहीं होगी। सबसे बड़ी बात ये कि बेटी को हकीकत बताने से वह पीरियड्स के दौरान हाईजीन मेंटेन करेगी, जिससे उसकी मेंस्ट्रुअल हेल्थ प्रभावित नहीं होगी। बेटी को नैपकीन इस्तेमाल करने, डिस्पोज करने और साफ-सफाई से जुड़ी चीजें बताना उसके लिए काफी अहम हैं।

क्या कहती हैं एक्सपर्ट

पेरेंटिंग से जुड़ी चुनौतियों के मुद्दों पर सलाह देने वाली सर्टीफाइड लाइफ कोच डॉ. सलोनी सिंह कहती हैं

'आजकल प्यूबर्टी की एज कम हो गई है। 9-10 साल में ही बेटियों को पीरियड्स शुरू हो जाते हैं। इस बारे में मां को शुरुआत में बेटियों को सहज तरीके से बताना चाहिए। बेटी को बताया जाना चाहिए कि यह उनकी ग्रोथ का सामान्य हिस्सा है, जिसमें शरीर में कुछ चेंज आते हैं। जिस तरह बेबी को डायपर लगाया जाता है, उसी तरह पीरियड्स में पैड यूज करने की जरूरत होती है। आजकल स्कूल में बेटियों को पीरियड्स के बारे में बताया जाता है, लेकिन इस बारे में मां की तरफ से जानकारी दिया जाना बेहतर रहता है, क्योंकि बेटी मां के साथ कंफर्टेबल होती है। इसमें किसी तरह का टैबू ना रखें। जमाना बदल रहा है और ऐसे में बच्चे को यह प्रक्रिया नॉर्मल लगनी चाहिए, इसके लिए उसे कंफर्टेबल बनाना जरूरी है। बेटी को बताएं कि पीरियड्स के कारण डेली के काम में, खेलकूद में किसी तरह की परेशानी नहीं होती। पहले पीरियड्स में ज्यादातर बेटियां, जिन्हें इस बारे में पता नहीं होता, घबरा जाती हैं कि क्या हो गया। बेटी से बात करें तो उसके बिल्कुल नॉर्मल लगना चाहिए, उसे अपना या बड़ी बहन का उदाहरण देकर बताएं। बेटी को बताएं कि अगर पीरियड्स स्कूल में आए तो वे टीचर को बता सकती है, उन्हें बैग में पैड रखना चाहिए ताकि स्कूल में दिक्कत ना आए। पीरियड्स के बारे में चर्चा करते हुए बेटी के लिए सपोर्टिव रहें।' 
 

बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

Her Zindagi
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।