हमारे देश की महिलाओं ने न सिर्फ शिक्षा और कारोबार में अपना परचम बुलंद किया है बल्कि खेल के क्षेत्र में भी अपनी विशेष छवि बनाई है। इसी का जीता जागता उदाहरण हैं टोक्यो ओलंपिक्स 2021 में विभिन्न खेलों में शामिल होने वाली विभिन्न महिलाएं। आपको बता दें, टोक्यो ओलंपिक्स 2021, 23 , जुलाई , शुक्रवार से आरम्भ होने वाला है और इसमें हर एक खेलों की अलग टीम का गठन कर दिया गया है। 

इस बार टोक्यो ओलंपिक्स में भारत की तरफ से विभिन्न खेलों में हिस्सा लेने वाले लोगों की कुल संख्या 127 है जिसमें से 56 महिलाएं हैं। ओलंपिक्स खेलों की सूचि में से एक खेल है शूटिंग जो वास्तव में एक कठिन खेल है लेकिन इसमें हिस्सा लेने वाली भारतीय महिला हैं अंजुम मुदगिल। ये न सिर्फ शूटिंग में कई बार विश्व चैम्पियनशिप जीत चुकी हैं, बल्कि विभिन्न खेलों के बीच अपनी विशेष पहचान भी रखती हैं। आइए जानें कौन हैं अंजुम मुदगिल और उनके जीवन से जुड़ी कुछ ख़ास बातों के बारे में। 

अंजुम मुदगिल का प्रारंभिक जीवन 

anjum moudgil early life

अंजुम मुदगिल का जन्म 5 जनवरी1994 को चंडीगढ़ में हुआ था। अंजुम ने चंडीगढ़ के सेक्रेड हार्ट सीनियर सेकेंडरी स्कूल में पढ़ाई के दौरान शूटिंग करनी शुरू कर दी थी। उन्होंने डीएवी कॉलेज, चंडीगढ़ से आर्ट्स में स्नातक और स्पोर्ट्स साइकोलॉजी में मास्टर्स पूरा किया। 27 साल की छोटी सी उम्र तक ही वह एक उत्साही शूटर के रूप में उभरकर सामने आईं और कई प्रतियोगिताओं में न सिर्फ हिस्सा लिए बल्कि कई खिताब भी जीते।

इसे जरूर पढ़ें:मिलिए 25 साल की नवनीत कौर से, भारत को ओलंपिक में जीत दिलाने का है जज्बा

अंजुम मुदगिल की उपलब्धियां 

  • उन्होंने 2016 विश्व कप, म्यूनिख में 9 वां स्थान और विश्व विश्वविद्यालय चैम्पियनशिप में रजत पदक प्राप्त किया। उसने दक्षिण एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक भी जीता।
  • साल 2017 में उन्होंने 10 मीटर एयर राइफल सरदार सज्जन सिंह सेठी मेमोरियल मास्टर्स में रजत पदक जीता।
  • साल 2018 में उन्होंने मेक्सिको में आईएसएसएफ विश्व कप में महिलाओं की 50 मीटर राइफल थ्री पोजीशन स्पर्धा में रजत पदक जीता और राष्ट्रमंडल खेलों में उन्होंने 455.7 अंक हासिल करते हुए रजत पदक हासिल किया। 
  • 1 मई 2019 को अंजुम ने महिलाओं की 10 मीटर एयर राइफल आईएसएसएफ रैंकिंग में दुनिया में नंबर 2 स्थान का प्राप्त कर वह महिलाओं की 50 मीटर 3पी में भारत की नंबर 1 शूटर के रूप में सामने आईं। 
  • अंजुम मुदगिल, अर्जुन पुरस्कार, वर्ष 2019 के लिए चयन समिति द्वारा चुने गए 19 एथलीटों में से एक हैं।

Recommended Video

टोक्यो ओलंपिक में बनाई अपनी जगह 

anjum moudgil achievements and biography

दक्षिण कोरिया के चांगवोन में आयोजित इंटरनेशनल शूटिंग स्पोर्ट फेडरेशन विश्व चैंपियनशिप 2018 में 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा में रजत पदक जीतने के बाद अंजुम मुदगिल, भारत के लिए टोक्यो ओलंपिक में अपनी जगह बनाने वाली पहली महिला शूटर बन गई हैं। अंजुम ने टोक्यो ओलंपिक के लिए भारत का पहला शूटिंग कोटा जीता और आईएसएसएफ विश्व कप के शुरुआती दिन महिलाओं की 10 मीटर एयर राइफल फाइनल के लिए क्वालीफाई हुई हैं। शूटिंग में उनकी पूरे विश्व में रैंकिंग 3 है। 

इसे जरूर पढ़ें:गरीबी में गुजरा पूरा बचपन, कड़ी मेहनत कर अब टोक्यो ओलंपिक में देश का प्रतिनिधित्व करेंगी रेवती वीरामनी

इतनी कम उम्र में इतना बड़ा मुकाम हासिल करने वाली अंजुम मुदगिल वास्तव में देश की महिलाओं के लिए प्रेरणा स्रोत हैं और हम सभी को उनकी उपलब्धियों पर गर्व करना चाहिए। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: wikipedia