लोग अक्‍सर मंदिर में जाकर अपने और अपने परिवार की स्‍वस्‍थ और सुखी जीवन के लिए प्रार्थना करते हैं। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि एक ऐसा मंदिर भी है जहां लोग अपने लिए विदेश जाने के लिए वीजा दिलाने की प्रार्थना करने के लिए आते हैं। शायद आपको हमारी यह बात थोड़ी अटपटी लग रही होगी लेकिन ऐसा होता है। विदेश जाने के लिए दो चीजों यानि पहला पासपोर्ट और दूसरा वीजा का होना बेहद जरुरी है। पासपोर्ट बनना तो फिर भी आसान है लेकिन वीजा मिलना टेढ़ी खीर की तरह होता है।

अगर आपको भी कई महीनों से वीजा नहीं मिल रहा है तो आप परेशान ना हो बल्कि आन्ध्र प्रदेश स्थित चिल्कुर बालाजी के दर्शन कर आइये। ऐसी मान्यता है कि इस मंदिर में दर्शन करने और चढ़ावा चढाने से कुछ ही हफ्तों में वीजा मिल जाता है। जी हां यह मंदिर विशेष रूप से अमेरिकी वीजा को मंजूरी देने में मदद करने के लिए फेमस है। इस मंदिर को फेमस 'वीजा बालाजी मंदिर' के रूप में भी जाना जाता है।

इसे जरूर पढ़ें: तो इसलिए वैष्णों देवी में हजारों लोग आते हैं अपनी मुरादें लेकर

visa temple society inside

कैसे हुआ फेमस?

माना जाता है कि 1980 के दशक के आस-पास जब भारत में आईटी कल्‍चर विकसित हो रहा था, तब कुछ छात्रों ने इस मंदिर में अपने यूएस वीजा प्राप्त करने के लिए प्रार्थना की, जिसे चेन्नई यूएस वीजा वाणिज्य दूतावास ने अस्वीकार कर दिया था और उनकी प्रार्थना ने काम किया। तब से, यह मंदिर लोगों की वीजा इच्छाओं को देने में फेमस हो गया।



हालांकि, सिर्फ मंदिर में जाना और प्रार्थना करना पर्याप्‍त नहीं होता है। आपको अपनी इच्छाओं को प्रभु तक पहुंचाने के लिए एक प्रक्रिया से गुजरना होगा। आपको अपने पासपोर्ट के साथ मंदिर में जाना होगा और मंदिर के पुजारियों द्वारा मंत्रों का जाप करते हुए गर्भगृह के चारों ओर 11 परिक्रमाएं करनी होगीं। और, आपकी इच्छा पूरी होने के बाद आपको मंदिर में फिर से जाना होगा और 108 परिक्रमा करके भगवान का आभार व्यक्त करना होगा।

इसे जरूर पढ़ें: अगर जम्मू जाएं तो इस मंदिर जरूर जाएं जहां 33 करोड़ देवी-देवता करते हैं वास

visa temple society inside

हवाई जहाज का चढ़ावा

यह मंदिर तेलंगाना में हैदराबाद की सीमा से लगभग 40 किलोमीटर दूर स्थित है, जिसे चिल्कुर बालाजी के मंदिर के नाम से जाना जाता है। लोगों का मानना है कि वीजा के लिए दूतावास के चक्कर लगाने से अच्छा है कि चिल्कुर बालाजी मंदिर के चक्कर और हवाई जहाज का चढ़ावा चढ़ाया जाए। इससे वीजा मिलना आसान हो जाता है।   



यह प्राचीन मंदिर लगभग 500 साला पुराना है। कुछ सालों पहले तक लोग यहां नौकरी की मन्‍नतें लेकर भी आते थे और उनकी मनोकामना जल्दी पूरी हो जाती थी।