फ्लाइट लेफ्टिनेंट भावना कंठ मंगलवार को दिल्ली के राजपथ पर गणतंत्र दिवस परेड में भारतीय वायु सेना (IAF) की झांकी में हिस्सा लेने वाली पहली महिला फाइटर पायलट बन गयी हैं। भारतीय वायुसेना की झांकी में हल्के लड़ाकू विमान, हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर और सुखोई -30 लड़ाकू विमान का मॉक-अप दिखाया गया।

भावना कंठ नवंबर 2017 में लड़ाकू स्क्वाड्रन में शामिल हो गईं थीं और मार्च 2018 में मिग -21 बाइसन पर उन्होंने पहला एकल फाइटर विमान उड़ाया। वप वर्तमान में राजस्थान के एक एयरबेस में तैनात है जहां वह मिग -21 बाइसन लड़ाकू विमान उड़ाती हैं। आइए जानें कौन हैं भावना कंठ और उनका अब तक का सफर।

प्रारंभिक शिक्षा और फैमिली 

bhawana kanth

भावना मूल रूप से बिहार की निवासी हैं। भावना के पिता बेगुसराय में इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन में काम करते थे, इसलिए भावना की स्कूलिंग बेगुसराय से हुई। उन्होंने बेंगलुरु के बीएमएस कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग से इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की। साल 2015 जनवरी को वायुसेना में फ्लाइंग ऑफिसर के पद पर भावना की नियुक्ति की गई। फ्लाइंग ऑफिसर के तौर पर उनका चयन साल 2016 के 18 जून को हुआ। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली पुलिस की जांबाज सिपाही सीमा ढाका को 76 लापता बच्चों का पता लगाने के लिए मिला प्रमोशन

परेड में शामिल पहली महिला फाइटर पायलट 

फ्लाइट लेफ्टिनेंट भावना कंठ मंगलवार को दिल्ली के राजपथ पर गणतंत्र दिवस परेड में भारतीय वायु सेना (IAF) की झांकी में हिस्सा लेने वाली पहली महिला फाइटर पायलट बन गई हैं। परेड में भारतीय वायुसेना की झांकी में हल्के लड़ाकू विमान, हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर और सुखोई -30 लड़ाकू विमान का मॉक-अप दिखाया गया था। जिसमें भारतीय वायुसेना की तरफ से निकाली जाने वाली झांकी की थीम मेक इन इंडिया रखी गई थी। 

2016 में वायुसेना में हुईं शामिल 

bhawana kanth story

भावना कंठ जो कि भारतीय वायुसेना में पहली महिला लड़ाकू पायलटों में से एक हैं। उन्हें साल 2016 में अवनी चतुर्वेदी और मोहना सिंह के साथ भारतीय वायुसेना में शामिल किया गया था। भावना ने नवंबर 2017 में फाइटर स्क्वॉड्रन को जॉइन किया और उन्होंने मार्च 2018 में अकेले फाइटर एयरक्राफ्ट मिग-21 को सफलतापूर्वक उड़ाया।  ये उड़ान उनकी पहली उड़ान थी जो उन्होंने अकेले ही की थी। उनकी उम्र 28 साल है और वो भारतीय वायुसेना में पहली महिला लड़ाकू पायलटों में से एक हैं जिन्होंने इस साल की गणतंत्र दिवस की परेड में हिस्सा लिया। 

Recommended Video

राजस्थान में हैं कार्यरत 

भावना मूल रूप से बिहार की निवासी हैं और वर्तमान में राजस्थान में कार्यरत हैं।  यहां वह मिग-21 बाइसन जेट उड़ाती हैं जिसमें एक्सपेरिमेंट के तौर पर वायुसेना की फाइटर स्ट्रीम में महिलाओं को लेने का फैसला किया गया था। 

भारत में उड़ाया मिग-21 एयरक्राफ्ट 

fighter piolet bhawana

अवनी चतुर्वेदी और मोहना सिंह के साथ, उन्हें 2016 में पहली महिला फाइटर पायलट के रूप में भारतीय वायुसेना में शामिल किया गया। क्लास फर्स्ट की ट्रेनिंग के बाद, भावना को लड़ाकू स्ट्रीम चुनने का मौका मिला था। साल 2018-2019 में तीनों महिला फाइटर पायलट्स ने पहली बार भारत के आसमान में मिग-21 एयरक्राफ्ट को उड़ाया। मार्च 2020 में भावना, अवनी और मोहना तीनों को नारी शक्ति पुरुस्कार से सम्मानित किया गया था। 

गणतंत्र दिवस की झांकी में शमिल 

वायु सेना की टुकड़ी, जिसमें 96 एयरमैन और चार अधिकारी शामिल थे उसका नेतृत्व फ्लाइट लेफ्टिनेंट तनिक शर्मा कर रहे थे। इसके बाद वायु सेना की झांकी का शीर्षक भारतीय वायु सेना- टच द स्काई विथ ग्लोरी था, जिसमें हल्के लड़ाकू विमान, हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर, एसयू -30 एमके-आई विमान और रोहिणी राडार पर आसमानी नीले रंग की पृष्ठभूमि के साथ स्केल-डाउन मॉडल दिखाए गए थे। अपने फ्लाइंग ओवरों में चालाकी से भागे अधिकारी मॉडल के साथ खड़े थे। वायु योद्धाओं को 12 में 8 गठन द्वारा देखा गया था।

राफेल और सुखोई उड़ाने का शौक 

एक साक्षात्कार के दौरान भावना ने कहा था कि वो दूसरे फाइटर जेट भी उड़ाती हैं। उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें राफेल और सुखोई वॉर उड़ाना भी काफी पंसद है। भावना ने ये भी बताया कि उन्हें कई बार फाइटर जेट विमानों को उड़ाने का मौका मिला है। 

इसे भी पढ़ें: एयर इंडिया की फ्लाइट जिसमें सभी क्रू मेंबर्स महिलाएं हैं ने सबसे लंबे रूट की दूरी तय करके रचा इतिहास

भावना कंठ वास्तव में हम सभी के लिए प्रेरणास्रोत हैं और उनसे हर एक महिला को इंस्पिरेशन लेना चाहिए ,क्योंकि कोई भी काम मुश्किल हो सकता है नामुमकिन नहीं। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।