शादी किसी के भी जीवन का एक सबसे बड़ा सपना होता है और इसकी तैयारियों में कोई भी कपल या उनके परिवार के सदस्य किसी तरह की कोर-कसर नहीं छोड़ना चाहते। लेकिन कई बार यह तैयारियां तब काफी स्ट्रेसफुल हो जाती हैं, जब दोनों परिवार के विचार आपस मंे मेल न खाते हो। खासतौर से, जब दो अलग-अलग कल्चर या धर्म को मानने वाली फैमिली रिश्तेदारी में तब्दील होती है, तब यह समस्या काफी देखने को मिलती है। उदाहरण के तौर पर, अगर आप पंजाबी हैं और आपके होने वाले सास-ससुर बंगाली, सिंधी या किसी और कल्चर को मानने वाले, तब शादी की तैयारियां करना यकीनन आपके लिए सिरदर्द बन जाएगा। दरअसल, दोनों ही फैमिलीज यह चाहेंगी कि शादी की तैयारियां व फंक्शन उनके कल्चर के अनुसार हो। ऐसे में परिवार में आपसी टकराव तो होता है ही, साथ ही आपका सबसे खूबसूरत सपना सबसे बुरा सपना साबित होने वाला होता है। अगर आपकी शादी भी जल्द ही होने वाली है और आपको इस तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है तो अब परेशान होने की जरूरत नहीं हैं। आज हम आपको इन आपसी मतभेदों को मिटाने और वेडिंग को परफेक्टली प्लान करने के कुछ आसान तरीकों के बारे में बता रहे हैं-

इसे भी पढ़ें: शादी के लिए दूल्हा नहीं ढूंढ पाई मेट्रिमोनियल एजेंसी, अब ग्राहक को वापस करेगी 62000 रुपए

पार्टनर से करें बात

how to plan a wedding when both families inside four

इस समस्या को सुलझाने में आपकी सबसे बड़ी मदद कर सकता है आपका होने वाला लाइफ पार्टनर। कोशिश करें कि कम से कम शादी की तैयारियों को लेकर आपका और आपके पार्टनर का मत एक ही हो। इससे आप दोनों को अपने परिवारों की राय व विचारों को एक-दूसरे के साथ साझा करने में आसानी होगी। जब आप दोनों ही एक-दूसरे की फैमिली की उम्मीदों व इच्छाओं को जान लेंगे तो शादी की तैयारियां करना काफी आसान हो जाएगा। 

फैमिली से करें बात

how to plan a wedding when both families inside three

यह एक बेहद महत्वपूर्ण कदम है। जब आप शादी की तैयारियां शुरू करें तो पहले दोनों फैमिली एक साथ बैठकर यह निर्णय लें कि वह शादी को किस तरह प्लान करना चाहती हैं। हर कल्चर में कुछ ऐसी परंपराएं होती हैं, जिनका पालन किया जाना बेहद आवश्यक माना जाता है, इसलिए इन सभी पर पहले ही बात कर लें। जब दोनों परिवार एक साथ बैठकर शादी की तैयारियों को लेकर चर्चा करेंगी तो बजट के साथ-साथ  उन्हें एक-दूसरे के विचारों की भी जानकारी होगी और फिर आपसी सहमति से वेडिंग प्लानिंग भी बेहतर होगी।

इसे भी पढ़ें: Amazon Sale: 3000 रुपए से कम में रज़ाई से जैकेट तक, ऐसे कीजिए सर्दियों की तैयारी

करें छोटे-छोटे समझौते

how to plan a wedding when both families inside two

सुनने में आपको थोड़ा अजीब लग सकता है, लेकिन शादी की तैयारियों में किए गए छोटे-छोटे समझौते बड़े टकरावों को दूर कर देते हैं। मसलन, अगर आपकी सासू मां आपको कोई खास ड्रेस पहनाना चाहती हैं तो उसे मना न करें क्योंकि यह उनकी परंपरा का हिस्सा है। इसी तरह, अगर सामने वाली फैमिली की कुछ परंपराएं हैं तो आप उनका पालन जरूर करें, क्योंकि इससे न सिर्फ उन्हें खुशी मिलेगी, बल्कि आपकी मैरिज के सभी फंक्शन भी काफी अच्छे से हो जाएंगे।

पार्टनर है लाइफ सेवर

how to plan a wedding when both families inside one

जब आपकी शादी में इस तरह की दिक्कतें आ रही हों तो यकीनन आपका पार्टनर आपके लिए लाइफ सेवर है। अगर आप अपनी शादी में कुछ खास करना चाहती हों या फिर आपकी फैमिली ने कुछ अलग सोचा हो तो बेहतर होगा कि आप पहले इस बारे में अपने पार्टनर से डिस्कस करें। दरअसल, आपके पार्टनर को पता होता है कि उनकी फैमिली किसी बात पर कैसा रिएक्शन दे सकती हैं। ऐसे में जब आप अपने पार्टनर को मैसेज देंगी तो वह अपने हिसाब से और सही तरह से मैसेज को आगे भेज पाएंगे। वहीं अगर आप सीधे ही बात करती हैं तो हो सकता है कि आपकी पार्टनर की फैमिली के लोग आपकी बात मानने के लिए राजी न हों या फिर वह आपके लिए एक अलग ही धारणा अपने मन में बना लें।