• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

घर पर रहते हुए बच्चों की स्टडीज नहीं होगी डिस्टर्ब, बस इस टिप्स का लें सहारा

लंबे समय से घर पर रहने के कारण अगर बच्चे की पढ़ाई पर असर होने लगा है तो आप इन टिप्स की मदद से उनकी स्टडीज को रेग्युलर बना सकती हैं।
author-profile
  • Mitali Jain
  • Editorial
Published -06 May 2020, 16:51 ISTUpdated -11 May 2020, 16:50 IST
Next
Article
child education main

देश में कोरोनावायरस को फैलने से रोकने के लिए इन दिनों पूरे देश में लॉकडाउन है। सभी स्कूल व कॉलेज आदि को बंद कर दिया गया है। इतना ही नहीं, लॉकडाउन से पहले से ही स्कूलों को बंद कर दिया गया था। वैसे तो नए सत्र की शुरूआत हो चुकी है और बच्चों को ऑनलाइन माध्यम से स्टडीज करवाई जा रही हैं। लेकिन फिर भी घर पर रहकर बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। चूंकि बच्चे नियमित रूप से स्कूल नहीं जा रहे हैं और घर पर रहकर वह लम्बे वक्त तक पढ़ाई नहीं कर पा रहे हैं। ऐसे में जरूरत है कि आप बच्चों की पढ़ाई पर ध्यान दें और उन्हें घर पर रहते हुए कुछ इस तरह पढ़ाएं कि उन्हें पढ़ाई बोझ भी ना लगे और वह अपनी स्टडीज को लेकर अनुशासित हो सकें। तो चलिए आज हम आपको कुछ ऐसे आसान टिप्स बता रहे हैं,, जिसकी मदद से आप घर पर रहते हुए बच्चों की पढ़ाई को प्रभावित होने से बचा सकती हैं-

इसे जरूर पढ़ें: इन एप्स की मदद से आप बच्चो को सिखा सकती हैं बहुत कुछ

बनाएं टाइमटेबल

child education inside

बच्चों की स्टडीज को रेग्युलर रखने का सबसे आसान तरीका है कि आप उनके लिए एक टाइमटेबल सुनिश्चित करें। भले ही बच्चे इन दिनों घर पर हैं, लेकिन इसका अर्थ यह नहीं है कि वह किसी भी टाइम उठे या सोएं। आप उनके लिए एक रूटीन तय करें। जिसमें उनके उठने से लेकर खाने, पढ़ने से लेकर खेलने तक के लिए समय तय किया गया हो। आप चाहें तो उस चार्ट को बच्चे के कमरे में चिपका दें। इससे बच्चों को पता रहेगा कि उन्हें किस समय क्या करना है और उनकी स्टडीज किसी भी दिन मिस नहीं होंगी।

पोर्शन करें कंप्लीट

child education inside

अगर आप चाहते हैं कि बच्चे पढ़ाई में पीछे ना रहें और वह अपनी स्टडीज को लेकर रेग्युलर हों तो इसके लिए आप बच्चों की पढ़ाई को अलग-अलग भागों में बांट दें। इसके लिए आप दिन की शुरूआत में ही उन्हें यह बता दें कि आज उन्हें किस सब्जेक्ट में कितना पोर्शन कंप्लीट करना है। जब उन्हें उस दिन के टारगेट का पता होगा तो उनके लिए स्टडीज करना काफी आसान रहेगा।

Recommended Video

दें रिवार्ड

child education inside

स्कूल टाइमिंग के दौरान बच्चों का एक समय सुनिश्चित होता है और इसलिए वह स्कूल में हर सब्जेक्ट की पढ़ाई करते हैं। लेकिन घर पर रहते हुए बच्चों को भीतर से वह मोटिवेशन नहीं मिलता। जिसके कारण वह पढ़ाई करने में आनाकानी करते हैं या फिर वह दिन स्किप करते हुए पढ़ाई करते हैं। इसलिए बच्चों को मोटिवेट करने के लिए आप उन्हें रिवार्ड दें। मसलन, आप बच्चे को कभी-कभी आईसक्रीम या फ्रेंच फ्राइस या उनकी मनपसंद चीज की पार्टी दें। साथ ही उन्हें यह कहें कि वह इन दिनों घर में रहते हुए भी अपनी पढ़ाई अच्छी तरह कर रहे हैं, इसलिए उन्हें यह इनाम मिला है। इससे उन्हें अपनी पढ़ाई को लेकर रेग्युलर होने में प्रोत्साहन मिलेगा। हालांकि बच्चों को लालच ना दें। मसलन, उन्हें यह ना कहें कि अगर वह पढ़ाई करेंगे तो आप उन्हें इनाम देंगी। इस तरह, बच्चे धीरे-धीरे आपको ब्लैकमेल करने लगेंगे।

इसे भी पढ़ें: बच्चों का ज्ञान बढ़ाने में मदद कर सकते हैं ये 5 एप्स!

खुद भी दें ध्यान

child education inside

अगर आप यह सोच रही हैं कि आप बच्चे को पढ़ने के लिए कहेंगी तो वह पढ़ लेंगे, तो आप गलत है। जिस तरह स्कूल में टीचर बच्चों पर पूरा ध्यान देती है, ठीक उसी तरह घर पर रहते हुए आपको बच्चों की पढ़ाई पर पूरा ध्यान देना होगा। मसलन, आप उनकी स्टडीज में हेल्प करें। साथ ही आपने उन्हें दिन में जो टार्गेट कंप्लीट करने के लिए दिया है, वह उन्होंने ठीक तरह से किया या नहीं, यह जरूर चेक करें।

अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसे शेयर जरूर करें। साथ ही इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी से।

Image Credit: Freepik.com

बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

Her Zindagi
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।