महिलाएं अगर ठान लें तो भला क्या नहीं कर सकती हैं। कुछ ऐसा ही उदाहरण प्रस्तुत किया है एयर इंडिया की 4 महिला पायलटों की एक टीम ने। जी हां एयर इंडिया की 4 महिला  पायलटों की एक टीम ने दुनिया के सबसे लंबे हवाई मार्ग नॉर्थ पोल पर उड़ान भर कर दुनिया के लिए एक नया इतिहास रच दिया है।

न्यूज़ एजेंसी ANI के अनुसार रविवार 10 जनवरी को अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को से उड़ान भरने के बाद महिला पायलटों की यह टीम नॉर्थ पोल से होते हुए बेंगलुरु के केम्पेगौड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुंची। इस सफर के दौरान करीब 16,000 किलोमीटर की दूरी तय की गई।

महिला पायलटों का हुआ स्वागत 

all women crew flight

फ्लाइट के भारत में लैंड करते ही एयर इंडिया ने इन महिला अचीवर्स का स्वागत किया और अपने ट्विटर में इनके बारे में बहुत से कमैंट्स भी किए। एयर इंडिया ने ट्वीट करते हुए कहा  'वेलकम होम, हमें आप सभी महिला पायलटों पर गर्व है। हम AI176 के यात्रियों को भी बधाई देते हैं, जो इस ऐतिहासिक सफर का हिस्सा बने।'  इस विमान को पूरी तरह से महिला पायलट ही चला रही थीं, जिनमें कैप्टन जोया अग्रवाल,  कैप्टन पापागरी तनमई, कैप्टन शिवानी और कैप्टन आकांक्षा सोनवरे शामिल थीं। इस विमान की मुख्य पायलट कैप्टन जोया अग्रवाल थीं और वही विमान को लीड कर रही थीं । 

जोया अग्रवाल थीं मुख्य कप्तान

joya aggarwal 

इस विमान में चार महिला पायलटों में से जोया अग्रवाल मुख्य कप्तान थीं जो विमान का संचालन कर रही थीं।  बेंगलुरु एयरपोर्ट पर लैंडिंग के बाद कैप्टन जोया अग्रवाल ने कहा, आज हमने न केवल उत्तरी ध्रुव पर उड़ान भरकर, बल्कि सभी क्रू मेंबर्स महिलाओं के द्वारा इसे सफलतापूर्वक करके एक विश्व इतिहास रचा है। वास्तव में उन्हें इस विमान यात्रा का संचालन करने में बेहद ख़ुशी का अनुभव हुआ और वो महिलाओं पर गर्व महसूस कर रही हैं। हालांकि यह पहला रिकॉर्ड नहीं है कि जोया अग्रवाल ने उनके नाम पर यह दर्ज किया है। 2013 में वह बोइंग -777 उड़ाने वाली सबसे कम उम्र की महिला का रिकॉर्ड भी दर्ज कर चुकी हैं।

नॉन स्टॉप 17 घंटे की दूरी 

longest route

एयर इंडिया की सभी महिला पायलट टीम ने सैन फ्रांसिस्को से बेंगलुरु के लिए 17 घंटे की नॉन स्टॉप दूरी तय की जो वास्तव में सभी के लिए प्रेरणाप्रद है। कैप्टन जोया अग्रवाल, कैप्टन पापागरी थनमई, कैप्टन आकांशा सोनवरे और कैप्टन शिवानी मन्हास बोइंग 777-200LR विमान पर 16,000 किलोमीटर की दूरी तय की। एयर इंडिया की सैन फ्रांसिस्को-बेंगलुरु की उद्घाटन फ्लाइट का संचालन करने वाली टीम में से एक पायलट शिवानी ने कहा कि यह एक रोमांचक अनुभव था, क्योंकि ऐसा पहले कभी नहीं हुआ था। यहां पहुंचने में लगभग 17 घंटे लग गए। बता दें कि जब यह विमान सैन फ्रांसिस्को से चला था, उसके बाद से ही इसकी हर लोकेशन की जानकारी खुद एयर इंडिया अपने ट्विटर हैंडल से समय-समय पर दे रहा था। इतना ही नहीं, सिविल एविएशन मिनिस्टर हरदीप पुरी ने भी इसे लेकर ट्वीट किया।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें। इसी तरह के अन्य रोचक लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit: twitter