हमारे देश में कई ऐसे लोग हैं जो दूसरों के लिए उदाहरण प्रस्तुत करते हैं। खासतौर पर महिलाऐं अपने प्रयासों से सबके सामने प्रगति का परचम लहराती हैं। अपने काम के प्रति सजग और कर्तव्यनिष्ठ महिलाएं सभी को प्रेरित करती हैं। एक ऐसा ही कर्तव्य निष्ठां का उदाहरण सोशल मीडिया में तेजी से वायरल वीडियो में देखने को मिल रहा है। इस वीडियो में चंडीगढ़ की ट्रैफिक सिपाही अपनी ड्यूटी करते हुए बच्चे को गोद में ले हुए दिख रही है। जानें क्या है पूरी खबर। 

वीडियो हुई वायरल 

यातायात पुलिस अधिकारी, प्रियंका का एक वीडियो शुक्रवार को सोशल मीडिया पर वायरल हो गया, जिसे हजारों लाइक, रीट्वीट और कमेंट मिले हैं। एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार वीडियो क्लिप, जिसे सेक्टर 15/23 के गोलघर के पास एक स्थानीय निवासी द्वारा सुबह 11 बजे शूट किया गया था, ने सोशल मीडिया पर खूब प्रसंशा बटोरी है। इस पर लोगों ने मिले जुले कमेंट किए, जहां कई लोगों ने अपने कर्तव्य के प्रति महिला कांस्टेबल के समर्पण की प्रशंसा की, वहीं कुछ ने उन्हें अपने बच्चे को घर पर रखने की सलाह दी।

बच्चे को गोद में लिए हुए 

traffic police chandigarh

चंडीगढ़ की महिला ट्रैफिक सिपाही की ड्यूटी करते हुए उसका एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। वीडियो में महिला पुलिस कर्मी  को अपने बच्चे को अपने हाथों में पकड़े हुए यातायात को नियंत्रित करते हुए देखा जा सकता है। उनके स्टाफ ने चंडीगढ़ ट्रैफिक सिपाही से पूछा था कि क्या वह घर जाना चाहती हैं, लेकिन महिला सिपाही ने अपनी ड्यूटी निभाई।

इसे जरूर पढ़ें:जागरण न्यू मीडिया की हेल्थ एंड लाइफस्टाइल हेड मेघा मामगेन को मिला Best Business Head In Media Sector अवार्ड

कर्तव्यनिष्ठा की उदाहरण 

वास्तव में ये महिला ट्रैफिक कर्मचारी कर्तव्यनिष्ठा की एक ख़ास उदाहरण हैं। हो सकता है कई लोगों को उनका ऐसा करना गलत लगे क्योंकि लोगों के अनुसार बच्चे को ऐसे भीड़ में ले जाना ठीक नहीं है। लेकिन वास्तव में ये महिला पुलिस कर्मी हम सभी को अपने कर्तव्य के प्रति सजग होने पर मजबूर करती हैं। 

ड्यूटी को दी प्राथमिकता 

duty on priority

स्टाफ ने चंडीगढ़ ट्रैफिक सिपाही से पूछा था कि क्या वह घर जाना चाहती हैं , लेकिन सिपाही ने अपनी ड्यूटी निभाई। यह स्थिति उनके लिए ज्यादा परिश्रम से भरी है। वास्तव में कर्तव्यनिष्ठ ट्रैफिक पुलिस की प्रतिबद्धता की भी प्रशंसा की जानी चाहिए। 

इसे जरूर पढ़ें:Women's Day 2021: दिल्ली पुलिस की जांबाज सिपाही सीमा ढाका को आउट ऑफ़ द टर्न प्रमोशन

कठिन है यह ड्यूटी 

वास्तव में पूरे दिन एक बच्चे साथ ड्यूटी निभाना आसान नहीं है, वह भी सूरज के नीचे और अपने हाथों पर एक और कोर के साथ। आप इसे किसी ऐसे व्यक्ति से पूछें जिसने बच्चे के बड़े होने तक ऐसा किया हो। वास्तव में महिलाएं इस ट्रैफिक पुलिस की प्रसंशा कर रही हैं क्योंकि वो बच्चे को पालने के अनुभव से गुजर चुकी हैं।

वास्तव में एक महिला की अपनी ड्यूटी के लिए ऐसी निष्ठा सराहनीय है। उसके इस कदम से हम सभी को प्रेरणा लेनी चाहिए। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit:tweet SACHIN KAUSHIK@upcopsachin