वैसे तो दिवाली मुख्य रूप से रोशनी का त्यौहार है। खुशियों को बांटने और खुशियां बटोरने का अवसर है और रिश्तों की डोर को मजबूत बनाने का पर्व है। दिवाली में पटाखे जलाए जाते हैं और दीप प्रज्ज्वलित करके खुशियां मनाई जाती हैं, वहीं दिवाली के दिन प्राचीन काल से एक और प्रथा चली आ रही है। ताश खेलने की प्रथा। दिवाली पर ताश खेलना बहुत ही शुभ माना जाता है। इस दिन धन, समृद्धि और समृद्धि की देवी लक्ष्मी की पूजा की जाती है। पटाखे चलाने के अलावा, ताश खेलना दिवाली पर मनोरंजन का सबसे अच्छा साधन है। अक्सर ताश खेलना लक्ष्मी पूजा के बाद शुरू होकर रात तक चलता है और इस मनोरंजन में पूरा परिवार हिस्सा लेता है। कहा जाता है कि जो भी दिवाली पर ताश खेलता है, धन की देवी लक्ष्मी उस पर अपनी कृपा बरसाती हैं। आइए जानें दिवाली में ताश खेलने के महत्त्व और मान्यता के बारे में -

क्या है मान्यता 

playing cards on diwali

दिवाली पर ताश खेलने की परंपरा के पीछे भी एक पौराणिक कथा प्रचलित है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन, देवी पार्वती ने भगवान शिव के साथ पासा खेला था और उन्होंने घोषणा की थी कि जो भी दिवाली की रात को ताश खेलेगा वह आगामी वर्ष में समृद्ध होगा। इस विशेष दिन पर मुख्य रूप से ताश खेलने को आज भी शगुन माना जाता है। माना जाता है कि दिवाली की रात में ताश खेलने और जीतने वाले व्यक्ति की कभी कहीं हार नहीं होती है और घर धन धान्य से पूर्ण हो जाता है।

Recommended Video

अन्य मान्यताएं 

कई लोग मानते हैं कि दीवाली पर ताश खेलने की परंपरा एक फसल उत्सव के हिस्से के रूप में शुरू हुई होगी। उनके अनुसार किसानों को उपज की बिक्री अच्छी होने की वजह से उनके पास पैसा होगा और उन्होंने जश्न के तौर पर ये प्रथा शुरू की होगी। प्राचीन काल से ही ताश और पासा जैसे खेल हमेशा लोकप्रिय थे और ऐसा प्रतीत होता है कि उन्हें दिवाली समारोह के हिस्से के रूप में शामिल किया गया होगा । 

लोगों की अलग हैं राय 

playing cards on diwali

दिवाली के दौरान ताश खेलने की परंपरा के बारे में राय विभाजित है। कई लोग इसके खिलाफ एक धार्मिक उत्सव में एक अनुचित गतिविधि के रूप में तर्क देते हैं। जबकि अन्य का मानना है कि यह छुट्टी के सामान्य आनंद का एक हिस्सा है और परिवार और दोस्तों की एकजुटता को बढ़ावा देने का एक अच्छा तरीका है। चूंकि, दिवाली को सूर्य के तुला राशि से गुजरने के रूप में मनाया जाता है, ताश खेलना संतुलन और संयम का अभ्यास करने का एक शुभ तरीका लगता है। आप भी अपने परिवार के साथ इसका आनंद उठा सकते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें:क्या आप जानते हैं धनतेरस में क्यों की जाती है बर्तनों की खरीदारी

कैसे खेला जाता है ताश 

playing cards on diwali occassion

ज्यादातर घरों में, लोग अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को भारतीय कार्ड गेम यानी कि ताश  खेलने के लिए आमंत्रित करते हैं। लोग मिल जुलकर ताश के साथ इस पर्व का भरपूर आनंद उठाते हैं। लेकिन ताश को सिर्फ एक खेल की तरह खेलने में ही समझदारी है। इसे कभी भी जुएं की तरह नहीं खेलना चाहिए। कई बार लोग इस शगुन की आड़ में जुआं खेलने लगते हैं और बड़े-बड़े दांव लगा देते हैं। लेकिन ऐसा करना त्यौहार का मज़ा किरकिरा करने जैसा ही है। इसलिए दिवाली के त्यौहार का भरपूर मज़ा उठाने के लिए ताश के खेल को सिर्फ शगुन ही रहने देने में भलाई है। इसे अपना शौक बनाकर पैसे लगाना लक्ष्मी को आमंत्रण देने के बजाय पैसे की बर्बादी मात्र होता है। 

इसे जरूर पढ़ें: Diwali 2020 : दिवाली के दिन धन प्राप्ति के लिए की जाती है कुबेर की पूजा, जानें इसका महत्त्व

अगर आप भी दिवाली में ताश खेलती हैं तो इसे सिर्फ मनोरंजन और शगुन की तरह एन्जॉय करें, जिससे दिवाली का मज़ा दोगुना हो जाए। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें। इसी तरह के अन्य रोचक लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit: Pinterest and free pik