दिल्ली में इन दिनों प्रदूषण का इतना कहर है कि सांस लेने के लिए सही हवा नहीं मिल रही। स्कूल बंद हैं, ऑफिसों में लोग बीमार पड़ रहे हैं, लोग सड़कों पर मास्क लगाकर घूम रहे हैं। इतना ही नहीं सुप्रीम कोर्ट ने भी सरकारों को फटकार लगानी शुरू कर दी है कि आखिर कब तक लोग सांस लेने से भी मोहताज रहेंगे। ये आलम इतना भयानक है कि लोगों को साफ ऑक्सीजन की कमी हो गई है। ऐसे में दिल्ली का एक ऑक्सीजन बार लोगों के लिए राहत की सांस बनकर आया है।  

ये एक आम बार की तरह है बस यहां शराब नहीं बल्कि ऑक्सीजन दिया जाता है। शुरुआत में जब आर्यवीर कुमार ने इस बार को खोला था तब उन्होंने ये नहीं सोचा था कि इसका इस्तेमाल ऐसे होगा। ये ऑक्सीजन बार उन्होंने मई में खोला था जो जेट लैग, नींद की समस्या, हैंगओवर यही नहीं डिप्रेशन के मरीज़ों के लिए भी फायदेमंद साबित होगा, लेकिन दिल्ली के लोगों को इसका कॉन्सेप्ट उतना समझ नहीं आया। फिर अक्टूबर में शुरू हुई प्रदूषण की समस्या। अब लोग इस ऑक्सीजन बार को लेकर बहुत ही ज्यादा उत्साहित हैं।  

delhi pollution level today live

इसे जरूर पढ़ें- अमेरिकी सिंगर केटी पेरी के लिए करण जौहर ने दी शानदार पार्टी, ऐश्वर्या से अनन्या तक ये सब थे शामिल 

कितनी कीमत में मिलेगा साफ ऑक्सीजन-  

दिल्ली में साफ ऑक्सीजन के लिए आपको 299 से 499 रुपए तक चुकाने पड़ सकते हैं। ये कीमत 15 मिनट के साफ ऑक्सीजन की है। ये ऑक्सीजन कई तरह की फ्रेग्रेंस के साथ दिया जाएगा जो आपको रिलैक्स होने में मदद करेगा। दिल्ली के सिलेक्ट सिटी वॉक मॉल में खुला ये ऑक्सीजन बार प्रदूषण से परेशान लोगों के लिए काफी फायदेमंद साबित हो रहा है।  

delhi pollution

यही नहीं अब जल्द ही इसकी एक ब्रांच दिल्ली एयरपोर्ट के टर्मिनल 3 पर भी लग सकती है।  

कैसे करता है काम? 

इसे इस्तेमाल करने के लिए यूजर्स ऑक्सीजन स्ट्रैप ट्यूब (जिसे कैनूला कहा जाता है) उसे अपने एक नाक के ऊपर लगाया जाता है और कस्टमर के लिए उनकी पसंद की खुशबू के साथ ऑक्सीजन का संचार शुरू हो जाता है। इसमें पिपरमेंट, ऑरेंज, सिनमन, यूकालिप्टिस, लैवेंडर, स्पियरमिंट या लेमनग्रास जैसी खुशबू मौजूद है। जो हवा अंदर ली जाती है वो एक मशीन के जरिए पैदा की जाती है। ये मशीन आस-पास की हवा को प्यूरिफाई कर यूजर्स को देती है। 

new delhi pollution

क्या इससे ठीक होती है कोई बीमारी? 

जो थेरापी दी जाती है वो सिर्फ 15 मिनट के लिए होती है और ये किसी भी तरह की कोई बीमारी ठीक करने का दावा नहीं करती है। बस साफ हवा वैसे भी कई समस्याओं जैसे डिप्रेशन की समस्या को कम करती है इसलिए लोग इसे अच्छा मान सकते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें- बच्चे के बाद ऐसे बदल गई सानिया की जिंदगी, खुद उनसे जानिए क्या है उनकी फिटनेस का राज़

इस्तेमाल करने पर कैसा लगता है?

दावा किया जा रहा है कि ये न सिर्फ लंग्स के लिए अच्छा है बल्कि ये हैंगओवर के लिए भी अच्छा हो सकता है। इतना ही नहीं ट्यूब वाले ऑक्सीजन के साथ-साथ लोग बॉटल में बंद ऑक्सीजन भी खरीद रहे हैं। दरअसल, Oxy Pure कंपनी का पैकेज्ड ऑक्सीजन भी है जो बॉटल में मिलता है। इसके ऊपर एक इन्हेलर लगा होता है जिससे आप ऑक्सीजन अपने मुंह के अंदर ले सकती हैं। 

न सिर्फ ये बल्कि एयर प्यूरीफायर मार्केट भी काफी ज्यादा बढ़ गया है और एक स्टडी के मुताबिक 2023 तक ये मार्केट 39 मिलियन डॉलर का हो जाएगा। अब खुद ही सोच लीजिए कि भारत में प्रदूषण का खतरा कितना बड़ा व्यवसाय बनकर सामने आया है।