हिन्दू धर्म में हर एक त्योहार का अलग महत्व और अलग तरीके से पूजन का विधान है। ऐसी ही प्रमुख त्योहारों में से एक है गोवर्धन। मुख्य रूप से गोवर्धन का त्योहार दिवाली के पांच प्रमुख त्योहारों में से एक होता है। मुख्य रूप से दिवाली के अगले दिन गोवर्धन पूजा का पर्व मनाया जाता है।

यह कार्तिक महीने में शुक्ल पक्ष के पहले दिन यानि प्रतिपदा के दिन मनाया जाता है। इस त्योहार में गाय के गोबर से गोवर्धन पर्वत बनाकर इसकी पूजा की जाती है। आइए ज्योतिषाचार्य और वास्तु स्पेशलिस्ट डॉक्टर आरती दहिया जी से जानें कि इस साल कब मनाया जाएगा गोवर्धन का त्योहार, पूजा का शुभ मुहूर्त और इस दिन आपको कौन से काम नहीं करने चाहिए।

गोवर्धन पूजा की तिथि और शुभ मुहूर्त 

govardhan puja

  • इस साल कार्तिक महीने के शुक्ल पक्ष की प्रतिप्रदा तिथि यानी गोवर्धन पूजा 5 नवंबर 2021, शुक्रवार को है। 
  • पूजा का शुभ मुहूर्त 5 नवंबर सुबह 5 बजकर 28 मिनट से लेकर सुबह 7 बजकर 55 मिनट तक
  • दूसरा मुहूर्त शाम को 5 बजकर 16 मिनट से 5 बजकर 43 मिनट तक है।

गोवर्धन पूजा का महत्व 

इस  दिन भगवान कृष्ण की पूजा होती है और साथ ही गाय के गोबर से गोवर्धन देव बनाकर उन्हें पूजते हैं। इसके बाद ब्रज के देवता गिरिराज भगवान यानी पर्वत को खुश करने के लिए 56 तरह के पकवान बनाकर श्रीकृष्‍ण को उनका भोग लगाया जाता है। गुजरात में, यह दिन गुजराती नव वर्ष के उत्सव का आह्वान करता है जबकि महाराष्ट्र में, गोवर्धन पूजा को 'बाली पड़वा' या 'बाली प्रतिपदा' के रूप में मनाया जाता है।भगवान विष्णु के एक अवतार वातिथि मन ने बाली को हराया और उसे 'पाताल लोक' में धकेल दिया, इसलिए ऐसा माना जाता है कि राजा बलि इस दिन पृथ्वी पर आते हैं। इस त्योहार को देश के कई हिस्सों में 'विश्वकर्मा दिवस' के रूप में भी मनाया जाता है जहां लोग अपने औजारों और उपकरणों की गोवर्धन का त्योहार  पूजा करते हैं।

गोवर्धन पूजन विधि  

govardhan significance

इस पर्व पर गोवर्धन और गाय माता की पूजा-अर्चना करने की परंपरा है। इस दिन गाय के गोबर के ढेर से गोवर्धन पर्वत बनाया जाता है। इसे फूलों और कुमकुम से सजाया जाता है। जल, मौली, रोली, चावल, फूल दही तथा तेल का दीपक जलाकर गोवर्धन पर्वत की पूजा करते हैं। इसके बाद भक्त गाय के गोबर से बने पर्वत की पहाड़ियों के चारों ओर परिक्रमा करते हैं और अपने परिवार की सुरक्षा और खुशी के लिए गोवर्धन पर्वत की पूजा करते हैं। गोवर्धन पूजा विधि में लोग अपनी गायों और बैलों की भी पूजा करते हैं। इस दिन लोग अपनी गायों और बैलों को नहला कर सजाते हैं। फिर फूल माला, धूप, चन्दन आदि से उनकी पूजा करते हैं। इस दिन गायों को मिठाई खिलाकर उनकी आरती उतारी जाती है तथा प्रदक्षिणा की जाती है।

इसे जरूर पढ़ें:Dhanteras 2021: जानें कब है धनतेरस का त्योहार, पूजा का शुभ मुहूर्त, पूजा की सही विधि और महत्व

गोवर्धन की कहानी 

गोवर्धन पूजा के पीछे एक प्रचिलित कहानी है। इस कहानी के अनुसार जब इंद्रदेव ने बृज में तेज बारिश शुरू कर दी थी  तब श्री कृष्ण भगवान ने बृज के लोगों की रक्षा के लिए गोवर्धन पर्वत को अपनी छोटी उंगली पर उठाकर बृजवासियों को इंद्र के प्रकोप से बचा लिया था। तब बृज के लोगों ने श्री कृष्ण को 56 भोग अर्पित किए थे। इससे खुश होकर श्रीकृष्ण ने गोकुलवासियों की हमेशा रक्षा करने का वचन दिया था। तभी से इस त्यौहार की प्रथा आरम्भ हो गयी और आज भी इसे  बड़ी ही धूम-धाम से मनाया जाता है। 

Recommended Video

गोवर्धन पूजा के दिन क्या ना करें

  • गोवर्धन पूजा बंद कमरे में न करें। गायों की पूजा करते हुए ईष्टदेव या भगवान कृष्ण की पूजा करना न भूलें। पूजन के समय लोग काले रंग के कपड़े पहनने से बचे।  इस दिन हल्के पीले या नारंगी रंग के वस्त्र पहनना शुभकारी रहता है।
  • गोवर्धन पूजा के दिन गाय या जीवों की सेवा करें और उन्हें खाना खिलाएं। भूलकर भी किसी जीव को किसी प्रकार की पीड़ा ना पहुंचाएं। 
  • परिवार के सभी लोग एक साथ मिलकर गोवर्धन पूजा करें और घर या बाहर किसी तरह की लड़ाई झगड़ा न करें। 
  • भूलकर भी जूते चप्पल पहन कर गोवर्धन की प्ररिक्रमा न करें और कभी भी परिक्रमा अधूरी न छोड़ें। ऐसा करने से भगवान कृष्ण अप्रसन्न हो जाते हैं। 

उपर्युक्त सभी तरीकों से गोवर्धन की पूजा और इन सभी बातों को ध्यान में रखकर पूजन करने से सभी कष्टों से मुक्ति मिलती है और समस्त मनोकामनाओं की पूर्ति होती है। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik and wallpaper cave