महिलाएं अब किसी भी क्षेत्र में पुरुषों से कम नहीं है। जिस तरह वह पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर प्रगति की ओर बढ़ रही हैं ये समाज के लिए सराहना और गर्व की बात है। बता दें कि अब भारतीय सेना के पास जल्द ही महिला पायलट होंगी जो बॉर्डर के पास ऑपरेशन्स में हिस्सा लेंगी। इसके लिए दो महिला ऑर्मी ऑफिसर्स को सेलेक्ट कर लिया गया है और उन्हें इसके लिए ट्रेनिंग भी दी जाएगी। आर्मी चीफ जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने महिला अधिकारियों को आर्मी एविएशन शाखा में चयन करने की अनुमति देने के प्रस्ताव को मंजूरी दी है।

अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि इसके लिए दो महिला अधिकारियों को पहली बार महाराष्ट्र के नासिक में बल के प्रमुख कॉम्बैट एविएशन ट्रेनिंग स्कूल में हेलीकॉप्टर पायलट के रूप में ट्रेनिंग के लिए चुना गया है।  

इन दो महिलाओं ने पास की (PABT) टेस्ट

pilot

47 आर्मी ऑफिसर्स में इन दो महिलाओं को भी शामिल किया गया है, जो इस समय नासिक प्रशिक्षण स्कूल में ट्रेनिंग ले रही हैं। यह बैच अपनी ट्रेनिंग जुलाई 2022 में पूरी कर लेगा, जिसके बाद इन्हें फ्रंटलाइन फ्लाइंग ड्यूटी में शामिल किया जाएगा। इस बैच में शामिल 15 महिला अधिकारियों ने स्वेच्छा से आर्मी एविएशन में शामिल होने की इच्छा जताई थी, लेकिन इन दो महिलाओं का चयन पायलट एप्टीट्यूड बैटरी टेस्ट (PABT) और मेडिकल पास करने के बाद हुआ है। ख़ास बात यह कि अब तक आर्मी एविएशन कॉर्प्स में केवल पुरुष अधिकारियों को ही शामिल किया जाता था, लेकिन अब महिलाएं भी इसमें शामिल होंगी। बता दें कि कुछ महीने पहले ही सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने एक प्रस्ताव को मंजूरी दी थी जिसमें महिला अधिकारियों को आर्मी एविएशन विंग का चयन करने की अनुमति दी गई थी। वहीं सिविल डिफेंस (महाराष्ट्र) की डिप्टी कंट्रोलर और पूर्व लेफ्टिनेंट कमांडर राजेश्वरी कोरी ने कहा कि ''सशस्त्र बलों को महिलाओं के लिए नए रास्ते खोलते देखना वाकई अद्भुत है''। बता दें कि राजेश्वरी कोरी 1997 में युद्धपोतों पर महिलाओं को तैनात करने के लिए एक अल्पकालिक इंडियन नेवी एक्सपेरिमेंट का हिस्सा रहीं थीं।

इसे भी पढ़ें: Sonali Mehndi Artist: मुंबई के जुहू बीच से इंस्‍टाग्राम तक का सफर, कुछ यूं किया तय

भारत के पास पहले से हैं कई महिला पायलट

नेवी में महिलाएं डोर्नियर विमान उड़ा रही हैं, इसके अलावा इंडियन एयरफोर्स के पास 10 फाइटर पायलट हैं। यही नहीं इंडियन एयरफोर्स में 111 महिला पायलट भी हैं जो परिवहन विमानों और हेलीकॉप्टरों को उड़ा रही हैं। अब इस लिस्ट में इन महिलाओं का भी नाम जुड़ने जा रहा है। बता दें कि आर्मी एविएशन कॉर्प्स में वो हेलीकॉप्टर शामिल हैं, जो संघर्ष और शांति क्षेत्रों में उड़ान भरते हैं। वाकई ये ख़बर महिलाओं को प्रोत्साहित करने वाली है। वहीं जनवरी में महिलाओं के लिए इस प्रस्ताव को मंजूरी देते समय जनरल नरवणे ने कहा था कि अभी तक सेना की फ्लाइंग ब्रांच में महिलाओं को केवल ग्राउंड और एयर ट्रैफिक कंट्रोल ड्यूटी पर लगाया जाता था, लेकिन आने वाले समय में महिला पायलट भी सेना के विमान को उड़ाएंगी।

इसे भी पढ़ें: बिहार की रजिया सुल्ताना बनीं पहली मुस्लिम महिला DSP, जानें कैसे पहले ही प्रयास में मिली सफलता

Recommended Video

83 महिला सैनिकों का पहला बैच

women soldiers

पिछले महीने ही सेना ने महिलाओं के लिए बड़ा कदम उठाया था। जिसमें 83 महिलाओं की सैनिकों के पदों पर भर्ती की गयी थी। इन महिला सैनिकों को बैंगलुरू के कोर ऑफ मिलिट्री पुलिस में 61 हफ़्ते तक कड़ी ट्रेनिंग दी गई थी। महिला सैनिकों के इस पहले बैच की ट्रेनिंग 2 जनवरी 2020 को शुरू हुई थी। जिसमें 19 हफ़्ते तक बुनियादी मिलिट्री ट्रेनिंग और फिर आधुनिक मिलिट्री-पुलिस ट्रेनिंग दी गई। इसके बाद उन्हें पुलिसिंग ड्यूटी, युद्धबंदियों के प्रबंधन के साथ-साथ सिग्नल कम्युनिकेशन, वाहनों के मेंटेनेंस आदि की भी ट्रेनिंग दी गई।

अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।