अपने बच्चे से जुडी हर एक चीज़ को मां बख़ूबी जांच परख़ कर इस्तेमाल करती है। फिर चाहें बच्चे का मसाज ऑयल हो या उसके कपड़े वह हर एक चीज़ की  क्वालिटी चेक करने के बाद ही उसको अपने बच्चे के लिए खरीदती है। छोटे बच्चे के इस्तेमाल की एक ऐसी ही चीज़ है डायपर। जिसका इस्तेमाल हर एक मां अपने बच्चे को गीलेपन से दूर रखने के लिए करती है। जहां एक तरफ इससे मां का जीवन आसान बनता है वहीं बच्चा भी इसमें आराम महसूस करता है। लेकिन अक़्सर इसके इस्तेमाल से बच्चे को खुजली, इन्फेक्शन और रैशेस हो जाते हैं और मां डायपर के उस ब्रांड को ख़राब मान लेती है। लेकिन ऐसा नहीं है आपके बच्चे को रैशेस होने के और भी कारण हो सकते हैं।

आपके बच्चे की स्किन एलर्जिक हो सकती है 

your child is allergic to diapers gets rashes inside

डायपर बनाने में कई तरह के केमिकल इस्तेमाल किये जाते हैं। जो आपके बच्चे की सेंसिटिव स्किन के साथ रिएक्ट कर रैशेस और एलर्जी का कारण बनते है। आपके बच्चे को कुछ ब्रांड के डायपर से एलर्जी हो सकती है। इसके लिए आप केवल बेबी केयर प्रोडक्ट्स का ही यूज़ करें। कोई ऐसा डायपर चुन सकती हैं जो प्राकृतिक सामग्री के साथ बना हो और स्किन फ्रेंडली हो। 

इसे भी पढ़ें: बच्चों के मोटापा पर असर करते हैं घरों को चमकाने वाला फ्लोर लिक्विड, जानें कैसे

Recommended Video


डायपर का साइज़ 

your child is allergic to diapers gets rashes inside

बच्चे की ग्रोथ के अनुसार उसके लिए सही साइज़ का डायपर ही चुनें। छोटे और बड़े साइज़ का डायपर बच्चे को अनकम्फर्ट बनाकर रैशेस का कारण बन सकता है। कुछ पेरेंट्स सोचते हैं कि बड़े साइज़ का डायपर लूज़ रहने से बच्चा आराम महसूस करेगा। बड़ा डायपर भी बच्चे के मूवमेंट्स में दिक़्क़त पैदा करता है। हालांकि सही साइज़ चूज़ करना थोड़ा मुश्किल होता है। लेकिन आप इसके लिए अपनी सूझ-बूझ ज़रूर दिखाए। क्योंकि आपके बच्चे के कम्फर्ट से ज़्यादा जरूरी कुछ नहीं है।

इसे भी पढ़ें: इन्फेंट केयर के लिए पेरेंट्स को रखना होगा इन बातों का ख्याल


सही समय पर डायपर चेंज न करना

your child is allergic to diapers gets rashes inside

डायपर पहनाते वक़्त ध्यान रखें कि बच्चे की स्किन पूरी तरह से सुखी हुई हो। कुछ लोग बच्चे का एक डायपर हटाते ही तुरंत दूसरा डायपर लगा देते हैं। ऐसा बिल्कुल न करें, ख्याल रखें कि बच्चे की स्किन पूरी तरह से सूखी हुई हो या दूसरा डायपर लगाने के पहले उसको कुछ देर खुला छोड़ दें। कई घंटों तक डायपर न चेंज करने से भी बच्चे को रैशेस हो जाते हैं। एक छोटे बच्चे की स्किन सॉफ्ट और सेंसिटिव होती है। इसलिए हाइजीन का ख़ास ख्याल रखें और समय-समय पर डायपर बदलती रहें।

Image Credit:(@homemademoma,moroccoworldnews,motherandbaby,dsreps)