कहा जाता है कि किसी व्यक्ति की मदद करना दुनिया में सबसे बड़ा काम है। इस काम को हर व्यक्ति नहीं कर सकता है। कुछ ऐसे भी लोग हैं, जो अपनी सारी परेशानी छोड़कर लोगों की मदद करने के लिए तैयार रहते हैं। ऐसे लोगों को भगवान का दूसरा रूप भी कहा जाता है। आज हम आपको उन लोगों के बारे में बताएंगे जिन्होनें अपनी दरियादिली दिखाई और लोगों की मदद की। आइए जानते हैं इन लोगों के बारे में। 

पपिया कर

examples of kindness

अक्सर शादी में काफी मात्रा में खाना बच जाता है। जिसे ज्यादातर लोग फेंक देते हैं। ऐसे में कोलकाता में रहने वाली पपिया कर ने एक नया उदाहरण पेश किया है। पपिया कर के भाई के रिसेप्शन  का खाना बच गया था, लेकिन उस खाने को फेंकने की बजाय यह महिला देर रात को रानाघाट स्टेशन पर जरूरत मंदो को बांटती हुई नजर आई। 

ऑक्सीजन यूनिट के लिए दंपत्ति ने बेची ज्वेलरी

kindness act story

योगेश और सुमेधा चितले ने सियाचिन बेस अस्पताल के 20, 000 सैनिकों के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन देने के लिए लिए अपने पूरे परिवार के गहने बेच दिए थे। इन गहनों की कीमत करीब 1.25 करोड़ थी। उन्हीं की मदद से सियाचिन पर मौजूद सैनिकों को ऑक्सीजन प्लांट मिला। जिसके चलते उन्हें प्रधानमंत्री मोदी द्वारा सम्मानित भी किया गया। 

इसे भी पढ़ें: रोजा के दौरान घंटों भूखे-प्यासे रहकर करती रहीं मरीज़ों की सेवा, बीमार मां को छोड़कर करती हैं ड्यूटी

बाढ़ के दौरान भी नर्स ने किया कोविड मरीजों का इलाज

kindness examples

गुजरात की रहने वाली भानुमति घीवला एक नर्स है। गुजरात के वडोदरा के सर सयाजीराव जनरल अस्पताल में नर्स हैं। भानुमति घीवला ने बाढ़ के दौरान कोविड से पीड़ित गर्भवती महिलाओं की डिलवरी कराई। उनके इन प्रयासों और दूसरों की मददकरने के चलते उन्हें फ्लोरेंस नाइटिंगेल अवार्ड  से सम्मानित किया गया है।  

राधिका राजे ने की बेरोजगार लोगों की मदद

radhika raje

राधिका राजे गुजरात के शाही परिवार से तालुक्क रखती हैं। इन्होनें कोरोना काल के दौरान कई बेरोजगार लोगों की मदद की। साथ ही राधिका ने कोरोना काल में जिन छोटे स्तर के कारीगरों ने अपनी नौकरी खो दी उनका भी सहारा बनी। राधिका राजे ने कोरोना काल के दौरान 700 से अधिक परिवारों की मदद की। 

इसे भी पढ़ें: गुजरात में बाढ़ के बीच भी ये नर्स करती रहीं कोविड मरीजों का इलाज, फ्लोरेंस नाइटिंगेल अवार्ड से होंगी सम्मानित

8 घंटे तक भूखे-प्यासे रहकर मरीजों की सेवा

zeba chokhawala

अहमदाबाद के सिविल अस्पताल की स्टाफ नर्स जेबा चोखावाला ने कोराना काल के दौरान 8 घंटे तक भूखे- प्यासे रहकर कोरोना के मरीजों की सेवा की। वह 1200 वाले कोविड अस्पताल में 8 घंटे काम करती थी। जिस वक्त उनकी ड्यूटी लगाई गई थी उस समय रोज़े चल रहे थे। सिर्फ इतना ही नहीं वह अपनी कैंसर से पीड़ित बीमार मां को छोड़ मरीजों की सेवा में लगी रहती थी। 

10 रूपये में इलाज करने वाली महिला डॉक्टर

noori parveen

डॉ नूरी परवीन आंध्र प्रदेश के कडप्पा जिले में रहती हैं। वह केवल 10 रूपये में लोगों का इलाज करती हैं। वे आर्थिक रूप से कमजोर और बीमार लोगों की मदद करती हैं। उन्होनें इलाज की फीस केवल दस रूपये इसलिए रखी है ताकि आर्थिक रूप से कमजोर लोग आसानी से अपना इलाज करवा सकें। 

उम्मीद है कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। इसी तरह के अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए हमें कमेंट कर जरूर बताएं और जुड़े रहें हमारी वेबसाइट हरजिंदगी के साथ