मधुबाला की आंखों की पूरी दुनिया दीवानी थी और हेलेन के फिगर के चर्चे चारों तरफ हुआ करते थे लेकिन इस एक्ट्रेस के पास ना हो मधुबाला जैसी आंखें थीं और ना ही हेलेन जैसा फिगर था। इसके बावजूद भी इस एक्ट्रेस ने लाखों दिलों पर राज किया और वो भी अपने फैंस को हंसा-हंसाकर। 

हम यहां उमा देवी की बात कर रहे हैं मतलब आपको जमकर हंसाने वाली ‘टुनटुन’ की। बॉलीवुड की फिल्मों में लोगों को अपनी एक्टिंग से हंसाने वाली टुनटुन ने सफलता के मुकाम तक पहुंचने के लिए बहुत ज्यादा संघर्ष किया था। 

actress tun tun uma devi

टुनटुन ने लोगों के घरों में झाड़ू तक लगाई 

टुनटुन का जन्म हरियाणा में पैदा हुआ था और कम उम्र में ही उनके माता-पिता का निधन हो गया था। यूपी में उनके एक चाचा ने उन्हें पाला-पोसा लेकिन पढ़ाया-लिखाया इसलिए नहीं क्योंकि उहें लगता था कि पढ़ाने से लड़की बिगड़ जाएगी। 

Read more: 13 साल की उम्र में हुआ बलात्कार, दर्द भरी कहानी है देश की पहली करोड़पति गायिका की

टुनटुन रेडियो और नूरजहां की दीवानी थी फिर एक दिन फिल्मों में गायिका बनने का सपना लिए वो भाग कर मुंबई पहुंच गईं लेकिन किस्मत ने उन्हें गायिका उमा नहीं अभिनेत्री टुनटुन के रूप में मशहूर कर दिया। 

actress tun tun uma devi

मुंबई आने के बाद टुनटुन ने लोगों के घरों में झाड़ू तक लगाई। कुछ समय बाद टुनटुन एक्टर गोविंदा के पिता अरुण कुमार आहूजा से मिली। उन्होंने कई संगीतकारों से टुनटुन को मिलवाया। संगीतकार अल्लारखा ने उनसे एक गाना भी गवाया और इसके लिए 200 रुपए भी दिए लेकिन टुनटुन तो नौशाद के साथ गाना चाहती थीं। 

कई उदास लोगों को हंसाया 

टुनटुन बॉलीवुड की एक ऐसी एक्ट्रेस थीं जिनके चेहरे को देखने के बाद कई उदास चेहरों पर मुस्कान आ जाती थी। रेडियो सुनकर रियाज करने वालीं टुनटुन की मुंबई में मुलाकात नौशाद से हुई और उनके सामने वह जिद पर अड़ गई थीं कि अगर उनको गाने का मौका नहीं मिला तो वह उनके घर से कूद जाएंगी। इसके बाद उन्होंने सुपरहिट गाना ‘अफसाना लिख रही हूं’ को गया था। 

actress tun tun uma devi

टुनटुन पर्दे पर सुपरहिट एक्टर दिलीप कुमार के साथ आना चाहती थीं। साल 1950 में फिल्म ‘बाबुल’ में उन्हें ये मौका भी मिला। इस फिल्म के एक सीन में दिलीप कुमार को टुनटुन पर गिरना था। बस इसी के बाद से ही दिलीप कुमार ने उमा देवी का नाम टुनटुन रख दिया। साथ ही वह इंडिया की पहली महिला कॉमेडि‍यन भी बन गईं। टुनटुन ने अपने 50 साल के करियर में कई बड़े स्टार्स के साथ काम किया और 24 नवंबर 2003 को दुनिया को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया। 

  • Kirti Jiturekha Chauhan
  • Her Zindagi Editorial